नागौर में 8 सितम्बर को दो लाख लोगों का किया जाएगा कोरोना वैक्सीनेशन

जिले में मंगलवार को आयोजित टीकाकरण सत्रों में 2 लाख लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए पहली व दूसरी डोज लगाई जाएगी

By: shyam choudhary

Published: 07 Sep 2021, 10:45 AM IST

नागौर. मिशन अगेंस्ट कोरोना के तहत हैल्थ टीम को जिले को कोरोना मुक्त बनाने में सफलता हासिल करने के बाद तीसरी लहर के संक्रमण से आमजन को सुरक्षित करने के लिए वैक्सीनेशन अभियान को भी युद्ध स्तर पर संचालित कर रही है।
जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी के निर्देशानुसार जिले में 8 सितम्बर को कोविड वैक्सीनेशन महाअभियान आयोजित किया जाएगा। इस महाअभियान के तहत जिले के विभिन्न ब्लॉक में टीकाकरण सत्र आयोजित किए जाएंगे। जिले में मंगलवार को आयोजित टीकाकरण सत्रों में 2 लाख लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए पहली व दूसरी डोज लगाई जाएगी।

कलक्टर डॉ. सोनी ने सोमवार को बैठक लेते हुए सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिले में पिछली बार रिकॉर्ड तोड़ वैक्सीनेशन की तरह एक बार फिर 8 सितंबर को एक ही दिन में 2 लाख लोगों के वैक्सीनेशन करवाने का लक्ष्य रखा गया है। जिसमें जिले के सभी विभागों के अधिकारी व कर्मचारी सहयोग करेंगे। कलक्टर ने बताया कि 8 सितंबर को जिलेभर में आयोजित होने वाली प्री-टीचर एज्युकेशन परीक्षा में सभी अभ्यर्थियों के टीके लगाए जाएंगे, जिसमें परीक्षा केंद्र के सभी शिक्षकों का सहयोग लिया जाएगा। वहीं जिलेे के ग्राम विकास अधिकारी, पटवारी, ई-मित्र संचालक, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, स्काउट गाइड, विभिन्न संस्थाओं व स्कूलों के सहयोग तथा सभी विभागीय अधिकारियों व कार्मिकों के सहयोग से एक ही दिन में दो लाख लोगों का वैक्सीनेशन करवाने का लक्ष्य पूरा किया जाएगा। इसके लिए जिले में टीकाकरण से वंचित रहे सभी लोगों से टीकाकरण करवाने की अपील की गई।

इधर, कोविड स्वास्थ्य सहायकों को तीन महीने बाद भी नहीं मिला मानदेय
नागौर. कोरोना महामारी में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिले में लगाए गए 1600 से अधिक कोविड स्वास्थ्य सहायकों को तीन माह बाद भी मानदेय नहीं मिला है। इसको लेकर सोमवार को नर्सिंग छात्र संगठन भारत की ओर से जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा गया। संगठन के अजमेर संभाग संयोजक मुकेश बांगड़ा, जिला संयोजक मुकेश गांधी, पुखराज नागौरा, अजय शर्मा, अमित देवल, जावेद खान, रवि एवं अमित आदि ने ज्ञापन में बताया कि राजस्थान सरकार के आदेश पर जिले में लगाए गए कोविड स्वास्थ्य सहायकों को तीन महीने हो गए, लेकिन अब तक उन्हें मानदेय का भुगतान नहीं किया गया है, जिससे महंगाई के दौर में उनका घर चलाना मुश्किल हो रहा है, क्योंकि ज्यादातर कोविड स्वास्थ्य सहायक जरूरतमंद परिवार से सम्बन्ध रखते हैं। ज्ञापन में बताया कि पूर्व में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने नगर परिषद नागौर व मकराना के आयुक्त को दो बार पत्र लिखकर मानदेय देने के लिए स्मरण करवाया जा चुका है, इसके बावजूद कोई राहत नहीं मिली है।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned