विद्यालय क्रमोन्नति के अभाव में पढ़ाई से वंचित लाडो

विद्यालय क्रमोन्नति के अभाव में पढ़ाई से वंचित लाडो

Pratap Singh Soni | Publish: Sep, 08 2018 07:07:16 PM (IST) Nagaur, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/nagaur-news/

लुणावास में 12 वर्ष से विद्यालय क्रमोन्नति का इंतजार
दूसरे गांव पढने जाते हैं विद्यार्थी
खींवसर. नारवा ग्राम पंचायत के राजस्व गांव लूणावास में उच्च प्राथमिक विद्यालय नहीं होने के कारण अधिकांश गांव की बेटियों की प्राथमिक शिक्षा के बाद पढाई छूट रही है। गांव के पश्चिमी आबादी क्षेत्र में स्थित प्राथमिक विद्यालय करीब 12 वर्ष पहले शुरू हुआ लेकिन आज तक क्रमोन्नत नहीं हुआ। स्कूल में शुरू से लेकर आज तक लडक़ों से ज्यादा लड़कियों की संख्या रही है, फिर भी उन्हें उच्च शिक्षा दिलाने के लिए सरकार रूचि नहीं दिखा रही है। सरकार के बेटी बचाओ-बेटी पढाओ का नारा यहां झूठा साबित हो रहा है।

16 वर्षों से बंद रास्ता
गांव की 24 बच्चियां नारवा कलां स्कूल में पढऩे जा रही है वहीं बीच में आने वाले हनुमान नगर गांव में 16 वर्षों से मुख्य रास्ता बंद होने के कारण विद्यार्थी पगडण्डी रास्ते से चार किलोमीटर की बजाए छह किलोमीटर घूमकर जा रहे हंै। हनुमान नगर स्कूल में इस गांव के दर्जनभर लडक़े-लड़कियां पढऩे जा रहे हंै। छात्र अचलाराम, विमला ने बताया कि रास्ता बंद होने से स्कूल जाने में करीब एक घण्टा लगता है और खेतों के बीच से पगडण्डी रास्ते से जाना उनकी मजबूरी है।

स्टॉफ के अभाव में पढाई बाधित
राधा प्रजापत व मनोहर ने बताया कि हनुमान नगर स्कूल में भी अध्यापकों के पद रिक्त है। अंग्रेजी सहित कई टीचर नहीं होने से पढाई प्रभावित हो रही है। ग्रामीण किसनाराम रापडिय़ा, मांगीलाल, लिखमाराम, नारायणराम ने बताया कि लुणावास स्कूल को क्रमोन्नत करवाने के लिए जनप्रतिनिधियों से कई वर्षों से पुरजोर से मांग करते आ रहे हैं लेकिन किसी ने सुनवाई नहीं की।

उच्च शिक्षा से वंचित लड़कियां
गांव की अधिकांश लड़कियां उच्च शिक्षा से वंचित है। गांव से 3 किलोमीटर दूर अखावास में विद्यालय है लेकिन असुविधाओं के चलते बच्चियां वहां जा नहीं पा रही है। वहीं इस गांव में मेघवाल, रापडिय़ा कुम्हार व कालीरावणा की ढाणियों की बच्चियां 9 किलोमीटर दूर नारवा कलां में अपने स्तर पर जा रही है। जबकि अधिकांश असक्षम परिवारों की लड़कियों की उच्च शिक्षा से पहले ही पढ़ाई छूट रही है।

भारी परेशान है
गांव की स्कूल क्रमोन्नत नहीं होने से दूसरे गांव पढने जाना पड़ रहा है। बीच में रास्ता बंद होने से एक घण्टा सफर में बीत जाता है। ऐसे में पढाई प्रभावित हो रही है लेकिन सुनवाई नहीं होने से भारी परेशान है।
पुखराज कालीरावणा, छात्र

सरकार का नारा झूठा
सरकार बेटी बचाओ-बेटी पढाओ का नारा दे रही है जबकि यह नारा लुणावास में झूठा साबित हो रहा है। यहां की स्कूल को क्रमोन्नत नहीं करने से बच्चियों की उच्च शिक्षा प्राप्त करने से पहले ही पढ़ाई छूट रही है।
सोनिया प्रजापत, छात्रा

हमेशा की अनदेखी
गांव के लोगों ने हमारी पढाई को लेकर प्रत्येक जनप्रतिनिधि से विद्यालय क्रमोन्नत करने की गुहार लगाई मगर वोट लेने वाले नेताओं ने किसी की नहीं सुनी। जिस कारण हमारी पढ़ाई प्रभावित हो रही है।
रमेश मेघवाल, छात्र

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned