अतिआत्मविश्वास ने नागौर को प्रतिभागियों से कर दिया पीछे

अतिआत्मविश्वास ने नागौर को प्रतिभागियों से कर दिया पीछे
Nagaur patrika, RBSE SCIENCE AND COMERCE 2019 SCIENCE TOPPER,High confidence has made Nagaur with the participants

Sharad Shukla | Updated: 16 May 2019, 12:07:42 PM (IST) Nagaur, Nagaur, Rajasthan, India

जालोर ने 96.34 प्रतिशत के साथ प्रथम, दूसरे पर 95.51 अंक के साथ सीकर और तीसरे स्थान पर 95.30 प्रतिशत के साथ नागौर रहा

नागौर. माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान के 12वीं विज्ञान वर्ग में नागौर जिले को बड़ा झटका लगा है। लगातार पांच सालों से प्रदेश में शीर्ष स्थान पर रहने के बाद छठें वर्ष में तीसरा स्थान मिला है। वाणिज्य वर्ग में भी अन्य जिलों की तुलना में इसकी स्थिति औसत ही रही है। इसमें पहले नंबर पर प्रदेश में इस बार जालोर रहा। जालोर ने 96.34 प्रतिशत के साथ प्रथम, दूसरे पर 95.51 अंक के साथ सीकर और तीसरे स्थान पर 95.30 प्रतिशत के साथ नागौर रहा। हालांकि गत वर्ष के औसत 91.27 की तुलना में नागौर में का कुल औसत में तीन प्रतिशत से ज्यादा बढ़ा भी है, लेकिन अन्य जिलों की तुलना में एक-दो प्रतिशत अंक के आए अंतर ने इस बार जालोर व सीकर ने इसे पीछे कर दिया।
वाणिज्य वर्ग के परिणाम में पिछड़ा नागौर
वाणिज्य वर्ग में नागौर जिले का परिणाम इस वर्ष अपेक्षानुसार नहीं रहा। यद्यपि नागौर का औसत परिणाम 91.11 प्रतिशत होने के साथ विज्ञान वर्ग से औसतन चार प्रतिशत का भारी अंतर है। हालांकि गत वर्ष की तुलना में इसमें इस बार एक प्रतिशत की बढ़त हुई है। इसके बाद भी अन्य जिलों से तुलनात्मक तौर पर नागौर जिले की स्थिति औसतन काफी औसत दर्जे की रही। वाणिज्य वर्ग में नागौर जिले में कुल 1401 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए। इनमें 971 छात्र, और 413 छात्राओं ने परीक्षा दी। 416 छात्र प्रथम, 359 द्वितीय श्रेणी में रहे। कुल 860 छात्र एवं 401 छात्राएं पास हुई। इनमें 298 छात्राएं प्रथम श्रेणी में, और द्वितीय श्रेणी में 94 छात्राएं रहीं। छात्रों का औसत 88.57 प्रतिशत तथा छात्राओं का औसत 97.09 रहा। जबकि प्रदेश में वाणिज्य वर्ग में पहले स्थान पर रहने वाले श्रीगंगानगर जिले में 433 छात्र व 248 छात्राओं ने परीक्षा दी। इनमें कुल 415 छात्र व 246 छात्राएं उत्तीर्ण हुईं। यहां पर भी छात्राओं ने 99.19 प्रतिशत के साथ छात्रों को 95.84 अंक से पीछे कर दिया। जबकि नागौर के विद्यार्थियों की संख्या श्रीगंगानगर के परीक्षार्थियों से दोगुनी है। विज्ञान वर्ग में नागौर जिले से कुल 15231 परीक्षार्थी बैठे थे, जबकि जालोर जिले में महज 2949 परीक्षार्थी ही बोर्ड परीक्षा में सम्मिलित हुए।
विज्ञान वर्ग: औसत बढ़ा, लेकिन तीसरे पायदान पर फिसला
वर्ष प्रतिशत राज्य में स्थान
2014 89.47 प्रथम
2015 95.04 प्रथम
2016 93.77 प्रथम
2017 94.10 प्रथम
2018 91.27 प्रथम
2019 95.30 तीसरा

बेटियों का परिणाम बेटों से बेहतर
नागौर जिले में 15374 पंजीकृत हुए, और 15231 ने परीक्षा दी, इनमें 8020 प्रथम, 1759 सेकण्ड, जबकि लड़कियों का 3872 प्रथम, और द्वितीय 455 रही। कुल 10174 कुल पास हुए। इनमें लडक़ों का औसत 94.43, और लड़कियों का औसत 97 प्रतिशत से ज्यादा से ज्यादा रहा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned