scriptDespite crop failure, villages are not declared famine-hit in Nagaur | दाल में काला है : फलियों में उगे थे मूंग, डोडों में कपास, फिर भी नहीं माना अकाल | Patrika News

दाल में काला है : फलियों में उगे थे मूंग, डोडों में कपास, फिर भी नहीं माना अकाल

8 तहसीलों में परबतसर से ज्यादा बारिश, फिर भी एक गांव अकालग्रस्त नहीं
- खरीफ-2021 में फसल खराबे के बावजूद गांवों को अकालग्रस्त घोषित नहीं करने पर घिरी सरकार
- जिले की मेड़ता, लाडनूं, डीडवाना, मूण्डवा, नावां, कुचामन, रियांबड़ी व डेगाना तहसीलों में वर्ष 2021 में परबतसर व जायल तहसील से ज्यादा हुई थी बारिश, फिर भी नहीं माना खराबा
- लाडनूं व डीडवाना विधायकों ने विधानसभा में प्रश्न लगाकर मांगी जानकारी, अब जवाब देने में आ रहे पसीने

नागौर

Updated: March 26, 2022 04:08:15 pm

श्यामलाल चौधरी
नागौर. जिले में खरीफ-2021 में जिले के सैकड़ों गांवों में अतिवृष्टि व बेमौसम बारिश से फसलें खराब होने के बावजूद जायल, परबतसर व मकराना तहसील के 396 गांवों में ही फसल खराबा माना गया है, जबकि नागौर के 8 व खींवसर के तीन गांवों को सूखे से प्रभावित मानते हुए कृषि आदान-अनुदान के लिए पात्र माना है। जबकि जिला प्रशासन के आंकड़े बता रहे हैं कि वर्ष 2021 में सबसे अधिक 947 एमएम बारिश ही मेड़ता तहसील में हुई थी, इसी प्रकार मूण्डवा, रियां बड़ी, लाडनूं, डीडवाना, कुचामन, नावां व डेगाना में भी जायल व परबतसर से अधिक बारिश रिकॉर्ड की गई, इसके बावजूद आठों तहसील का एक भी गांव कृषि आदान अनुदान के लिए चयनित नहीं किया गया है, इससे प्रशासनिक अधिकारियों एवं राजस्व विभाग के कर्मचारियों की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि बरसात से भीगने से न केवल मूंग की दाल काली हुई, बल्कि गांवों को अकालग्रस्त घोषित करने की प्रक्रिया में भी कुछ काला है। हालांकि दाल में काला की आशंका को देखते हुए जिले के लाडनूं व डीडवाना विधायकों ने विधानसभा में सवाल लगाकर जानकारी मांगी है, अब सरकार व राजस्व विभाग को जवाब देने में पसीना आ रहा है।
गौरतलब है कि खरीफ-2021 की सीजन में नागौर जिले की आधी से ज्यादा तहसीलों में अतिवृष्टि से तो नागौर व खींवसर जैसी तहसील में कम बारिश के कारण फसलें नष्ट हो गई थीं। मेड़ता, मूण्डवा, डेगाना, डीडवाना, रियां बड़ी आदि तहसीलों में फसलें पकने के समय हुई बारिश से मूंग, मोठ, कपास, बाजरा व ग्वार आदि की फसलें पूरी तरह खराब हो गई थीं। कई खेतों में मूंग की फसल भीगने से फलियों में ही मूंग के दानों का अंकुरण हो गया था, वहीं कपास की फसल भीगने से डोडों में ही कपास उग गई थीं। अतिवृष्टि से हुई तबाही के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व तत्कालीन राजस्व मंत्री हरिश चौधरी ने विशेष गिरदावरी के निर्देश दिए थे, ताकि प्रभावित किसानों को मुआवजा दिया जा सके, लेकिन राजस्व विभाग के कर्मचारियों एवं अधिकारियों ने नागौर तहसील के 8 व खींवसर के 3 गांवों को सूखे से प्रभावित माना और जायल, परबतसर व मकराना के 396 गांवों को अतिवृष्टि से प्रभावित माना। इससे अन्य तहसीलों के किसानों की उम्मीदों पर पानी फिर गया है।
Despite crop failure, villages are not declared famine-hit in Nagaur
Despite crop failure, villages are not declared famine-hit in Nagaur
आंकड़े बोल रहे हैं, गड़बड़ तो हुई है
जानिए, कहां कितनी बारिश हुई थी
तहसील - कुल बारिश
मेड़ता - 947
मकराना - 799
रियांबड़ी - 647
लाडनूं - 635
डेगाना - 620
डीडवाना - 617
नावां - 611
मूण्डवा - 600
कुचामन - 598
परबतसर - 546
जायल - 507
खींवसर - 454
नागौर - 429
- बारिश के आंकड़े मिलीमीटर में हैं।

प्रशासन ने 404 गांवों को ही माना अकालग्रस्त
सूखे से प्रभावित गांव :
- 50 प्रतिशत से अधिक और 75 प्रतिशत से कम खराबे वाले गांव - तहसील खींवसर के भोजास, सोननगर व झाडेली को शामिल किया।
- 33 प्रतिशत से अधिक व 50 प्रतिशत से कम खराबे वाले गांव - नागौर तहसील के अलाय, कुंकणों की ढाणी, धुंधवालों की ढाणी, नया गांव, बासनी बेहलीमा, हरीमा, सरासनी, पिथासिया को शामिल किया।
अतिवृष्टि से प्रभावित गांव :
- 75 से 100 प्रतिशत खराबे वाले गांव - परबतसर तहसील के 46 गांव
50 से 75 प्रतिशत खराबे वाले गांव - जायल तहसील के 142 गांव, मकराना तहसील के 133 गांव व परबतसर तहसील के 69 गांव शामिल।
- 33 से 50 प्रतिशत खराबे वाले गांव - मकराना तहसील के 5 तथा परबतसर तहसील का एक गांव शामिल है।

लाडनूं व डीडवाना विधायक ने लगाए प्रश्न
गौरतलब है कि वर्ष 2021 में जिले में औसत बारिश 600 मिलीमीटर दर्ज की गई थी, जबकि नागौर की औसत बारिश 369 एमएम है। ज्यादातर बारिश फसलें पकने के समय हुई, जिसके कारण भारी नुकसान हुआ। इसके बावजूद सरकार ने प्रभावित गांवों को अकालग्रस्त घोषित नहीं किया। इसको लेकर लाडनूं विधायक मुकेश भाकर ने विधानसभा में प्रश्न लगाकर सरकार द्वारा फसल खराबे के मुआवजे के लिए तय किए गए मापदंडों की जानकारी मांगी है। साथ ही यह भी पूछा है कि उक्त मापदंडों के तहत वर्ष 2020-21 व 2021-22 में विधानसभा क्षेत्र लाडनूं में कितने किसानों को फसल खराबे का मुआवजा मिला तथा कितने किसान वंचित रहे? साथ ही वंचित रहे किसानों को मुआावजा देने को लेकर सरकार का क्या विचार है?
इसी प्रकार डीडवाना विधायक चेतन सिंह चौधरी ने भी प्रश्न लगाकर पूछा कि क्या यह सही है कि वर्ष 2021 में नागौर जिले में किसानों की खरीफ की फसल 90 प्रतिशत तक खराब हो चुकी थी? यदि हां, तो क्या सरकार व बीमा कम्पनियों द्वारा किसानों को मुआवजा राशि दी गई है? विधायक ने तहसीलवार विवरण मांगा है। गौरतलब है कि न तो सरकार ने मुआवजा दिया है और न ही बीमा कम्पनी ने क्लेम दिया है।
मूंग को खरीदा तक नहीं
खरीफ-2021 में फसलें खराब होने के बावजूद न तो किसानों को कृषि आदान-अनुदान का भुगतान किया गया और न ही खराब हुए मूंग की समर्थन मूल्य पर खरीद की। गत वर्ष जिले में समर्थन मूल्य पर मूंग की 10 फीसदी खरीद भी नहीं हुई, इसका प्रमुख कारण बारिश के कारण मूंग का खराब होना रहा। यानी सरकार के पास इस बात की रिपोर्ट है कि मूंग बारिश से खराब हो गया, जिसके कारण किसानों को 7200 रुपए प्रति क्विंटल बिकने वाला मूंग 4 से 5 हजार रुपए प्रति क्विंटल बेचना पड़ा। साथ ही उत्पादन भी आधे से कम रहा। इसके बावजूद किसानों को राहत नहीं दी। गौरतलब है कि जायल के साथ खींवसर व मूण्डवा में भी मूंग, कपास, मोठ, ग्वार, बाजरा, ज्वार आदि की फसल पूरी तरह खराब हो गई थी।

गड़बड़ की है, मंत्री को पत्र लिखा है
खरीफ-2021 में फसल खराबे के बावजूद खींवसर, मूण्डवा सहित अन्य तहसीलों के गांवों में राजस्व विभाग ने 33 प्रतिशत से कम खराब बता दिया, जिसके कारण कृषि आदान अनुदान का लाभ किसानों को नहीं मिल पाया है। इसको लेकर मैंने आपदा एवं प्रबंधन मंत्री को पत्र लिखा है।
- नारायण बेनीवाल, विधायक, खींवसर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.