वीडियो : नागौर में हरिणों व खरगोश का शिकार, शिकारी फरार

ग्रामीणों ने पीछा किया तो शव व मोटरइसाकिल छोडकऱ भागे शिकारी
- नागौर तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत मकौड़ी के पास बालासर गांव की सीमा में शिकार

By: shyam choudhary

Published: 21 Aug 2021, 08:33 PM IST

नागौर. नागौर तहसील क्षेत्र की मकौड़ी ग्राम पंचायत के पास बालासर गांव की सीमा में शुक्रवार रात को शिकारियों ने दो हरिणों व एक खरगोश का शिकार कर लिया। शिकार की सूचना मिलने पर वन्य जीव प्रेमी व ग्रामीणों ने शिकारियों का पीछा किया, जिस पर शिकारी हरिण व खरगोश के शव मौके पर ही छोडकऱ फरार हो गए। ग्रामीणों ने शिकारियों की मोटरसाइकिल भी छीन ली।

शिकार की सूचना मिलने शनिवार सुबह पद्मश्री हिम्मतदाराम भाम्भू, श्री जंभेश्वर पर्यावरण जीवरक्षा प्रदेश संस्था तहसील शाखा नागौर के अध्यक्ष सुरेंद्र गिला, मकौड़ी गांव के सरपंच भंवराराम जाट, अनोपचन्द बिश्नोई सहित अन्य वन्यजीव प्रेमी बड़ी संख्या में मौके पर पहुंचे तथा पुलिस व वन विभाग के अधिकारियों को सूचना दी। वन्यजीव प्रेमियों व ग्रामीणों ने घटना स्थल पर धरना देकर शिकारियों को गिरफ्तार करने की मांग की। नागौर वृत्ताधिकारी विनोद कुमार सीपा सहित श्रीबालाजी थानाधिकारी ने ग्रामीणों से समझाइश का प्रयास किया, लेकिन ग्रामीण अपनी मांग पर अड़े रहे। ग्रामीणों ने कहा कि शिकारियों को गिरफ्तार करने के बाद पोस्टमार्टम की कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि हमेशा शिकारियों को ग्रामीण ही पकड़ते हैं, जबकि यह काम पुलिस व वन विभाग का है। पुलिस अधिकारियों के कहने पर ग्रामीण लादूराम ने तीन नामजद शिकारियों के साथ तीन-चार अन्य के खिलाफ शिकार करने का मामला दर्ज कराया। इसके बाद ग्रामीणों ने पुलिस को रविवार शाम पांच बजे तक का अल्टीमेटम देते हुए धरना जारी रखा। पांच बजे तक शिकारी गिरफ्तार नहीं किए गए तो कलक्ट्रेट पर धरना दिया जाएगा।

तीन शिकारियों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज
शिकार की घटना को लेकर बालासर निवासी लादूराम पुत्र हरकाराम ने थाने में रिपोर्ट देकर बताया कि बालासर की सरहद में 20 अगस्त की रात को करीब 12 बजे शिकारियों द्वारा खुलेआम वन्यजीव चिंकारा हरिणों एवं खरगोश का शिकार किया जा रहा था। आसपास क्षेत्र के किसानों ने शिकारियों को चिंकारा हरिणों को मारते हुए देखा, जिसकी सभी ग्रामीणो को सूचना दी व शिकारियों को ललकारा। आदतन शिकारी अवैध हथियारों, मोटरसाइकिल, पिकअप गाड़ी सहित अधिक संख्या में थे, इसके बावजूद ग्रामीणों ने घटनास्थल पर ही शिकारियों से सामना कर 2 मृत चिंकारा हरिण व एक खरगोश छीन लिया तथा 2 घंटे तक ग्रामीणों ने शिकारियों का सामना व पीछा किया। एक शिकारी के साथ झड़प हुई तो उसकी टी-शर्ट घटना स्थल पर ग्रामीणो के हाथ में रह गई। एक शिकारी की चम्पल की जोड़ी भी घटनास्थल पर रह गई। साथ ही खून से सन्ना हुआ एक प्लास्टिक का कट्टा भी घटनास्थल पर शिकारियों से छीना गया। लादूराम ने बताया कि शिकारी वन्यजीवों का शिकार टॉर्च जुगाड़ की सहायता से लाठी मारकर कर रहे थे। ग्रामीण भदवासी निवासी गंगाराम माली, बालासर निवासी मालाराम, किशनाराम जाट, भंवराराम जाट आदि ने मुठभेड़ के बाद शिकारियों की मोटरसाइकिल छीन ली। रिपोर्ट में बताया कि शिकार की घटना में आदतन शिकारी मकौड़ी निवासी रामपाल पुत्र सोनाराम नायक, अलाय निवासी राकेश पुत्र फुलाराम उर्फ मनफुलाराम नायक, मकौड़ी निवासी हनुमानराम पुत्र सोनाराम नायक सहित 3-4 अन्य शामिल थे, लेकिन रात्रि का फायदा उठाकर मौके से भाग गए।

Show More
shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned