scriptHalf a dozen soldiers of the army are still in the queue , the state g | सेना के आधा दर्जन वीर अब भी कतार में , राज्य सरकार ने पूछा काम किस रफ्तार से | Patrika News

सेना के आधा दर्जन वीर अब भी कतार में , राज्य सरकार ने पूछा काम किस रफ्तार से

-25 बीघा नहरी जमीन देने का मामला
-किसी को 11 साल तो कोई 8 साल से कर रहा है इंतजार

-प्रस्ताव बीकानेर के उपनिवेशन विभाग में

- कुछ तो वो भी झमेले में जिन्हें जैसलमेर के दूरदराज टीले दिखाए थे, उन्हें पसंद नहीं आए तो लेने से कर दिया था इनकार

नागौर

Published: July 06, 2022 09:33:24 pm


एक्सक्लूसिव

संदीप पाण्डेय

नागौर. जान की बाजी लगाकर बहादुरी का पदक पाने वाले करीब आधा दर्जन जवानों को अब तक उनका हक नहीं मिल पाया है। इनमें एक शौर्य चक्र विजेता, दो सेना मेडल तो तीन राष्ट्रपति पुलिस पदक हासिल करने वाले शूरवीर हैं। इनको 25 बीघा नहरी जमीन का इनाम अब तक नहीं मिला। इनमें से एक को तो इंतजार करते-करते ही 11 बरस बीत गए। बात यहीं पर खत्म नहीं होती, करीब सात माह पहले राज्य सरकार ने ऐसे जवानों की सूची भी मांगी थी, जल्द से जल्द इनके प्रस्ताव सैनिक कल्याण बोर्ड से होते हुए बीकानेर स्थित उपनिवेशन विभाग में पहुंचने के बाद धूल-फांक रहे हैं। ये भी नहीं कि एक बार ही पत्र भेजा गया हो, उपनिवेशन विभाग के कारिंदों को याद दिलाने के लिए बार-बार पत्र तक भेजे गए पर हाल वही ढाक के तीन पात। बताया जाता है कि राज्य सरकार समय-समय पर इस बाबत रिपोर्ट लेकर मामलों का जल्द निस्तारण करने को कह रही है।
sena
nehri jameen
सूत्रों के अनुसार अभी जो आधा दर्जन वीर नहरी जमीन मिलने की प्रतीक्षा कर रहे हैं, उनमें पांच डीडवाना के तो एक नागौर का है। सहायक कमाण्डेंट भवानी सिंह,मघराज जांगिड़, करण सिंह राठौड़, आसु सिंह, किशोरीलाल समेत छह रिटायर सेना के वीरों को अब तक उनके हक की जमीन नहीं मिली है। सरकारी कार्यप्रणाली के आगे वे बेबस नजर आ रहे हैं। इनमें एक मामला तो वर्ष 2011 तो एक 2015 से लंबित पड़ा है।
सूत्र बताते हैं कि लाडनूं के गांव बिठूड़ा के मघराज जांगिड़ का मामला तो 11 साल से भी अधिक समय से अटका है। पैराट्रूपर जांगिड़ सेना मेडल से सम्मानित हैं। इनका प्रस्ताव वर्ष 2011 में ही तत्कालीन जिला कलक्टर ने उपनिवेशन विभाग, बीकानेर को भेज दिया था। नावां के गांव कांसेड़ा निवासी डीआईजी करण सिंह राठौड़ का भी यही हाल है। उन्हें राष्ट्रपति पुलिस पदक मिल चुका है पर नहीं मिली तो इसके सम्मान में मिलने वाली जमीन। करीब आठ सात साल से इनका प्रस्ताव भी उपनिवेशन विभाग बीकानेर में रद्दी बनकर पड़ा है। सहायक कमाण्डेंट भवानी सिंह का मामला भी करीब छह साल से लंबित है। मकराना के राणी गांव निवासी भवानी सिंह भी राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित हैं। तत्कालीन नागौर कलक्टर ने जुलाई 2016 में यह प्रस्ताव उपनिवेशन को भेजा था, तब से इस प्रस्ताव का कुछ नहीं हुआ। शौर्य चक्र प्राप्त करने वाले आशुसिंह अब दुनिया में नहीं रहे। नावां के चितावा के निवासी आशु सिंह का परिवार करीब साढ़े तीन साल से अपना हक मिलने के इंतजार में है। इसी पद से सम्मानित जवान किशोरलाल का मामला भी करीब तीन साल से उपनिवेशन विभाग के पास पड़ा है। इसी तरह लाडनूं के पूर्व सैनिक हरिराम और स्वर्गीय नानूराम युद्ध विकलांग सैनिक सम्मान से सम्मानित तो हुए पर उन्हें जमीन अब तक नहीं मिल पाई।
25 बीघा नहरी जमीन का इनाम

सूत्र बताते हैं कि इन सम्मानित सैनिकों को 25 बीघा नहरी जमीन देने का प्रस्ताव कल्याण बोर्ड से होते हुए बीकानेर स्थित उपनिवेशन विभाग तक जाता है। बताया जाता है कि इनमें शहीद के परिवारों को तो जल्द से जल्द जमीन मिल जाती है, लेकिन सेना में पदक पाकर इसका हकदार बने सेना वीरों को यह मिलने में बरसों लग जाते हैं। कलक्टर की ओर से बार-बार पत्र भी भेजे जाते हैं पर मामला गति नहीं पकड़ पाता।
कई को पसंद नहीं आई अब खाली हाथ

सूत्रों की मानें तो जायल की कठौती के सरवनराम हो या डीडवाना का कैप्टन महबूब, इनको सेना में रहकर आतंकियों को ढेर करने के लिए सेना मेडल तो मिला, लेकिन कुछ समय पहले जैसलमेर में वो जमीन दिखा दी, जहां टीले ही टीले थे, पानी का नामोंनिशान नहीं था। ऐसे में इन्होंने जमीन लेने से मना कर दिया, तब से ये खाली हाथ है। बताया जाता है कि ऐसे सैनिकों की संख्या भी एक दर्जन के आसपास है। सरवन राम ने इस बाबत सैनिक कल्याण कार्यालय के पास भी इसकी जानकारी भेज दी।
राज्य सरकार ने भी मांगी थी जानकारी

इन सैनिकों को जमीन नहीं मिल पाने के कारणों के साथ राज्य सरकार ने इसकी जानकारी मांगी थी। कुछ समय पहले दी गई जानकारी को तत्कालीन कलक्टर ने सरकार को प्रस्तुत भी कियाद्ध बताया जाता है कि फरवरी माह में नागौर जिले के किसी सैनिक को यह जमीन जरूर मिली, लेकिन बाकी का मामला अभी भी अटका पड़ा है।
इनका कहना

जिले के करीब आधा दर्जन सैनिक वीरों का मामला उपनिवेशन विभाग में लंबित है। समय-समय पर इस बाबत पत्र-व्यवहार कर रहे हैं।

-कर्नल राजेंद्र सिंह जोधा, सैनिक कल्याण अधिकारी नागौर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडो'रूसी तेल खरीदकर हमारा खून खरीद रहा है भारत', यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro KulebaNagpur Crime: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के घर के बाहर मजदूर ने किया सुसाइड, मचा हड़कंपरोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियालालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाPunjab Bomb Scare: अमृतसर में SI की गाड़ी में बम लगाने वाले दो आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार, कनाडा भागने की फिराक में थेगुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानशाबाश भावना: यूरोप की सबसे बड़ी चोटी भी नहीं डिगा पाई मध्यप्रदेश की बेटी का हौसला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.