नागौर जिले में नवजीवन योजना के साथ चलेगा नशा मुक्ति अभियान

जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने समीक्षा बैठक में दिए निर्देेश

By: shyam choudhary

Published: 17 Oct 2020, 10:49 AM IST

नागौर. अवैध शराब का भण्डारण व विक्रय करने के धंधे में लिप्त परिवारों को स्वरेाजगार के पथ पर लाने के लिए संचालित नवजीवन योजना की प्रगति को और अधिक तेज किया जाएगा। इस योजना के तहत नशा मुक्ति अभियान की गतिविधियां भी आयोजित की जाएंगी, ताकि व्यक्ति मादक पदार्थों के अवैध निर्माण के साथ-साथ इसके सेवन से भी दूर रहे। यह निर्देश जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने गुरुवार को नवजीवन योजना सहित विभिन्न योजनाओं व कार्यक्रमों की प्रगति रिपोर्ट की समीक्षा करते हुए दिए।

कलक्टर की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक रामदयाल ने बताया कि नवजीवन योजना में नवजीवन योजना में चयनित जातियां जो कि कंजर, सांसी, भाट, भाण्ड, नट, राणा, डोम, ढोली, नोगिया, बावरिया, बेडिय़ा, बागरिया, सिरकीवाला, चौपदार हैं, उनके अवैध शराब का भण्डारण व विक्रय करने के धंधे में लिप्त परिवारों को उनके कल्याणार्थ स्वरोजगार के पथ ले जाने के लिए चार स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा प्रशिक्षित किया जा रहा है। कलक्टर डॉ. सोनी ने इस कार्य में कार्य कर रही स्वयंसेवी संस्थानों के निदेशकों को निर्देश दिए कि वे नवजीवन योजना में शामिल परिवारों को प्रशिक्षण उपरान्त स्वरोजगार से जोड़ते हुए बैंकों एवं अनुजा निगम की विभिन्न योजनाओं से ऋण स्वीकृत करवाएं। साथ ही जिला कलक्टर ने संबंधित स्वयंसेवी संस्थाओं से कौशल प्राप्त व्यक्तियों की सूची मय मोबाइल नंबर प्रस्तुत करने के निर्देश प्रदान किए।

दिव्यांगजनों की समस्याओं पर चर्चा करते हुए जिला कलक्टर ने सांसद व विधायक मद के अतिरिक्त भामाशाहों के सहयोग से भी पात्र दिव्यांगजनों को मोट्राईज्ड ट्राईसाईकिल दिलाने के लिए प्रयास करने के निर्देश सहायक निदेशक सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग को दिए। डॉ. सोनी ने निर्देश दिए कि आगामी समय में प्रस्तावित दिव्यांग परिचय सम्मेलन (विवाह सम्मेलन)का अधिकाधिक प्रचार-प्रसार कर अन्य जिलों के दिव्यांगों को भी सूचित किया जावें। उन्होंने इस कार्य में स्वंय सेवी संस्थाओं एवं भामाषाहों के सहयोग से अपेक्षित सहयोग लिया जाकर परिचय सम्मेलन को सफल बनाये जाने के निर्देष दिये।

जिला कलक्टर ने बाल श्रम व मानव तस्करी को रोकने संबंधी अब तक की गई कार्रवाई के बारे में प्रगति रिपोर्ट ली और इसमें निरंतर मॉनिटरिंग और कार्रवाई करने के निर्देश संबंधित अधिकारी को दिए। उन्होंने शिशु गृह में पल रहे नवजात, सरकारी अस्पतालों में बनाए गए पालनाघर आदि की प्रगति रिपोर्ट भी ली।

बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुकुमार कश्यप, सहायक निदेशक बाल अधिकारिता सुरेन्द्र पूनिया, पुलिस उप अधीक्षक विनोद कुमार, किशोर न्याय बोर्ड के सदस्य अखाराम, राजलक्ष्मी, बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष कुंदनसिंह सहित दिव्यंागों के कल्याण से जुडी लोकल लेवल कमेटी के सदस्य पापालाल सांखला आदि मौजूद थे।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned