सरकारी व निजी स्कूलों में भेदभाव बर्दाश्त नहीं

https://www.patrika.com/nagaur-news/

By: Anuj Chhangani

Published: 03 Jan 2019, 07:12 PM IST

नागौर. शीतलाकालीन अवकाश के दौरान संचालित निजी स्कूलों के खिलाफ बुधवार को शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा की गई कार्रवाई को लेकर प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की जिला स्तरीय बैठक में विरोध के स्वर मुखर हो गए। एसोसिएशन के सचिव विनेश शर्मा ने जिलेभर से आए निजी स्कूल संचालकों को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा विभाग के अधिकारियों का भेदभाव पूर्ण रवैया ठीक नहीं है। एक तरफ अवकाश के दिनों में संचालित सरकारी स्कूलों को प्रोत्साहित किया जाता है और दूसरी ओर निजी स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है, जो न्यायोचित नहीं है। दरअसल, बुधवार को शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने शहर में शीतकालीन अवकाश के बावजूद संचालित स्कूलों का निरीक्षण कर तेज सर्दी में छोटे बच्चों को स्कूल बुलाने का कारण पूछा तथा आगे से अवकाश के दिन स्कूल नहीं खोलने के लिए पाबंद किया। उधर, मानासर स्थित एक होटल में बुधवार को नागौर जिला प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की बैठक चल रही थी, जिसमें विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के दौरान यह मुद्दा भी सामने आया कि एक ओर सरकारी स्कूलों में जानबूझकर अवकाश के दिनों में अतिरिक्त कक्षाएं लगाई जा रही है, वहीं दूसरी ओर प्राइवेट स्कूलों को पाबंद किया जा रहा है। इस पर एसोसिएशन के सचिव विनेश शर्मा ने कहा कि शिक्षा विभाग के अधिकारियों का भेदभावपूर्ण व्यवहार ठीक नहीं है। वे इस मुद्दे को राज्य स्तर तक उठाएंगे। शर्मा ने कहा कि निजी स्कूल संचालक भी बच्चों को पढ़ाने का काम कर रहे हैं, इसके बावजूद उनके बच्चों को तोडऩे की लिए नियम-कायदे ताक पर रखकर केवल शपथ पत्र के आधार पर दो-तीन कक्षा आगे में प्रवेश दिया जा रहा है, जो बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है।

मई में होंगे एसोसिएशन के चुनाव
प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष माणक चौधरी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि आगामी मई माह में जिला स्तर की कार्यकारिणी का पुनर्गठन करने के लिए चुनाव होंगे। सचिव विनेश शर्मा ने बताया कि संगठन द्विस्तरीय होगा, जिसमें पहला ब्लॉक या तहसील स्तर तथा दूसरा जिला स्तर का होगा। बैठक में जिलेभर के ब्लॉक पदाधिकारी एवं नागौर ब्लॉक के सभी निजी विद्यालयों के संचालक उपस्थित थे। बैठक में कुचामन ब्लॉक अध्यक्ष गोविन्दराम शेषमा, मौलासर ब्लॉक के मौजीपुर्रहमान, मूण्डवा ब्लॉक के तेजाराम इनाणियां, मेड़ता ब्लॉक के डीडी चारण, लाडनूं ब्लॉक के भंवरलाल मील सहित जायल, डीडवाना व डेगाना के प्रतिनिधि मौजूद थे।

संगठन को मजबूत करें
पदाधिकारियों ने कहा कि संगठन को मजबूती प्रदान करने के लिए अधिक से अधिक निजी स्कूलों को जोड़ें। साथ ही समस-समय पर सामाजिक सरोकार, खेलकूद, सांस्कृतिक विकास के लिए निजी विद्यालय आपस में सहयोग करके प्रतियोगिता का आयोजन करें। बैठक में उगराराम, जीवण खां भादलिया, राजूराम, जीवणराम कस्वां, जगदीश, शैतानराम चांगल, हरदेव गारू, शेरसिंह, रामकुमार परिहार, भवानीसिंह, राकेश आचार्य, धर्माराम प्रजापति, प्रहलाद राम आदि उपस्थित रहे।

बोर्ड कक्षाओं को पढ़ाएं
शहर में कुछ निजी विद्यालय तेज सर्दी व शीतकालीन अवकाश के बावजूद बुधवार को खुल गए। इसकी शिकायत बच्चों के अभिभावकों ने की। शिकायत मिलने पर हमारी टीम निरीक्षण करने गई थी। हमारा उद्देश्य सर्दी में छोटे बच्चों को परेशान नहीं करना है। सरकारी स्कूलों में केवल बोर्ड कक्षाओं की अतिरिक्त कक्षाएं लग रही है। बड़े बच्चों को निजी स्कूल संचालक भी पढ़ा सकते हैं।
महिपाल सांदू, मुख्य ब्लाक शिक्षाधिकारी, नागौर

Anuj Chhangani Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned