बाजरा की खरीद शुरू नहीं होने पर भडक़े किसान

Sharad Shukla | Publish: Oct, 14 2018 12:30:09 PM (IST) | Updated: Oct, 14 2018 12:30:10 PM (IST) Nagaur, Rajasthan, India

समर्थन मूल्य पर मूंग बेचान के लिए केवल दो ही दिन में पंजीकरण बंद कर दिए जाने के बाद भडक़े किसानों में बाजरा की समर्थन मूल्य खरीद शुरू नहीं किए जाने से असंतोष के स्वर मुखर होने लगे हैं।

Nagaur.समर्थन मूल्य पर मूंग बेचान के लिए केवल दो ही दिन में पंजीकरण बंद कर दिए जाने के बाद भडक़े किसानों में बाजरा की समर्थन मूल्य खरीद शुरू नहीं किए जाने से असंतोष के स्वर मुखर होने लगे हैं। किसान संगठनों के प्रतिनिधियों का कहना है कि नागौर जिले में न केवल मूंग की बुवाई प्रदेश के अन्य जिलों से बेहतर होती है, बल्कि बाजरे के बुवाई में काफी अच्छी स्थिति है। खुले बाजार में करीब 200 से 300 रुपए का अंतर घोषित समर्थन मूल्य में आ रहा है। किसानों की माने तो यह अंतर वास्वत में और ज्यादा है, लेकिन अंतर मूल्य केवल किसानों की जानकारी में रहता है। खरीदारों को तो किसानों से माल लेने के बाद और ज्यादा ऊंचे दर पर बाजरे की आपूर्ति कर दी जाती है। इसलिए सरकार को बाजरे की खरीद जल्द शुरू करनी चाहिए। कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि मूंग का समर्थन मूल्य बढ़ाए जाने के औसत में बाजरा अभी भी पिछड़ा हुआ है। मूंग का एक साथ दो हजार की राशि समर्थन मूल्य में बढ़ गई, लेकिन बाजरे की नहीं। ऐसे में किसानों का रूझान मूंग की ओर से निश्चित रूप से बढ़ेगा। इससे उपज का संतुलन गड़बड़ा जाएगा।
इनका कहना है...
सरकार को बाजरे का समर्थन मूल्य और बढ़ाने के साथ ही इसकी खरीद भी शुरू करनी चाहिए, नहीं तो इससे काश्तकारों को काफी आर्थिक नुकसान होगा।
जगबीर छाबा, उपाध्यक्ष, कृषि उपज व्यापार मंडल नागौर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned