फिर जगी नागौर हवाई पट्टी के विस्तार की उम्मीद

जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने किया अवलोकन, अतिरिक्त जिला कलक्टर व अधीक्षण अभियंता सानिवि रहे मौजूद

By: shyam choudhary

Published: 30 Jan 2021, 11:55 AM IST

नागौर. नागौर हवाई पट्टी का विस्तार करने को लेकर लम्बे समय से चल रही कार्ययोजना को अब पंख लग सकते हैं। पिछले करीब पांच साल से कछुआ चाल से हो रहे कार्य को गति देने के लिए जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने शुक्रवार को हवाई पट्टी पहुंचकर अवलोकन किया तथा विस्तार की कार्ययोजना की जानकारी ली तथा भूमि अधिग्रहण का कार्य शीघ्र पूरा करने के निर्देश अधीनस्थ अधिकारियों को दिए।

जिला कलक्टर डॉ. सोनी ने हवाई पट्टी के विस्तार को लेकर आवश्यक कार्रवाई की पूरी रिपोर्ट मौके पर सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता सी.के. बंसल से ली। अधिकारियों से इसकी विस्तृत जानकारी लेकर कलक्टर ने कार्य की पूर्णता और बकाया कार्यों के संबंध में विस्तार से जानकारी लेकर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। अधीक्षण अभियंता बंसल ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा हवाई पट्टी के विस्तार के लिए जमीन अधिग्रहण की स्वीकृति जारी की गई है, जिसकी कार्यवाही उपखंड अधिकारी नागौर द्वारा की जा रही है। इसके पश्चात हवाई पट्टी की लंबाई में वृद्धि की जाएगी।

उन्होंने बताया कि नागौर हवाई पट्टी की वर्तमान लंबाई 1500 मीटर है, जिसे पांच सौ मीटर बढ़ाकर 2000 मीटर किया जाएगा। साथ ही हवाई पट्टी की चैड़ाई 30 मीटर से बढ़ाकर 45 मीटर किया जाना प्रस्तावित है। नगौर हवाई पट्टी के विस्तार के कारण से इसका सुरक्षात्मक, व्यापारिक महत्व में वृद्धि होगी, जिसका लाभ यहां के नागरिकों को मिल सकेगा। इसका लाभ नागौर के नागरिकों को मिल सकेगा। राजस्थान राज्य के मध्यवर्ती क्षेत्र में होने से नागौर की भौगोलिक, परिवहन व सुरक्षा की दृष्टि से महत्ती भूमिका है। उन्होंने बताया कि नागौर हवाई पट्टी के चारों तरफ चारदीवारी निर्माण भी प्रस्तावित है, जिसकी प्रशासनिक स्वीकृति जारी की जा चुकी है तथा वित्तीय स्वीकृति राज्य सरकार के स्तर पर विचाराधीन है। हवाई पट्टी के निरीक्षण के दौरान जिला कलक्टर के साथ अतिरिक्त जिला कलक्टर मनोज कुमार, सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता शिवराम मीणा तथा कोषाधिकारी जगदीशप्रसाद भी मौजूद रहे।

पत्रिका ने उठाया था मुद्दा
नागौर हवाई पट्टी को रनवे ग्रेड-4 में अपग्रेड करने का काम पिछले काफी समय से रूका होने पर राजस्थान पत्रिका ने गत 7 दिसम्बर को अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस पर ‘पट्टी को रनवे ग्रेड-4 में अपग्रेड करने की योजन हवाई’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर जिम्मेदारों का ध्यान आकर्षित किया था। गौरतलब है कि हवाई पट्टी के विस्तार को लेकर जमीन अधिग्रहण के लिए नागरिक उड्डयन विभाग ने 361.44 लाख रुपए की वित्तीय स्वीकृति काफी पहले जारी कर दी थी, लेकिन पिछले करीब आठ-नौ महीने से जमीन अधिग्रहण का कार्य अटका हुआ है।

अक्टूबर 2015 से हो रही है बातें
नागौर जिला मुख्यालय की हवाई पट्टी का विस्तार करने को लेकर चल रही फाइल कछुआ चाल को मात दे रही है। करीब पांच साल पहले 30 अक्टूबर 2015 को तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने हवाई पट्टी को हवाई अड्डे के रूप में विकसित करने की घोषणा नागौर में ही की थी। वहीं नागरिक उड्डयन मंत्रालय की राजस्थान के नागौर, झुंझुनूं, फलौदी सहित 19 शहरों को विमान सेवा जोडऩे की योजना भी ठंडे बस्ते में चली गई है। इसके लिए मंत्रालय ने नवम्बर 2016 में विज्ञप्ति जारी कर 5 दिसम्बर 2016 तक विमानन कंपनियों से क्षेत्रीय संपर्क योजना के अंतर्गत आवेदन मांगे थे, जिसमें 500 किमी तक की दूरी के लिए 9 से 18 सीटर विमान से जोडऩे की योजना थी।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned