scriptफैसले पर संशय, हुए तो एक भी पीडि़ता क्यों नहीं पहुंची बाकी सरकारी मुआवजा लेने | If there were doubts on the decision, why did not a single victim reac | Patrika News

फैसले पर संशय, हुए तो एक भी पीडि़ता क्यों नहीं पहुंची बाकी सरकारी मुआवजा लेने

संदीप पाण्डेय

नागौर. तकरीबन सात साल में दलित बलात्कार के एक भी मामले में कोई आरोपी दोषी साबित नहीं हुआ है। यानी किसी आरोपी को सजा नहीं मिली। ये हम नहीं कह रहे आंकड़े बता रहे हैं। ऐसा एक मामला नहीं हुआ जिसमें फैसला होने के बाद पीडि़ता मुआवजे की बची राशि लेने थाने या सामाजिक न्याय व अधिकारिता विभाग पहुंची हो। मतलब पूरे नागौर जिले में एक जनवरी 2015 से 23 नवंबर 2021 तक हुए बलात्कार के प्रकरण की स्थिति तो यही बताती है।

नागौर

Published: November 24, 2021 10:30:15 pm

करीब सात साल में दलित बलात्कार मामलों का हाल
एक जनवरी 2015 से 23 नवंबर 2021 तक की सच्चाई-1565 मामले दर्ज,457 में एफआर तो 42 प्राथमिक जांच में रद्द

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Group Sites

Top Categories

Trending Topics

Trending Stories

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.