नागौर में डम्पिंग यार्ड के कचरे का होगा ‘सांइटिफिक लैंडफिल’

जिला कलक्टर के निर्देश पर वेस्ट मैनेजमेंट को लेकर नगर परिषद ने कसी कमर
- मेटेरियल रिकवरी फेसिलिटी व कंपोस्ट मशीन जल्द होगी शुरू

By: shyam choudhary

Published: 02 Sep 2020, 09:12 PM IST

नागौर. स्वच्छता रैंकिंग में पिछडऩे के बाद नगर परिषद प्रशासन ने एक बार फिर नागौर शहर के वेस्ट मैनेजमेंट को सुधारने की कवायद तेज कर दी है। इसके तहत नगर परिषद प्रशासन ने बालवा रोड स्थित डम्पिंग यार्ड में डाले गए कचरे का वैज्ञानिक तरीके से निष्पादन (सांइटिफिक लैंडफिल) करने के लिए यार्ड में उगी बबूल की झाडिय़ां कटवाकर कचरे को गड्डों में भरने का काम शुरू हो चुका है। परिषद के एईएन मकबूल ने बताया कि कचरे को गड्डों में भरने के बाद ऊपर मिट्टी डालकर खाद तैयार की जाएगी। डम्पिंग यार्ड में डाले गए कचरे का लैंडफिल होने के बाद मॉडल स्कूल सहित आसपास के क्षेत्र में बदबू से भी निजात मिल सकेगी।

गौरतलब है कि बालवा रोड पर नगर परिषद को डम्पिंग यार्ड के लिए आवंटित जमीन पर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के पास मेटेरियल रिकवरी फेसिलिटी (एमआरएफ) एवं कंपोस्ट मशीन स्थापित करने का काम गत फरवरी में शुरू हो गया तैयार हो गया था, लेकिन कोरोना महामारी के कारण यह कार्य बीच में ही बंद हो गया। अब इसे एक बार फिर गति प्रदान की गई है। नगर परिषद अधिकारियों ने बताया कि एमआरएफ में सूखे कचरा का निस्तारण किया जाएगा, जिसमें प्लास्टिक, कपड़ा, लोहा, लकड़ी सहित अन्य कचरे को अलग-अलग किया जाएगा। इसमें उपयोगी कचरे को बेचा जाएगा तथा शेष से खाद बनाने का काम होगा। इसी प्रकार गीले कचरे से खाद बनाने के लिए भी नगर परिषद ने कम्पोस्ट मशीन खरीदी है, जो गीले कचरे से प्रतिदिन 500 किलो खाद बनाएगी।

क्लीन नागौर स्वच्छता अभियान शुरू
स्वच्छता रैकिंग में सुधार लाने को लेकर गत 24 अगस्त को जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने नगर परिषद आयुक्त को योजनाबद्ध तरीके से काम करने की हिदायत दी थी। डॉ. सोनी ने नागौर शहर में सार्वजनिक स्थलों पर खाली पड़ी सरकारी जमीनों पर पौधरोपण करने प्रमुख चौराहों के सौन्दर्यकरण पर काम करने के निर्देश दिए थे। इसके लिए सबसे पहले कचरा संग्रहण के साथ-साथ इसके निस्तारण और सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट पर काम और इसमें निरंतरता व पूरी मॉनिटरिंग रखने के लिए कहा। कलक्टर के निर्देशानुसार एक सितम्बर से क्लीन नागौर स्वच्छता अभियान शुरू कर दिया गया है, इसके तहत पॉलीथिन पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने, कचरा संग्रहण और सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट सहित सभी पहलूओं पर काम किया जाएगा।

जल्द शुरू होगा गीले कचरे से खाद बनाने का काम
बालवा रोड स्थित डम्पिंग यार्ड में कचरे का वैज्ञानिक तरीके से निष्पादन करने का काम शुरू कर दिया है। जल्द ही सूखे कचरे को एमआरएफ की मदद से अलग-अलग करने तथा गीले कचरे से खाद बनाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।
- जोधाराम विश्नोई, आयुक्त, नगर परिषद, नागौर

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned