नागौर. ‘किसान आंदोलन से हमें एक बड़ी मंडी का पता चल गया है, जहां किसान के जिंस की एमएसपी पर खरीद होगी और वो मंडी है दिल्ली की पार्लियामेंट। अगले दस दिन में सफलें कट जाएंगी। अपनी-अपनी फसलें निकालने के बाद एमएसपी पर नहीं बिके तो ट्रेक्टर-ट्रॉली में भरना और दिल्ली आ जाना। रास्ते में कोई रोके तो बोलना, मोदी ने कानून बनाया है, या तो आगे जाने दे या फिर एमएसपी पर खरीद ले।’
यह बात भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बुधवार को नागौर में आयोजित किसान महापंचायत में बड़े गंभीर अंदाज में कही। हालांकि उनकी बात पर कुछ लोग हंसने लगे, जिस पर उन्होंने कहा कि मेरी बात को मजाक में मत लो, यह करना है। ताकि आपको भी पता चल जाए कि कानून क्या है और मोदी को भी पता चल जाए कि एमएसपी पर जिंसों की खरीद हो रही है या नहीं। उन्होंने उत्तरप्रदेश व मध्यप्रदेश के दो उदाहरण भी दिए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned