पड़ोसी जिलों को पछाड़ा, रीट की परीक्षा कराने में भी हम ‘21’

नागौर जिले में 90 फीसदी से अधिक परीक्षार्थियों ने दी परीक्षा, यह आंकड़ा आसपास के जिलों में सबसे अधिक
- सरकारी इंतजामों के साथ सामाजिक संस्थाओं की सेवा ने अभ्यर्थियों को किया प्रोत्साहित

By: shyam choudhary

Published: 28 Sep 2021, 10:08 AM IST

नागौर. नागौर के केवल मोटर व्हीकल रजिस्ट्रेशन नम्बर ही ‘21’ नहीं हैं, बल्कि हम कई मामलों में प्रदेश में ‘इक्कीस’ हैं, यहां के लोग विभिन्न क्षेत्रों में अपने आप को ‘इक्कीस’ साबित करने से नहीं चुकते हैं। इस बार रीट का आयोजन कराने में भी हम ‘इक्कीस’ साबित हुए हैं। सरकारी प्रयासों के साथ विभिन्न समाजों, सामाजिक संस्थाओं एवं जिलेवासियों ने निजी स्तर पर रीट के अभ्यर्थियों के लिए जितना हो सका, सहयोग किया। इसी की बदौलत जिले में परीक्षा के लिए पंजीकृत अभ्यर्थियों में से उपस्थित रहे परीक्षार्थियों का प्रतिशत आसपास के जिलों से अधिक रहा है।

नागौर जिले में आयोजित रीट प्रथम व द्वितीय लेवल की दोनों परीक्षा में परीक्षार्थियों की उपस्थिति 90 प्रतिशत से अधिक रही, जबकि आसपास के किसी भी जिले में हमारे जितनी उपस्थिति नहीं रही। कारण साफ है, जिले के पुलिस, प्रशासन, शिक्षा विभाग सहित अन्य सरकारी मशीनरी ने परीक्षा को सफल बनाने में जो प्रयास किए, उतने ही सामाजिक स्तर पर हुए, ताकि जिले में आने वाला कोई भी परीक्षार्थी बिना परीक्षा दिए वापस नहीं जाए। गौरतलब है कि क्षेत्रफल की दृष्टि से राजस्थान का पांचवां सबसे बड़ा जिला नागौर सात जिलों बीकानेर, चूरू, सीकर, जयपुर, अजमेर, पाली व जोधपुर के बीच स्थित है।

दूसरी पारी में पिछड़ गए बीकानेर-सीकर
नागौर के पड़ौसी जिले अजमेर में रीट परीक्षार्थियों की उपस्थिति प्रथम पारी में 86.56 प्रतिशत तथा दूसरी में 87.30 प्रतिशत रही। इसी प्रकार बीकानेर में प्रथम पारी में 90.93 प्रतिशत व द्वितीय में 83.22 प्रतिशत, जोधपुर में प्रथम पारी में 64.37 प्रतिशत व द्वितीय में 62.04 प्रतिशत, पाली में दोनों की मिलाकर 88.1 प्रतिशत, सीकर में प्रथम पारी में 90.03 प्रतिशत व द्वितीय में 89.07 प्रतिशत, चूरू में प्रथम पारी में 66.21 प्रतिशत व द्वितीय पारी में 62.18 प्रतिशत, झुंझुनूं में प्रथम पारी में 71.5 प्रतिशत व द्वितीय में 63.5 प्रतिशत तथा जयपुर में दोनों पारी में 80 प्रतिशत परीक्षार्थी उपस्थित हुए, जबकि नागौर जिले में प्रथम पारी में 90.73 प्रतिशत व द्वितीय पारी में 90.12 प्रतिशत उपस्थिति रही। हालांकि बीकानेर में प्रथम पारी में 90.93 प्रतिशत परीक्षार्थी उपस्थित रहे, लेकिन द्वितीय पारी में 83 फीसदी ही बैठे। इसी प्रकार सीकर में भी प्रथम पारी में 90.03 प्रतिशत उपस्थित रहे, लेकिन द्वितीय में 89.07 ही रहे।

32 जिलों के अभ्यर्थी नागौर आए परीक्षा देने
खास बात यह है कि नागौर जिले में प्रदेश के टोंक जिले को छोड़ दें तो सभी 31 जिलों के अभ्यर्थी परीक्षा देने आए। सबसे ज्यादा अभ्यर्थी सीकर व जयपुर जिले से आए। वहीं नागौर जिले के अभ्यर्थी भी प्रदेश के सभी 32 जिलों में परीक्षा देने गए।

जानिए, कितने परीक्षार्थी आए और कितने गए
जिला - आए - गए
अजमेर - 1 - 21
अलवर - 1022 - 93
बांसवाड़ा - 60 - 153
बाड़मेर - 1421 - 406
भरतपुर - 5 - 8
भीलवाड़ा - 1 - 5
बीकानेर - 508 - 242
बूंदी - 6 - 21
चित्तौडगढ़़ - 17 - 17
चूरू - 40 - 1775
डूंगरपुर - 95 - 5
जयपुर - 5806 - 7254
जैसलमेर - 259 - 115
जालौर - 248 - 257
झुंझुनूं - 955 - 257
झालावाड़ - 18 - 6
जोधपुर - 5022 - 5412
कोटा - 14 - 43
पाली - 1438 - 5550
सवाई माधोपुर - 2 - 3
सीकर - 6309 - 2991
सिरोही - 39 - 182
श्रीगंगानगर - 41 - 358
टोंक - 0 - 1
उदयपुर - 59 - 27
धौलपुर - 3 - 2
दौसा - 430 - 81
बारां - 15 - 3
राजसमंद - 18 - 10
हनुमानगढ़ - 25 - 197
करौली - 1 - 1
प्रतापगढ़ - 9 - 3

हमारी व्यवस्थाएं सबसे अच्छी रही
हमारे जिले में प्रदेश के टोंक को छोडकऱ सभी जिलों से अभ्यर्थी परीक्षा देने आए और दोनों पारियों में उपस्थिति प्रतिशत 90 फीसदी से अधिक रहा। इसकी वजह हमारी परिवहन व ठहरने-खाने की व्यवस्थाएं बहुत अच्छी थीं। सरकारी स्तर के साथ जिस प्रकार आमजन ने सेवा का भाव दिखाया, काबिलेतारीफ है। दूसरा, हमारा जिला प्रदेश के केन्द्र में है, इसलिए हर जिले का अभ्यर्थी यहां पहुंच गया।
- डॉ. रणजीत पूनिया, जिला नोडल प्रभारी, रीट परीक्षा

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned