भाजपा व आरएलपी के गठबंधन को लेकर फंसा पेच, गत चुनाव में तीसरे स्थान पर रही भाजपा के कार्यकर्ता कर रहे विरोध

भाजपा व आरएलपी के गठबंधन को लेकर फंसा पेच, गत चुनाव में तीसरे स्थान पर रही भाजपा के कार्यकर्ता कर रहे विरोध
Khinvasar assembly by-election

Shyam Lal Choudhary | Publish: Sep, 23 2019 12:47:16 PM (IST) | Updated: Sep, 23 2019 12:47:17 PM (IST) Nagaur, Nagaur, Rajasthan, India

Khinvasar assembly by-election भाजपा सदस्यता अभियान के राष्ट्रीय सह संयोजक अरुण चतुर्वेदी ने कहा - हम गठबंधन का धर्म निभाते हैं, बेनीवाल भी बोले - हम चाहते हैं गठबंधन से लड़ें चुनाव, कांग्रेस का सत्ता पर नियंत्रण नहीं, प्रदेश में अपराध चरम पर

खींवसर/नागौर. खींवसर विधानसभा उपचुनाव की घोषणा होते ही गत लोकसभा चुनाव में भाजपा व आरएलपी के बीच हुए गठबंधन को जारी रखने को लेकर चर्चा गर्म हो गई है। आरएलपी संयोजक व सांसद हनुमान बेनीवाल का कहना है कि वे चाहते हैं कि राजस्थान दो सीटों पर हो रहे उपचुनाव में भाजपा व आरएलपी का गठबंधन रहे और एक सीट पर भाजपा और एक पर आरएलपी चुनाव लड़े।

वहीं रविवार को नागौर व खींवसर दौर पर आए भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष एवं सदस्यता अभियान के राष्ट्रीय सह संयोजक अरुण चतुर्वेदी ने कहा कि भाजपा में संविधान एवं कार्यकर्ता ही आधार है और दोनों को ध्यान में रखकर भाजपा उपचुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि गठबंधन भाजपा की परम्परा रही है और हम गठबंधन धर्म को निभाते हैं, लेकिन कार्यकर्ताओं का पूरा ख्याल रखा जाएगा। कार्यकर्ताओं की राय हमने ले ली है, अब प्रदेश व केन्द्रीय नेतृत्व इसका निर्णय करेगा कि चुनाव कौन लड़ेगा। गौरतलब है कि गत वर्ष हुए विधानसभा चुनाव में खींवसर विधानसभा में भाजपा तीसरे स्थान पर रही थी।

राष्ट्रीय सह संयोजक चतुर्वेदी ने रविवार को खींवसर व नागौर में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि खींवसर में चुनाव कौन लड़ेगा, यह प्रदेश नेतृत्व तय करेगा। हमने कार्यकर्ताओं की राय को एकत्र किया है, प्रदेश नेतृत्व व केन्द्रीय नेतृत्व इन सारे विषयों को केन्द्र बिन्दु बनाकर अपना निर्णय लेगा। उन्होंने कहा कि भाजपा 30 सितम्बर तक अपना प्रत्याशी घोषित कर देगी। इससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि प्रत्याशी का निर्णय अगले तीन-चार दिन में होता नजर नहीं आ रहा है।

कांग्रेस की विफलताओं को बनाएंगे चुनाव का मुद्दा
पत्रकारों से वार्ता के दौरान चतुर्वेदी ने कहा कि पिछले 9 महीने में प्रदेश की सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है। चाहे बेरोजगारी भत्ते का मामला हो, चाहे आर्थिक आरक्षण की बात। पिछली सरकार की आचार संहिता से पूर्व निकाली गई स्वीकृतियों को सरकार ने अटका दिया। प्रदेश में भ्रष्टाचार एवं अपराध चरम पर हैं। कांग्रेस के राज में दलित एवं महिलाएं प्रताडि़त हो रही हैं। कांग्रेस सरकार का सत्ता पर नियंत्रण नहीं रहा है। अपराधी थाने पर हमला कर रहे हंै और दिनदहाड़े पुलिस हिरासत से अपराधियों को छुड़ा ले जाते हैं, लेकिन सरकार इस पर नियंत्रण करने की बजाए एक नेता सत्ता पर काबिज रहने के लिए दिल्ली जाता है और दूसरा सत्ता हथियाने के लिए उसके पीछे दिल्ली जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की इन्ही विफलताओं को भाजपा चुनावी मुद्दा बनाएगी।

किसानों के साथ धोखा
चतुर्वेदी ने कहा कि अपने आपको किसान हितैषी बताकर सत्ता पर काबिज होने वाली कांगे्रस सरकार ने किसानों के साथ धोखा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। किसानों का कर्जा भाजपा सरकार ने माफ कर दिया था, लेकिन कांग्रेस ने कर्ज माफी के नाम पर झूठी वाहवाही लूटी और अब किसानों को ऋण देने की बारी आई तो खजाना खाली बताकर सरकार पीछे हट रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की इस नीति से कई गरीब किसान खेती से वंचित रह गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बेरोजगारी की समस्या को ध्यान में रखकर एक लाख 46 हजार करोड़ का पैकेज दिया है, जिससे व्यापार बढ़ेगा और लोगों को रोजगार सुलभ होगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned