scriptCrores of nutrition not distributed in Nagaur | नागौर में करोड़ों का पोषाहार बंटा नहीं ...तो फिर कौन ‘जीम’ गया आंगनबाड़ी का ‘पोषाहार’ | Patrika News

नागौर में करोड़ों का पोषाहार बंटा नहीं ...तो फिर कौन ‘जीम’ गया आंगनबाड़ी का ‘पोषाहार’

आंगनबाड़ी से वितरित होने वाले पोषाहार की बंदरबांट
- जिम्मेदार बोले - हमने बांट दिया, पात्र बोले - मिला ही नहीं

- सूत्र बोले - 40 -30-30 % में बंट गया बच्चों व धात्री-गर्भवती महिलाओं का पोषाहार

नागौर

Published: March 05, 2022 10:23:33 am

नागौर. आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से बच्चों, किशोरियों एवं धात्री-गर्भवती महिलाओं को हर महीने दिया जाने वाला पोषाहार पिछले पांच महीने में मात्र एक बार दिया गया है, यानी चार महीने का पोषाहार कौन जीम गया, इसे लेकर जिम्मेदार तरह-तरह के बहाने बना रहे हैं। राजस्थान राज्य खाद्य निगम के प्रबंधक का कहना है कि उन्होंने दिसम्बर तक के पोषाहार में गेहूं और चावल का 98.52 प्रतिशत वितरण कर दिया है, जबकि चने की दाल का 53 प्रतिशत वितरण किया है। वहीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने दिसम्बर तक का पोषाहार वितरित कर दिया है, जबकि नागौर सीडीपीओ दुर्गासिंह उदावत का कहना है कि उनके पास जुलाई तक की जानकारी है। इसके बाद कहां कितना पोषाहार वितरित किया गया, इसकी जानकारी अब ले रहे हैं।
Crores of nutrition not distributed in Nagaur
Crores of nutrition not distributed in Nagaur
सूत्रों के अनुसार आंगनबाड़ी केन्द्रों पर छह माह के बच्चे से लेकर छह साल तक के बच्चों, किशोरी बालिकाओं एवं धात्री-गर्भवती महिलाओं को हर महीने दिया जाने वाला पांच माह का पोषाहार बांटने वालों ने आपस में बांट लिया। यानी पोषाहार का गेहूं, चावल व दाल पात्रों के घर तक पहुंचने की बजाए बीच में ही गायब हो गया और कागजों में वितरण बता दिया। पोषाहार वितरण में अनियमितता की जानकारी मिलने पर पत्रिका संवाददाता ने नागौर शहर की महाराणा प्रताप कॉलोनी, कुम्हारी दरवाजा, किदवई कॉलोनी, मेजर करीम नगर, सांसी बस्ती, नायक बस्ती सहित अन्य बस्तियों में पात्र महिलाओं एवं बच्चों के अभिभावकों से जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि जुलाई के बाद केवल एक बार पोषाहार दिया है।
जानिए, किसको क्या मिलता है

- 6 माह से 6 वर्ष तक के बच्चों को सवा किलो गेहूं, सवा किलो चावल तथा 2 किलो चना दाल दी जा रही है।

- किशोरी बालिकाओं व गर्भवती-धात्री महिलाओं को डेढ़-डेढ़ किलो गेहूं-चावल तथा 3 किलो चना दाल दी जा रही है।
- 6 माह से 6 वर्ष तक के अति कुपोषित बच्चों को 2 किलो गेहूं, डेढ़ किलो चावल तथा 3 किलो चना दाल दी जा रही है।

बड़ा सवाल - जिम्मेदार लापरवाह या बताना नहीं चाहते?
खाद्य निगम के प्रबंधक का कहना है कि उन्होंने सितम्बर तक का पूरा पोषाहार सप्लाई कर दिया है, जबकि अक्टूबर से दिसम्बर तक का गेहूं-चावल 98.52 प्रतिशत तथा 53 प्रतिशत चने की दाल का वितरण कर दिया है। इधर, सीडीपीओ का कहना है कि उन्हें इस बात की अभी तक जानकारी नहीं है। वे अब सेंटर से इसकी जानकारी जुटा रहे हैं।
तीन महीने में 30 हजार क्विंटल पोषाहार

खाद्य निगम के अनुसार जिले में हर तीन महीने में पोषाहार सप्लाई होता है। अक्टूबर से दिसम्बर की तिमाही में 29,440 क्विंटल पोषाहार मिला है, इसमें गेहूं 7808 क्विंटल, चावल 7801 क्विंटल एवं चना दाल 13,831 क्विंटल है। पांच महीने में 40 हजार क्विंटल से अधिक पोषाहार का घोटाला हुआ है।
कार्रवाई से नहीं लिया सबक

नागौर में साढ़े तीन साल पहले डेगाना में एसीबी ने प्रदेश का सबसे बड़ा पोषाहार घोटाला उजागर किया था। जिसमें एसीबी ने ठेकेदार सहित जिले की मुख्य अधिकारी को गिरफ्तार किया था। एसीबी ने जांच के बाद पोषाहार में करोड़ों रुपए का घोटाला उजागर किया और हजार पन्नों का चालान पेश किया था। कार्रवाई को अभी ज्यादा समय नहीं हुआ है, इसके बावजूद जिम्मेदार वापस उसी राह चल रहे हैं।
सात महीने में एक बार दिया

मेरा आंगनबाड़ी केन्द्र में गर्भवती होने के बाद पंजीकरण किया गया, लेकिन पिछले सात महीने में केवल एक बार पोषाहार के रूप में दो-दो किलो दाल, चावल व गेहूं दिए।
- नीमा, धात्री महिला, कुम्हारी दरवाजा, नागौर

एक बार भी नहीं दिया पोषाहार

गर्भवती होने के बाद मेरा आंगनबाड़ी केन्द्र संख्या 3 में पंजीकरण किया गया, लेकिन एक बार फिर पोषाहार नहीं मिला।
- पूजा, धात्री महिला, नायक बस्ती, नागौर

दिसम्बर तक का पोषाहार दे दिया

शहर के 4 नम्बर वार्ड की आंगनबाड़ी ‘बी’ में 12 महिलाओं व 40 बच्चों को दिसम्बर माह तक का पोषाहार वितरित कर दिया है।
- संतोष चौधरी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, वार्ड 4

अभी जानकारी एकत्र कर रहे हैं

नागौर ब्लॉक में जुलाई के बाद कहां कितनी सप्लाई हुई है, इसलिए जानकारी अभी हमारे पास नहीं है। आंगनबाड़ी सेंटर से जानकारी जुटा रहे हैं, तैयार होने में दो-तीन दिन लगेंगे।
- दुर्गासिंह उदावत, सीडीपीओ, नागौर

हम तो पोस्ट ऑफिस की तरह हैं

आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पोषाहर की सप्लाई राजस्थान राज्य खाद्य निगम कर रहा है। पोषाहार की जानकारी सीडीपीओ ही बता पाएंगे, हम तो पोस्ट ऑफिस की तरह है, बीच की कड़ी। सूचना लेकर आगे देते हैं।
- सिकरामाराम, उप निदेशक, महिला एवं बाल विकास विभाग, नागौर।

गेहूं-चावल की सप्लाई कर चुके

अक्टूबर से दिसम्बर तक की गेहूं व चावल की सप्लाई लगभग पूरी हो चुकी है, जबकि दाल की सप्लाई चल रही है। दाल अभी पूरी मिली नहीं है। सितम्बर तक की सप्लाई पहले ही पूरी कर चुके हैं।
- सुनील शर्मा, मैनेजर, राजस्थान राज्य खाद्य निगम, नागौर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

सेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'Women's T20 Challenge: वेलोसिटी ने सुपरनोवास को 7 विकेट से हरायानवजोत सिंह सिद्धू को जेल में मिलेगा स्पेशल खाना, कोर्ट ने दी अनुमतिSSC घोटाले के बाद अब बंगाल में नर्सों की नियुक्ति में धांधली, विरोध प्रदर्शन के बीच पुलिस और स्टूडेंट्स में हुई झड़प
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.