कोलकता चिकित्सक आंदोलन: अब नागौर के चिकित्सकों ने किया ये काबिलेतारीफ काम

Sharad Shukla

Updated: 14 Jun 2019, 03:07:08 PM (IST)

Nagaur, Nagaur, Rajasthan, India

नागौर. कोलकता में डॉक्टर्स के साथ हुई मारपीट के विरोध में आईएमए के बैनरतले चिकित्सकों ने शुक्रवार को काली पट्टी बांधी, और सुरक्षा व्यवस्था की मांग करते हुए दो घंटे का ओपीडी बहिष्कार किया, लेकिन नागौर जिले के राजकीय चिकित्सालयों में डॉक्टर्स ने मरीजों की असुविधा व भीषण गर्मी को ध्यान में रखते हुए सराहनीय पहल कर पूरे समय तक मरीजों को देखा। इस दौरान आईएमए ने कलक्टे्रट में प्रदर्शन करते हुए जिला कलक्टर को प्रधानमंत्री, गृहमंत्री एवं केन्द्रीय चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा
कोलकता के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हुए भीड़ द्वारा चिकित्सको पर हमले के विरोध में द्वारा शुक्रवार को आईएमए ने काला दिवस मनाया। आईएमए से जुड़े निजी एवं राजकीय चिकित्सकों ने कालीपट्टी बांधकर प्रदर्शन किया। जिले के कुचामन आदि राजकीय हॉस्पिटलों में चिकित्सकों ने विरोध स्वरूप केवल काली पट्टी बांधी, जबकि मरीजों को पूरे समय तक देखा। कुचामन राजकीय हॉस्पिटल के कार्यवाहक पीएमओ डॉ. वी. के. गुप्ता ने बताया कि रोगियों की समस्या को ध्यान में रखते हुए डॉक्टर्स ने काली पट्टी बांधकर विरोध किया, लेकिन रोगियों की जांच रोजाना की तरह ही की। इसी तरह से नागौर के जिला राजकीय हॉस्पिटल जेएलएन में भी चिकित्सकों ने पूरे समय तक रोगियों की जांच की। आईएमए के जिला सचिव डॉक्टर रणवीर चौधरी ने कहा कि डॉक्टर्स पर हो रहे हमलों के विरोध में यह प्रदर्शनके हिंसात्मक घटनाओं और अत्याचारों का विरोध करता है। विरोध प्रदर्शन के दौरान सेवारत चिकित्सक अपने अपने कार्यस्थल पर काली पट्टी बांध कर कार्य करते हुए काला दिवस मनाते और हुए विरोध प्रदर्शित किया। ज्ञापन में डॉ. रणवीर चौधरी, आईएमए अध्यक्ष डॉ. प्रदीप गुप्ता, कोषाध्यक्ष डॉ. बी. एल. भूतड़ा एवं डॉ. के. के. शर्मा आदि मौजूद थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned