नागौर में सुबह 9 से शाम 5 बजे तक खुली रहेंगी किराणा व सब्जी की दुकानें

- शहर में डोर-टू-डोर किराणा सामान की सप्लाई करेंगे व्यापारी, जिला प्रशासन ने जारी किए पास
- निजी वाहनों पर जारी रहेगी पाबंदी, बेवजह बाहर निकले तो होगी सख्त कार्रवाई

नागौर. कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देशभर में लागू किए गए लॉकडाउन से लोग किराणा सामान, सब्जी व दूध के लिए परेशान नहीं हो, इसको लेकर बुधवार को जिला प्रशासन ने महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए दुकानें खोलने के समय में परिवर्तन किया है। जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव ने बुधवार को कलक्ट्रेट सभागार में प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि अब किराणा दुकानों के व्यापारी सुबह 9 से शाम 5 बजे तक दुकान खोल सकेंगे। इसके साथ शहर के करीब 40 ऐसे व्यापारियों को पास जारी किए जा रहे हैं, जो डोर-टू-डोर किराणा सामान की सप्लाई करेंगे। उन्होंने बताया कि किराणा व सब्जी व्यापारियों से चर्चा के बाद सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया है।
इसके साथ सब्जी की सप्लाई मोहल्लों में करने के लिए पूर्व में करीब 50 ठेला चालकों को पास जारी किए जा चुके हैं और इतने ही और जारी कर रहे हैं, ताकि सब्जी के लिए लोगों को दुकानों पर भीड़ में खड़ा नहीं रहना पड़े। कलक्टर यादव ने बताया कि उन्होंने सब्जी विक्रेताओं से इस बात के लिए भी कहा है कि वे शहर में प्रत्येक मोहल्ले में यह एनाउंसमेंट करवाएं कि सब्जी खरीदने बाजार नहीं जाए, लोगों के घर तक सब्जी आ जाएगी। यही व्यवस्था दूध बेचने वालों के लिए भी रहेगा, उन्हें भी पूरी छूट दी गई है, बशर्ते व्यवस्था नहीं बिगड़े।
गौरतलब है कि गत 23 मार्च को जिला प्रशासन ने दूध, सब्जी व किराणा दुकानों को समय निर्धारित किया था, लेकिन समय कम होने से भीड़ ज्यादा होने लगी, जिसको देखते हुए समय बढ़ाया गया है, ताकि भीड़ न हो और लोगों के बीच दूरी बनी रहे।


वाहनों पर पाबंदी सख्ती से लागू रहेगी
कलक्टर यादव ने बताया कि निजी वाहनों पर पाबंदी सख्ती से लागू रहेगी। इसमें जो भी बिना काम सडक़ों पर आएंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। जरूरी सेवाओं को छोडकऱ सडक़ों पर घूमने वाले वाहनों को सीज किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यदि किसी व्यक्ति को आपातकालीन आवश्यकता है तो वे सम्बन्धित उपखंड अधिकारियों, तहसीलदार, जिला परिवहन अधिकारी को अधिकृत कर रखा है, जो पास जारी करेंगे। खाद्य सामग्री वितरण से सम्बन्धित वाहनों को अनुमति देने के लिए जिला रसद अधिकारी को अधिकृत कर रखा है।


हल्के में न लें, एक व्यक्ति चपेट में गया तो मुश्किल हो जाएगी
कलक्टर यादव ने जिले की जनता से अपील करते हुए कहा कि जिन लोगों को चिकित्सा विभाग ने होम क्वारंटाइन में रखा है, उन्हें घर के कमरे में सबसे अलग रहना है, जब कि 15 दिन बाद उनकी वापस जांच नहीं हो जाती। कोई भी व्यक्ति लापरवाही नहीं बरतें। एक भी व्यक्ति यदि संक्रमित हो गया तो बहुत बड़ी मुश्किल हो जाएगी।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned