Video : ढाई साल बाद भ्रष्ट अधिकारी तो बहाल पर नहीं सुधारे हाल

shyam choudhary

Publish: Feb, 15 2018 11:45:42 AM (IST)

Nagaur, Rajasthan, India

धूल फांक रहे डॉ. भीमराव अम्बेडकर आवासीय योजना के मकान, हाउसिंग बोर्ड के अधिकारी बोले, कार्रवाई हो गई

नागौर. नागौर शहर के बालवा रोड स्थित डॉ. भीमराव अम्बेडकर आवासीय कॉलोनी के मकानों के निर्माण कार्य में अनियमितता बरतने पर 5 नवम्बर 2015 को निलम्बित किए गए हाउसिंग बोर्ड के चारों अधिकारी जांच की औपचारिकता के बाद बहाल कर दिए गए हैं। आलम यह है कि कॉलोनी की दशा में एक प्रतिशत भी सुधार नहीं हो पाया है। बोर्ड मुख्यालय के उच्चाधिकारियों का कहना है कि केस का निपटारा हो गया, जबकि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने तो 25 महीने की जद्दोजहद के बाद भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ मामला ही दो महीने पहले दर्ज किया है। अब बड़ा सवाल यह है कि एक तरफ सरकार की एक जांच एजेंसी (एसीबी) मकानों के निर्माण में हुए भ्रष्टाचार की जांच कर रही है, वहीं सरकार का ही एक विभाग कह रहा है कि केस का निपटारा हो गया। ऐसे में इस कार्रवाई पर ही सवाल खड़ा हो गया है।

इनके खिलाफ दर्ज हुआ मामला
कॉलोनी के सेक्टर 2 व 3 से एसीबी द्वारा लिए गए कुल 15 सैम्पल की जांच रिपोर्ट मानक स्तर की नहीं पाए जाने पर दिसम्बर-2017 में छह अधिकारियों व दो ठेकेदारों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। इसमें हाउसिंग बोर्ड के आवासीय अभियंता सर्वेश शर्मा, पीएम डिंगरवाल व हाकमचंद पंवार एवं एईएन एसएस साद, बीएल मीणा व पीके माथुर शामिल हैं, जबकि ठेकेदार जयनारायण गोदारा व जुगलसिंह को एसीबी ने आरोपित बनाया है।
चार अधिकारियों को किया था निलम्बित
डॉ. भीमराव अम्बेडकर आवासीय कॉलोनी के मकानों के निर्माण कार्य में अनियमितता बरतने का मामला सरकार के ध्यान में आने पर हाउसिंग बोर्ड ने नागौर में सेवाएं दे चुके एवं देने वाले चार अधिकारियों को 5 नवम्बर 2015 को निलम्बित किया था। इसमें तत्कालीन आवासीय अभियंता सर्वेश शर्मा, बीकानेर आवासीय अभियंता पीएम डिंगरवाल, नागौर के परियोजना अभियंता एसएस साद एवं हनुमानगढ़ के परियोजना अभियंता बीएल मीणा को निलम्बित किया गया था।
पत्रिका ने उठाया था मुद्दा
बालवा रोड स्थित आवासीय कॉलोनी के मकानों में भ्रष्टाचार का मामला राजस्थान पत्रिका ने प्रमुखता से उठाया था, जिसके बाद राज्य सरकार ने घटिया निर्माण कार्य की जांच के आदेश दिए थे। सरकार के आदेश के बाद एसीबी अधिकारियों ने 29 अक्टूबर 2015 की रात करीब 10 बजे कॉलोनी के सेक्टर 2 व 3 से कुल 15 सैम्पल लिए। वहीं पांच दिन बाद बोर्ड ने मामला ठंडा करने के लिए चार अधिकारियों को निलम्बित कर दिया।

निलम्बित को कर दिया बहाल
नागौर की डॉ. भीमराव अम्बेडकर आवासीय कॉलोनी के मकानों के निर्माण कार्य में अनियमितता बरतने के मामले में निलम्बित आवासीय अभियंता सर्वेश शर्मा, आवासीय अभियंता पीएम डिंगरवाल व परियोजना अभियंता एसएस साद को दंडित करने तथा परियोजना अभियंता बीएल मीणा की भूमिका नहीं होने पर उन्हें बिना दंडित किए बहाल किया गया है।
अनिल कौशिक, सचिव, आवासन मंडल, जयपुर

केस का निपटारा हो गया
भ्रष्टाचार मामले में निलम्बित अधिकारियां के केस का निपटारा तो हो गया। उनके खिलाफ जो कार्रवाई करनी थी, वो हो चुकी है।
डॉ.कुंजबिहारी गुप्ता, आवासन आयुक्त, जयपुर

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned