scriptCrop damaged more than 50 percent, claim received 99 rupees | Video : ये कैसा फसल बीमा; फसल खराबा हुआ 50 प्रतिशत से अधिक, क्लेम मिला 99 रुपए | Patrika News

Video : ये कैसा फसल बीमा; फसल खराबा हुआ 50 प्रतिशत से अधिक, क्लेम मिला 99 रुपए

बीमा कम्पनी ने किसानों के साथ किया धोखा, किसानों का हक मारने में राजस्व विभाग भी नहीं रहा पीछे

 

नागौर

Published: March 26, 2022 04:36:29 pm

नागौर. नागौर में फसल बीमा कम्पनी रिलायंस इंश्योरेंस कम्पनी ने किसानों के साथ भद्दा मजाक किया है। खरीफ-2021 में अतिवृ ष्टि से फसलें बर्बाद होने के बावजूद बीमा कम्पनी ने बीमित किसानों के खातों में 99, 189, 150 रुपए का क्लेम जमा करवाया है। हालांकि कम्पनी धीरे-धीरे किसानों के खातों में क्लेम रा शि जमा करवा रही है, इसलिए जिले में कुल क्लेम का आंकड़ा सामने नहीं आया है, लेकिन जायल तहसील के बोड़वा व पातेली के किसानों के खातों में जब ये नाममात्र की रा शि जमा हुई तो वे चकित रह गए।
गौरतलब है कि राजस्थान सरकार के आपदा एवं प्रबंधन विभाग ने जायल तहसील के सभी 142 गांवों में 50 प्रतिशत से अधिक फसल खराबा माना है और कृ षि आदान अनुदान के लिए चयनित किया है। ऐसे में बीमा कम्पनी द्वारा प्रीमियम का 10 प्रतिशत क्लेम देकर किसानों के घाव पर नमक लगाने का काम किया है।
कम्पनी ने फसलों को हुए नुकसान को कम आंक कर झूठे तथ्य प्रस्तुत किए, जिससे किसानों को भारी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है।
Crop damaged more than 50 percent, claim received 99 rupees
Crop damaged more than 50 percent, claim received 99 rupees
814 रुपए प्रति हैक्टेयर भरा प्रीमियम, 189 रुपए मिला क्लेम
जायल तहसील के बोङवा गांव के श्रवणराम ने बताया कि उसने डेढ हैक्टेयर (9 बीघा) का फसल बीमा करवाया, जिसमें 814 रुपए प्रति हैक्टेयर के हिसाब से प्रीमियम को-ऑपरेटिव बैंक द्वारा काटा गया। अब डेढ हैक्टेयर का क्लेम 189 रुपए मिला है। जबकि राजस्व विभाग ने पूरे गांव में 50 से 75 प्रतिशत फसल खराबा माना है।
इसी गांव के हङमानराम ने बताया कि उसके चार बीघा का बीमा किया गया, जिसका क्लेम 99 रुपए मिला है।

फेक्ट फाइल

  • नागौर जिले खरीफ 2021 में रिलायंस इंश्योरेंस कम्पनी ने 5.19 लाख फसल बीमा किए।
  • कुल बीमित एरिया - 3.91 लाख हेक्टेयर
  • 28.95 करोङ रुपए किसानों का प्रीमियम शेयर
  • 112.74 करोङ रुपए राज्य सरकार के और इतने ही केन्द्र सरकार के
  • 254.43 कुल प्रीमियम राशि
राजस्व विभाग ने 404 गांवों को माना अभावग्रस्त
नागौर जिले में खरीफ-2021 में अतिवृष्टि व बेमौसम बारिश से फसलें खराब होने पर जायल, परबतसर व मकराना तहसील के 396 गांवों में ही फसल खराबा माना गया है, नागौर के आठ व खींवसर के तीन गांवों को सूखे से प्रभावित मानते हुए कृषि आदान-अनुदान के लिए पात्र माना है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

जम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातज्ञानवापी मस्जिद मामलाः सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई एक और याचिका, जानिए क्या की गई मांगऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरये हमारा वादा है, ताइवान पर चीनी हमले का अमरीका देगा सैन्य जवाब: US President Joe Biden"मेरे लिए ये कोई नई बात नहीं है'- IPL में खराब प्रदर्शन को लेकर Rohit Sharma की प्रतिक्रियासिद्धू की जिद ने उन्हें पहुंचाया अस्पताल, अब कोर्ट में सबमिट होगी रिपोर्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.