किसान 30 तक जमा करवा सकेंगे अल्पकालीन फसली ऋण, हाथों हाथ मिलेगा वापस

अल्पकालीन फसली ऋण खरीफ -2020 में आवंटित लक्ष्य 400 करोड़, अब तक 264.65 करोड़ रुपए का ऋएा 85,848 सदस्यों को वितरित किया जा चुका

By: shyam choudhary

Published: 17 Jun 2020, 09:45 AM IST

नागौर. दी नागौर सैण्ट्रल को-ऑपरेटिव बैंक ने समितियों के माध्यम से वितरित किए गए अल्पकालीन फसली ऋण खरीफ एवं रबी 2019-20 को जमा कराने की अंतिम तिथि 30 जून निर्धारित की है, इसलिए फसली ऋण के बकायादार सदस्य 30 तक अपनी ओर से बकाया फसली ऋण राशि जमा करवाकर समिति से पुन: फसली ऋण प्राप्त कर लें, ताकि अवधिपार होने से बचा जा सके।

बैंक के प्रबन्ध निदेशक पी.पी. सिंह ने बताया कि अल्पकालीन फसली ऋण के बकायादार सदस्यों द्वारा 30 जून तक ऋण जमा नहीं कराने पर सदस्य अवधिपार की श्रेणी में वर्गीकृत हो जाएंगे तथा भविष्य में फसली प्राप्त करने के लिए अपात्र हो जाएंगे। अल्पकालीन फसली ऋण खरीफ -2020 में आवंटित लक्ष्य 400 करोड़ के विरूद्ध 264.65 करोड़ रुपए का ऋएा 85,848 सदस्यों को वितरित किया जा चुका है तथा 30 जून तक बकायादारों द्वारा ऋण जमा कराने पर तत्काल पुन: ऋण दिया जा रहा है।

बैंक द्वारा समितियों के माध्यम से कृषि उपज रहन रखकर ऋण देने की योजना चालू की गई है, जिसमें लघु एवं सीमांत कृषक को 1.50 लाख रुपए एवं अन्य कृषक को तीन लाख ऋण दिया जाता है। ऋण पर ब्याज कृषक से मात्र 3 प्रतिशत लिए जाने का प्रावधान है। ऋण कृषक द्वारा रहन कराई गई फसल की बाजार कीमत या समर्थन मूल्य में से न्यूनतम राशि का 70 प्रतिषत दिया जाने का प्रावधान है। फसल वेयर हाउस, समिति, मार्केटिंग या अन्य अधिकृत संस्था के पास रहन करवाई जा सकती है।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned