ज्याणी के समर्थन में कलक्ट्रेट पहुंचे सैकड़ों लोग, हैड कांस्टेबल व एपीपी पर लगाया ब्लैकमेल करने का आरोप

जमीन मालिक भींयाराम ज्याणी ने कहा - खातेदारी की जमीन खरीदी है, फिर भी छवि कर रहे धूमिल

By: shyam choudhary

Published: 12 Jul 2021, 10:45 PM IST

नागौर. शहर के बीकानेर रोड स्थित तीन बीघा जमीन को लेकर पिछले कुछ दिन से चल रहे विवाद ने अब तूल पकड़ लिया है। जमीन के खातेदार भींयाराम ज्याणी के समर्थन में सोमवार को शहर के मंडी व्यापारियों सहित सैकड़ों लोगों ने कलक्ट्रेट तक पैदल रैली निकालकर जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा। साथ ही ज्ञापन की एक-एक प्रति प्रदेश के गृहमंत्री, जोधपुर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश, पुलिस महानिदेशक, अजमेर रेंज आईजी एवं प्रभारी मंत्री हरीश चौधरी को भेजकर कोतवाली थाने के हैड कांस्टेबल व अपर लोक अभियोजक पर गंभीर आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। परिवादी ने नाजायज रूप से तंग परेशान करने व ब्लैकमेल कर बड़ी रकम के लिए रात्रि के समय पिस्टल तानकर जानलेवा हमला कर संगीन वारदात को अंजाम देने वाले हैड कांस्टेबल सहित अन्य के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।

ज्ञापन में ज्याणी ने बताया कि नागौर शहर के खसरा नम्बर 1035/108 में उसकी कब्जासुदा, खातेदारी स्वामित्व की जमीन स्थित है जो बीकानेर रोड के चिपती आई हुई है। यह जमीन को लेकर पहले जमना देवी पत्नी रामचन्द्र, कंवरी पत्नी रामगोपाल माली, नरेन्द्र कुमार पुत्र इन्द्रमल उर्फ चंद्रभान सोनी, राधेश्याम पुत्र रामचन्द्र जाट निवासी नागौर ने न्यायालय के समक्ष दावा पेश किया। 12 मार्च 2020 को दावा स्वीकार होकर खातेदारी अधिकार प्राप्त कर निर्णय होने पर उसने खरीद की थी एवं उसके नाम म्यूटेशन भरा गया। परिवादी ने आरोप लगाया कि उसके बाद हैड कांस्टेबल सहित अन्य लोगों ने उसे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। इसी को लेकर उक्त लोगों ने 7 जुलाई को रात में एकराय होकर पुलिस की गाड़ी व 4-5 अन्य गाडिय़ों से रात करीब 11 बजे उसकी जायगा पर पहुंचे, जहां हैड कांस्टेबल व अन्य ने उस पर जानलेवा हमला कर दिया। हैड कांस्टेबल ने उसकी कनपटी पर पिस्तौल तान दी और कहा कि जिंदा रहना है तो बड़ी रकम देनी होगी। इस दौरान मौके पर उपस्थित लोगों ने उसे बीच बचाव कर छुड़ाया। ज्याणी ने कहा कि उस पर झूठे आरोप लगाकर छवि को धूमिल किया गया है, जबकि उसके खिलाफ सरकारी जमीन दबाने या किसी मामले में मुकदमे का कोई भी मामला अब तक नहीं है। परिवादी ने बताया कि पिस्तौल तानकर जान से मारने के प्रयास का ऑडियो भी वायरल हुआ है। ज्ञापन के साथ ऑडियो-वीडियो की सीडी पेश करते हुए निष्पक्ष जांच की मांग की है। उचित कार्रवाई नहीं होने पर जिला मुख्यालय स्तर पर धरना-प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है।
ज्ञापन देने वालों में शामिल कृषि मंडी व्यापार मंडल के पूर्व अध्यक्ष भोजराज सारस्वत ने कहा कि ज्याणी एक मंडी व्यापारी है, जिनकी व्यापारी समाज में अच्छी छवि है। ज्ञापन देने वालों में मंडी व्यापारी उम्मेदसिंह राजपुरोहित, हरिराम धारणिया, कांग्रेस नेता प्रेमरतन शर्मा, एडवोकेट लिखमाराम भाम्भू, नारायण बिडियासर, दामोदर इनाणिया, नरसीराम, रामप्रसाद आदि शामिल थे।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned