आपसी सामंजस्य के अभाव व आरोप-प्रत्यारोप से हंगामे की भेंंट चढ़ी नगर परिषद बैठक

बैठक में पार्षदों ने कहा, विकास कार्यों में भेदभाव कर रहे हैं आयुक्त चौधरी, आयुक्त बोले, पार्षदों के खुद के काम नहीं होने पर करते हैं हंगामा।

By: Dharmendra gaur

Published: 04 Jan 2018, 10:56 PM IST

पहली बार महिला पार्षदों ने खुलकर रखी अपनी बात
नागौर. नगर परिषद सभापति कृपाराम सोलंकी की अध्यक्षता में बुधवार को आरोप-प्रत्यारोपों के बीच करीब दो घंटे चली बैठक हंगामेदार रही। नेता प्रतिपक्ष ओमप्रकाश सांखला समेत अन्य पार्षदों ने आरोप लगाया कि नगर परिषद की ओर से समय समय पर विकास कार्यों के लिए निविदा की जाती है लेकिन ठेकेदार काम नहीं करते। जब उनसे पूछते हैं तो ठेकेदार कहते हैं कि परिषद की ओर से भुगतान नहीं करने के कारण वे काम नहीं कर पा रहे हैं। बैठक में पार्षदों ने सभापति के हस्ताक्षर के बिना पट्टे जारी करने का मामला उठाया,जिसको लेकर काफी हंगामा हुआ। हालांकि आयुक्त श्रवण चौधरी ने कहा कि सब कुछ नियमानुसार ही किया है।
पुराने पट्टों की होगी जांच
सभापति सोलंकी ने कहा कि उनके हस्ताक्षर की जरुरत नहीं है तो सारे काम ऐसे ही करवा लिए जाए। उन्होंने आयुक्त डॉ. अमित यादव से गलत तरीके से बने पट्टों की जांच करवाने की मांग की। इसी बीच पार्षद हरीराम जाखड़ ने कहा कि बहुत सी बिल्डिंगें नियम विरुद्ध बनी है, उनकी भी जांच करवाओ। आयुक्त श्रवण चौधरी ने कहा कि शहर में अब तक बने सभी पट्टों की जांच होनी चाहिए। कार्यवाहक आयुक्त डॉ. अमित यादव ने कहा कि तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर पुराने पट्टों की जांच करवाएंगे। वित्त समिति अध्यक्ष मनोहर सिंह राठौड़ ने कहा कि सफाई कर्मचारियों के भर्ती के लिए प्रस्ताव सरकार को भिजवाया जाए।
जवाब हमें देना पड़ता है
पार्षद सरोज प्रजापत ने कहा कि आपसी खींचतान में शहर में विकास कार्य ठप है। विकास कार्यों में भेदभाव किया जा रहा है। हाउसिंग बोर्ड व दीप कॉलोनी में सीवरेज के अभाव में पानी सडक़ों पर पड़ा रहता है। आयुक्त साब, आप आज यहां हो, कल कहीं ओर होंगे, लेकिन हमें यहीं रहना है। हम जनप्रतिनिधि हैं, हमें लोगों को जवाब देना पड़ता है। विभागों में आपसी सामंजस्य के अभाव में गौरव पथ का काम अधूरा पड़ा है। नालियों के अभाव में पानी की निकासी नहीं हो रही है। साफ सफाई नहीं होने के कारण दिक्कत हों रही है। पार्षदों ने कहा कि शहर को छोडकऱ बाहरी कॉलोनियों में पहले सीवरेज का काम किया जा रहा है।
लाइट व्यवस्था सुचारू हो
आयुक्त ने कहा कि रुडिप अधिकारी काम शुरूर करने से पहले पार्षद को सूचना देंगे। पार्षद नरेश पुरोहित ने शहर में लाइट व्यवस्था को लेकर कंपनी का अनुबंध समाप्त करने या वैकल्पिक व्यवस्था के लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव भिजवाने की बात कही। इस पर आयुक्त यादव ने कहा कि इस संबंध में प्रभारी सचिव व डिस्कॉम एसई से बात की है। पार्षद कैलाश पंवार ने कचरा पात्र व सीसी रोड निर्माण करने, नौरती देवी ने वार्ड में पानी की लाइन बिछाने, हेमलता कंसारा ने सडक़ निर्माण, अमित सारस्वत ने नालों की सफाई, जयकुमार ने विकास कार्य करवाने की बात कही। मुजाहिद ने बी रोड सडक़ बनाने व मांस की अवैध दुकानों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

पार्षदों ने रखी अपनी बात
पार्षद लालचंद ने विकास कार्यों में हुई अनियमितताओं की जांच करवाने, मनोनीत पार्षद मनीष बंसल ने आपसी शहर के विकास पर ध्यान देने, संजू कच्छावा व रेखा भाटी ने सफाई व विकास कार्य करवाने की मांग की। आयुक्त यादव ने कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण में सभी शहरवासियों का भी सहयोग जरुरी है, इसलिए पार्षद उन्हें जागरूक करें ताकि शहर की रेंकिंग बेहतर होने पर सरकार से अच्छा बजट मिल सके। उन्होंने कहा कि डोर टू डोर कचरा संग्रहण जरूरी है। पप्पू तंवर ने कहा कि अनुदान बढाने के लिए सरकार को प्रस्ताव भिजवाया जाए।
आय के लिए जुटाएंगे स्रोत
मनोहर सिंह राठौड ने परिषद की आय में वृद्धि के लिए नियमितीकरण, भूखंडों की नीलामी आदि का प्रस्ताव रखा। जिस पर सभापति सोलंकी ने कहा कि जो खसरे नगर परिषद को हस्तांतरित किए जा चुके हैं उनसे अतिक्रमण हटाकर या नियमानुसार नियमन की कार्रवाई की जाए ताकि राजस्व में वृद्धि हो। सोलंकी ने कहा कि पुराना बस स्टैण्ड में बसों के अलावा किसी से प्रवेश शुल्क नहीं लिया जाए। बैठक में रिजका विक्रेताओं को कांजी हाउस के पास ही रिजका बेचने के लिए पाबंद करने का प्रस्ताव लिया गया। बैठक में सचिव नरेन्द्र बापेडिय़ा, कर्मचारी व पार्षद उपस्थित थे।

 

...और गर्मा गया मामला
वार्डोंं में विकास कार्य नहीं होने के आरोप पर आयुक्त श्रवण चौधरी ने कहा कि चेयरमैन साब की मंशा होगी तो काम हो जाएगा। जिस पर ये साइन करते हैं वो काम हो जाता है। इस पर सभापति सोलंकी ने कहा कि मंशा क्या होती है। हम तो कहते हैं सबका काम होना चाहिए। काम करने से मना किसने किया है। एक भी ऐसा काम है तो बताओ। चहेतों के वार्ड में ज्यादा व उनके वार्ड में काम कम होने संबंधी पार्षद जाखड़ की टिप्पणी पर सोलंकी ने कहा कि एस्टीमेट एईएन, जेईएन बनाते हैं, वो खुद नहीं। सोलंकी ने एईएन नरेन्द्र चौधरी से पूछा कि, क्या कभी उनको किसी वार्ड में काम करने मना किया है तो बताओ। इस पर एईएन बोले, काम के लिए कभी मना नहीं किया है।

बैठक में इन पर भी हुई चर्चा
-श्रेष्ठ तीन स्वच्छ वार्डों को मिलेगा पुरस्कार
-26 जनवरी को सम्मानित होंगे श्रेष्ठ 5 पार्षद
-आठ जमादारों को मिलेंगे स्मार्ट मोबाइल फोन
-अनुदान बढाने सरकार को भेजेंगे प्रस्ताव
-भूखंडों की नीलामी से जुटाएंगे राजस्व
-पट्टों की जांच करेगी तीन सदस्यीय कमेटी
-हर एक वार्ड में खर्च होंगे दस-दस लाख रुपए
-प्रतिष्ठानों से वसूला जाएगा 50 रुपए शुल्क
-एमजेएसए के तहत होगा तालाबों का विकास
-विभिन्न स्थानों की श्रेणी के काम होंगे निरस्त
-काम नहीं करने वाले ठेकेदार होंगे ब्लेक लिस्ट

Dharmendra gaur Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned