कृषि मंत्री के विरोध के बाद राजस्थान में किसानों को राहत, की जा रही हितों की बात

किसानों के खिलाफ बोलने पर हुआ था राजस्थान में विरोध, अब कृषि मंत्री कर रहे किसान हित की बात

 

By: Nidhi Mishra Nidhi Mishra

Published: 07 Jun 2018, 02:50 PM IST

नागौर। गत बुधवार राजस्थान के हनुमानगढ़ में केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के एक स्टेटमेंट पर जबरदस्त विवाद हुआ। जिले के नोहर में अखिल भारतीय किसान सभा व सीटू के संयुक्त नेतृत्व में उपखंड कार्यालय पर प्रदर्शन कर केन्द्रीय कृषि मंत्री का पुतला जलाया गया। इसके बाद गुरुवार को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण एवं पंचायत राज राज्यमंत्री पुरुषोत्तम भाई रुपाला ने नागौर सर्किट हाऊस में प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि केंद्र सरकार किसानों के हितों के प्रति सजग है।

 


किसान हित के लिए फसल बीमा
किसानों को फायदा हो, इसके लिये केंद्र सरकार ने किसानों के लिए फसल बीमा योजना लागू की। फसल बीमा योजना में पहले अलग अलग जिलो में अलग अलग व्यवस्था थी, लेकिन इसमें सुधार करके पूरे देश में एकरूपता कर दी। किसानों को अलग अलग प्रीमियम के झंझट से मुक्त कर दिया। फसल बोने के 15 दिन बाद भी नुकसान हो तो किसानों को बीमे का लाभ मिलेगा। वहीं फसलों के समर्थन मूल्य को लेकर कई तरह की विसंगतिया थी जिसके चलते किसानों को परेशानी हो रही थी।

 


फसल लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य
पिछले बजट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वित्त मंत्री से घोषणा करवा दी कि आगामी खरीफ की फसलों के दौरान फसल की लागत का डेढ गुना समर्थन मूल्य तय होगा। वित्त मंत्री ने फसल के लागत से डेढ गुना समर्थन मूल्य की घोषणा सैद्दांतिक रुप से कर दी गई है। ऐसे में यह किसानों के लिए बङी राहत होगी।

 


किसानों की आय दुगुनी करने के प्रयास तेज
केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण एवं पंचायत राज राज्यमंत्री पुरुषोत्तम भाई रुपाला ने कहा कि किसानों की आय को दुगुना करने के लिए भी सरकार लगातार प्रयास में जुटी हुई है और इस तरफ कदम उठाये जा चुके हैं। इस दौरान केंद्रीय उपभोक्ता व वाणिज्यिक राज्यमंत्री सीआर चौधरी, नागौर के प्रभारी मंत्री बंशीधर बाजिया भी मौजूद थे।

Nidhi Mishra Nidhi Mishra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned