scriptDiscussion on future policies and financial data of the bank | बैंक की भावी नीतियों एवं वित्तीय आंकड़ों पर चर्चा | Patrika News

बैंक की भावी नीतियों एवं वित्तीय आंकड़ों पर चर्चा

Nagaur. अरबन बैंक की ऑनलाइन सभा हुई
-बैंक में इंटरनेट बैंकिंग आदि की सुविधाएं बढ़ेंगी
-बैंक की हिस्सा पूंजी 241.66 लाख रु पहुंची

नागौर

Published: October 17, 2021 10:17:08 pm

नागौर. अरबन बैंक के50वें स्थापना दिवस पर रविवार को बालमुकुंद भवन में हुई ऑनलाईन आमसभा में बैंक के वार्षिक वर्ष 2020-21 का प्रतिवेदन को प्रस्तुत करने के साथ ही बैंक की भावी योजना एवं वित्तीय आंकड़ों की प्रगति पर विस्तृत चर्चा हुई। अध्यक्ष जीवनमल भाटी की अध्यक्षता में हुई आमसभा में बताया गया कि बैंक की हिस्सा पूंजी 31 मार्च 2020 को 235.97 लाख रु थी। यह 31 मार्च 2021 को 5.69 लाख रु से बढकऱ 241.66 लाख रु हो गई है। सदस्यता 31 मार्च 2020 तक 11717 थी। अब यह 31 मार्च 2021 को 42 से बढकऱ 11759 हो गई है। बैंक के महाप्रबन्धक हरीश शर्मा ने कहा कि अमानत में 31. मार्च 2020 को बैंक की कुल जमा राशि 7473.09 लाख रु थी। यह राशि 405.62 लाख रु से बढकऱ यह राषि 31.03.2021 को 7878.71 लाख रु हो गई है। ऋण एवं अग्रिम बैंक ने आलोच्य अवधि में भी विभिन्न व्यापारिक गतिविधियों व अन्य क्षैत्रों में ऋण सुविधा उपलब्ध करवाने की नीति जारी है कोरोना कॉल के बावजूद बैंक ऋण व्यवसाय में आंषिक कमी ही आई है। 31 मार्च 2020 को बैंक के कुल बकाया ऋण व अग्रिम 5463.09 लाख रुपये थे। यह राशि 31 मार्च 2021 में 5418.93 लाख रुपए हो गई है। कार्यशील पूंजी 31 मार्च 202. को बैंक की कुल कार्यशील पूंजी 8783.29 लाख रुपये थी। यह राशि 31 मार्च 2021 को 376.43 लाख रु से बढकऱ 9159.72 लाख रुपए हुई है। महाप्रबन्धक शर्मा ने कहा कि शुद्ध लाभ में वित्तीय वर्ष 2019-20 में बैंक 51.60 सकल लाभ में थी। वर्ष 2020-21 में समस्त प्रावधान करने के पश्चात सकल लाभ 115.36 लाख रुपए में से आयकर के लिए 40.31 लाख के पश्चात शुद्व लाभ 75.05 लाख रुपए रहा है। लाभांश में कोविड -19 के कारण भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से 2019-20 के लिए लांभाश वितरण पर रोक है। वर्ष 2020-21 के लाभांश वितरण भारतीय रिजर्व बैंक की अनुमति मिलने के पश्चात ही वितरण किया जा सकेगा। वर्ष 2020-21 में बैंक को ऑडीट वर्गीकरण में अ श्रेणी में वर्गीकृत किया गया है। शर्मा ने कहा कि अवधिपार राशि को जल्द जमा नहीं कराए जाने पर सरफेशी एक्ट के अंर्तगत कुर्की नीलामी की जाएगी। इसमें मुख्य अतिथि पूर्व बैंक अध्यक्ष नित्यानंद जोशी थे। मुख्य अतिथि जोशी ने कहा कि बैंक की ओर से प्रतिवर्ष कम से कम पांच विद्यार्थियों को छात्र देने का काम काम करना चाहिए। ताकी इससे वह प्रगति कर सकें। लोगों को ऋण लिए जाने के बाद उसे यथासमय जमा कराने की आदत डालनी चाहिए। सहवृत संचालक सदस्य श्याम सुन्दर जी सोनी ने बैंक में संविदा आधार पर कार्यरत कर्मचारी को स्थाई करने के लिए विभाग से आग्रह कियाउपाध्यक्ष केवलराज बच्छावत ने आभार जताया। पूर्व अध्यक्ष नरेन्द्र कच्छावा, बैंक संचालक धर्मेन्द्र जी पंवार, अशोक कुमार ललवानी, अधिवेशन में बैंक संचालक सदस्य संजय सारस्वत, अशोक कुमार ललवानी, कृपाराम भाटी, धर्मेन्द्र पंवार, मीनाक्षी भाटी, सहवृत संचालक सदस्य श्री नवनीत अटल सीए, व प्रमिल नाहटा आदि मौजूद थे। संचालन मो. शरीफ छीपा एवं अमित नाहटा ने किया।
इन सुविओं से सज्जित होगा बैंक
बैंक के महाप्रबन्धक शर्मा ने बताया कि बैंक में ग्राहक सेवा हेतु आधुनिक तकनीकी सुविधाओं से जोडऩा, इंटरनेट बैंकिग हेतु डेबिट कार्ड जारी करवाना एवं बैंक स्ॅटाफ में स्थाई नियुक्तियां आदि की जाएंगी।

Discussion on future policies and financial data of the bank
Discussion on future policies and financial data of the bank

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.