बिजली कटौती की भेंट चढ़ा ई-रवन्ना प्रशिक्षण

Devendra Singh

Publish: Sep, 17 2017 11:06:01 (IST)

Nagaur, Rajasthan, India
बिजली कटौती की भेंट चढ़ा ई-रवन्ना प्रशिक्षण

सुबह 11 बजे से शुरू होनी थी वीसी दोपहर साढ़े 12 बजे शुरू हुई

 

नागौर. खनन विभाग की ओर से शनिवार को कलक्ट्रेट परिसर स्थित अटल सेवा केन्द्र पर खान पट्टा धारकों को वीडिया कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से ई-रवन्ना को लेकर दिए जाने वाले प्रशिक्षण में प्रशिक्षणार्थियों के हाथ कुछ नहीं लगा। आलम ये था कि सुबह ११ से दोपहर एक बजे तक चलने वाली वीसी बिजली कटौती के कारण दोपहर साढ़े १२ बजे शुरू हो पाई। इसके चलते सुबह साढ़े १० बजे से अटल सेवा केन्द्र पहुंचे पट्टा धारकों को दो घंटे इंतजार करने के बाद भी ई-रवन्ना प्रशिक्षण में कुछ समझ नहीं आया। साढ़े १२ बजे लाइट बहाल होने पर वीसी शुरू हो सकी। इसमें कुछ जिलों से पट्टा धारकों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब ही सुन पाए।

30 मिनट चल पाई वीसी
जिले भर से आए पट्टा धारकों का कहना था कि बिजली कटौती के कारण दो घंटे तक आयोजित वीसी नागौर में मात्र 30 मिनट ही चल पाई। शुरूआती समय में अधिकारियों ने क्या बताया इसकी जानकारी नहीं मिल पाई। इसके अलावा एसएसओ आईडी कैसे जनरेट करनी है, उसे कैसे कनेक्ट करना है इन सबके के बारे में कुछ समझ नहीं आया। प्रशिक्षण में आए कुछ लोगों का कहना था कि जब डिस्कॉम द्वारा पूर्व में बिजली कटौती की सूचना समाचार पत्रों के माध्यम से दी गई तो जिम्मेदारों ने वैकल्पिक व्यवस्था क्यों नहीं की।

 इधर, मरीजों को हुई परेशानी
शनिवार सुबह नागौर के 220 केवी जीएसएस के आवश्यक रखरखाव के कारण 7 से 11 बजे तक जीएसएस से निकलने वाले सभी 33 केवी फीडरों की आपूर्ति बंद रही। इस कारण लोगों को समस्या का सामना करना पड़ा। सुबह 8 बजे उपचार के लिए जेएलएन अस्पताल पहुंचे मरीजों को पहले पर्ची कटवाने के लिए घंटों लाइन लगना पड़ा। बाद में डॉक्टर के पास पहुंचे तो डॉक्टर ने कुछ जांचे करवाने के लिए लिख दिया, लेकिन बिजली कटौती के कारण एक्सरे मशीन सहित अन्य उपकरण बंद रहे। इसके चलते इमरजेंसी के मरीजों को भी घंटों इंतजार करना पड़ा या फिर शहर के निजी अस्पतालों में जाना पड़ा। इस संबंध में पीएमओ अपूर्व कौशिक का कहना था कि लाइट जाने के बाद जनरेटर काम में लिया जाता है, लेकिन शनिवार को पता चला कि जनरेटर से अस्पताल में सीमिति लाइटें व कुछे उपकरण ही चलाए जा सकते हैं।

 इनकी रही लापरवाही
220 केवी जीएसएस नागौर के आवश्यक रखरखाव को लेकर डिस्कॉम के ग्रामीण एईएन गणपतराम सारण ने शुक्रवार को सूचना दी थी कि शनिवार सुबह 7 से 11 बजे तक जीएसएस से निकलने वाले सभी 33 केवी फीडरों की आपूर्ति बंद रहेगी। जिसमें नागौर शहर सहित बासनी, रीको, रीको डेम, गोगेलाव, अलाय, श्रीबालाजी, गुड़ा भगवानदास, भेड़, ढींगसरा, भदवासी, कड़लू, बलाया, ईनाणा एवं भूण्डेल उप चौकियों से जुड़े समस्त 11 केवी फीडर की विद्युत आपूर्ति बंद की सूचना थी। लेकिन डिस्कॉम अधिकारियों की लापरवाही के चलते निर्धारित समय से डेढ़ घंटे देरी से बिजली सुचारू हो पाई। इसका खमियाजा जनता को उठाना पड़ा।

 कुछ समझ नहीं आया
सुबह 11 बजे से वीसी शुरू होनी थी, लेकिन बिजली नहीं होने के कारण दोपहर साढ़े 12 बजे शुरू हुई। ई-रवन्ना को लेकर अधिकारियों को जो जानकारी देनी थी वो दे चुके थे। इसलिए हमें कुछ समझ नहीं आया।
विष्णु चौधरी, डेगाना


साढ़े 12 बजे शुरू हुई वीसी
&वीसी के लिए सुबह साढ़े १० बजे अटल सेवा केन्द्र पर पहुंचे, लेकिन बिजली कटौती के कारण दोपहर साढ़े 12 बजे शुरू हुई। तब तक ई-रवन्ना को लेकर दी जाने वाली मुख्य जानकारी अधिकारी दे चुके थे।
लक्की, नागौर

 

वीसी के बाद जानकारी दे दी
बैटरी बैकअप खत्म हो चुका था, बिजली कटौती के कारण वीसी देरी से जरूर शुरू हुई, लेकिन जिन लोगों को ई-रवन्ना को लेकर कुछ समझ में नहीं आया उन्हें वीसी के बाद सारी जानकारियां दी गई।
वीएस जयपाल, खनि अभियंता नागौर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned