Nagaur patrika news. बर्ड फ्लू पर सरकार अलर्ट, चिकित्सा विभाग को सेंपल रिपोर्ट को इंतजार

Nagaur patrika. पशुपालन विभाग की ओर से बर्ड फ्लू पर निगरानी रखे जाने के लिए रेपिड रेस्पॉस टीम गठित, केन्द्रवार चिकित्साधिकारियों को दिए निर्देश

By: Sharad Shukla

Published: 09 Jan 2021, 10:49 PM IST

नागौर. बर्ड फ्लू की प्रदेश में हो चुकी है, और राज्य सरकार की ओर से अलर्ट भी जारी कर दिया गया है। चिकित्सा एवं पशुपालन व वन विभाग को इस पर नजर रखने के निर्देश भी हैं। जिले में भी दो दर्जन से अधिक पक्षियों की मौत हो चुकी है। एहतियातन के लिए पशुपालन विभाग की ओर से रेपिड रेस्पॉस टीम बनाकर जिले के पोल्ट्री फार्मों पर विशेष नजर रखने के साथ प्रतिदिन की रिपोर्ट दिए जाने के निर्देश मिले हैं। इधर चिकित्सा विभाग का कहना है कि पहले तो यह मानवों से मानवों में नहीं फैलता है। इसलिए न तो यह संक्रामक है, और न ही अभी तक मृत पक्षियों की सेंपल रिपोर्ट आई है। फिर भी स्थिति की निगरानी की जा रही है। इसको लेकर अस्पतालों में आने वालों की एहतियान जांच आदि की व्यवस्थाओं के बाबत विभाग कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दे सका।
सरकार सरकार बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट मोड पर है, लेकिन जिले में दो दर्जन से अधिक पक्षियों के मृत की श्रेणी में आने के बाद भी चिकित्सा विभाग को सेंपल रिपोर्ट आने का इंतजार है। हालांकि इसको लेकर दूसरे विभागों में विशेषकर पशुपालन विभाग की ओर से तेजी दिखाते हुए जहां इस पर विशेष नजर रखे जाने के लिए टीमों का गठन किया जा चुका हैं, वहीं चिकित्सा विभाग की ओर से केन्द्रवार जिले में स्थिति पर नजर रखे जाने के लिए ऐसी किसी टीम आदि के गठन किए जाने की कोई अधिकारिक पुष्टी नहीं हुई। इस संबंध में चिकित्सा विभाग के अधिकारियों से बातचीत किए जाने पर भी वह वह बेफिक्र नजर आए। अधिकारियों का कहना था कि नागौर में तो ऐसा कोई मामला नहीं आया है। जिले में अब तक जायल, मूण्डवा, डेगाना, मेड़तासिटी एवं नागौर के निकटवर्ती कालवा में अब तक मृत पाए गए पक्षियों की संख्या दो दर्जन से अधिक बताई जाती है। इसके बाद भी अस्पतालों में एहतियान इसको ध्यान में रखते हुए जांच की कोई व्यवस्था न करना चिकित्सा विभाग की बेफिक्री को दर्शाता नजर आने लगा है। उल्लेखनीय है की कोरोना की दस्तक जनवरी होने के बाद भी गत वर्ष चिकित्सा विभाग इसी तरह राग अलापता रहा। बाद में विगत अप्रैल में बासनी में मिले कोरोना रोगी के बाद फिर पूरे जिले भर में रोगियों की संख्या में ताबड़तोड़ बढ़ोत्तरी हो गई थी। विभागीय सूत्रों का कहना है कि सेंपल रिपोर्ट आने के इंतजार व मानवों से मानवों में न फैलने को लेकर चिकित्सा विभाग के अतिआत्मविश्वास की स्थिति के चलते कहीं हालात विकट न हो जाएं।
इनका कहना है...
बर्ड फ्लू के मामले में एहतियान पशुपालन विभाग की ओर से रेपिड रेस्पॉंस टीमें गठित कर दी गई हैं। सभी टीमों के प्रभारी चिकित्साधिकारियों को बनाया गया है। प्रतिदिन की रिपोर्ट भेजने के निर्देश हैं।
डॉ. जगदीश बरबड़, संयुक्त निदेशक पशुपालन नागौर
अभी नागौर में बर्ड फ्लू का कोई मामला सामने नहीं आया है। मृत पक्षियों की सेंपल रिपोर्ट आने पर संबंधित विभाग ही बताएगा कि सही वस्तुस्थिति क्या है। फिर भी चिकित्सा केन्द्रों में इस संबंध में दिशा-निर्देश दिए गए हैं।
महराम महिया, का. वा. सीएमएचओ नागौर

Sharad Shukla Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned