साधक के जीवन में गुरु का होना बेहद जरूरी

Nagaur.जयमल जैन पौषधशाला में गुरु पूर्णिमा पर हुआ विशेष आयोजन
गुरु पूर्णिमा पर समझाई गुरु की महत्ता

By: Sharad Shukla

Published: 24 Jul 2021, 11:21 PM IST

नागौर. नागौर. श्वेतांबर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ के तत्वावधान में शनिवार को हुए कार्यक्रम में गुरु पूर्णिमा पर विशेष प्रवचन में जयगच्छीय जैन साध्वी बिंदुप्रभा ने कहा कि जो अज्ञानता से दूर कर ज्ञान की ओर ले जाने वाला गुरु होता है। अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाए वह गुरु ही होता है हैं। भारतीय संस्कृति में गुरु - शिष्य परंपरा को निभाने वाले सभी धर्ममतों में गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित किया जाता है। साध्वी ने कहा कि मोक्ष मंजिल की यात्रा प्रारंभ करने वाले साधक के जीवन में गुरु होने बहुत जरूरी है। गुरु से ही जीवन शरू होता है। जन्म देने वाली मां होती है, और जीवन देने वाले गुरु होते हैं। श्रद्धावान लभते ज्ञानं यानि श्रद्धा हो तो ज्ञान फ़ौरन प्रवेश कर लेता है। साध्वी ने चार प्रकार के गुरु का वर्णन बताया। पहला- गुरु दीपक की तरह होते हैं। उनके स्वयं का जीवन रोशनीमय होता है, और वे दूसरों के जीवन में रोशनी प्रज्वल्लित करते है। दूसरा-गुरु पारस की तरह होते हैं। तीसरा-गुरु भंवर की तरह होते हैं। जिस प्रकार भंवर एक लट को अपने स्वरूप बना लेता है, ठीक उसी प्रकार गुरु भी अपने शिष्य को अपने जैसा बना लेते हैं। चौथा-गुरु चंदन की तरह होते है। गुरु जैसे पारसमणि का स्पर्श मिल जाये तो लोहा भी सोना बन जाता है।
गुरु पूर्णिमा पर की मूक पशु-पक्षियों की सेवा
श्वेतांबर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ के तत्वावधान में शनिवार को जयगच्छीय जैन साध्वी बिंदुप्रभा एवं साध्वी हेमप्रभा के सानिध्य में गुरु पूर्णिमा पर विभिन्न धार्मिक आयोजन हुए। आचार्य जयमल जैन मार्ग स्थित जयमल जैन पौषधशाला में सुबह नौ बजे से 10 बजे तक प्रवचन हुआ। मंच का संचालन पूनमचंद बैद ने किया। प्रवचन में पूछे गए प्रश्नों के उत्तर कल्पना ललवानी, सपना ललवानी, प्रिंस बोहरा एवं मनोज ललवानी ने दिए। विजेताओं को मेघराज, जितेंद्र चौरडिय़ा की ओर से पुरस्कृत किया गया। दोपहर दो बजे से तीन बजे तक महाचमत्कारिक जयमल जाप का अनुष्ठान किया गया। जाप की प्रभावना एवं आगंतुकों के भोजन का लाभ नरपतचंद, प्रमोद ललवानी ने लिया। मुदित पींचा ने बताया कि गुरु पूर्णिमा पर संघ के कार्यकर्ताओं ने विशेष तौर पर सुबह शहर में विभिन्न जगह घूमकर मूक पशु-पक्षियों की सेवा की गई। इस दौरान संघ मंत्री हरकचंद ललवानी, संगीता चौरडिय़ा, नगराज ललवानी, अशोक नाहटा, लोकेश जैन, जतन बाघमार, भीकमचंद ललवानी, पार्षद दीपक सैनी सहित अन्य श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित थे।

 

Sharad Shukla Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned