नागौर में स्मार्ट मीटर लगाने वाली कम्पनी के कर्मचारी ने मांगे रुपए, ओडियो वायरल

मामला बढ़ा तो शहर एईएन अर्जुनसिंह ने मौके पर पहुंचकर शहरवासियों को दिया कार्रवाई का आश्वासन

By: shyam choudhary

Published: 23 Jun 2021, 10:20 PM IST

नागौर. शहर में पिछले कुछ दिनों से पुराने मीटर तोडकऱ लगाए जा रहे स्मार्ट मीटर का जहां कुछ लोग विरोध कर रहे हैं, वहीं स्मार्ट मीटर लगाने का काम करने वाली कम्पनी के कर्मचारियों की बदमाशी भी सामने आई है। बुधवार को कम्पनी के एक कर्मचारी द्वारा कुम्हारवाड़ा के एक उपभोक्ता के मीटर में गड़बड़ मिलने पर कार्रवाई नहीं करने के एवज में 20 हजार रुपए मांगे। सोशल मीडिया पर वायरल हुए ओडियो में कर्मचारी पहले 20 हजार देने की बात करता है और जब उपभोक्ता हाथ खड़े करता है तो 15 हजार में मामला निबटाने की बात करता है।

इस प्रकार का मामला सामने आने के बाद शहर में लोगों ने विरोध जताना शुरू कर दिया, जिसकी सूचना मिलने पर कोतवाली थाने से पुलिस पहुंची तथा डिस्कॉम से शहर एईएन अर्जुनसिंह ने मौके पर पहुंचकर लोगों को बताया कि स्मार्ट मीटर लगाने का काम केन्द्र सरकार के उपक्रम द्वारा करवाया जा रहा है, जिसका काम एक प्राइवेट कम्पनी को दिया गया है। एईएन ने बताया कि स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं के लिए फायदेमंद साबित होगा, इससे उपभोक्ता किसी भी समय अपनी रीडिंग मोबाइल में देख सकेगा। इसके साथ अन्य कई फिचर हैं, जो उपभोक्ता व डिस्कॉम के लिए लाभदायक होंगे। इस दौरान लोगों ने शिकायत करते हुए कहा कि कम्पनी के कर्मचारी आधे लोगों के स्मार्ट मीटर लगा रहे हैं जबकि आधों के नहीं। कुछ लोगों ने कम्पनी के कर्मचारियों पर आरोप लगाया कि वे पैसे लेकर मनमर्जी से मीटर लगा रहे हैं। इस पर एईएन ने कहा कि ऐसा करने वालों को हटवाएंगे तथा काम पारदर्शिता से होगा।

कार्रवाई करेंगे
शहर में स्मार्ट मीटर लगाने वाली कम्पनी के कर्मचारियों द्वारा उपभोक्ताओं से रुपए मांगने का मामला सामने आने पर मैंने अधीक्षण अभियंता को जानकारी दे दी। कल बैठक करके कम्पनी के स्टाफ को बदला जाएगा। आवश्यकता पड़ी तो कानूनी कार्रवाई भी करेंगे। स्मार्ट मीटर पूरी तरह नि:शुल्क लगाए जा रहे हैं।
- अर्जुनसिंह, एईएन, नागौर शहर, डिस्कॉम

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned