वायरस जनित बीमारियों की रोकथाम में जुटा चिकित्सा विभाग

वायरस जनित बीमारियों की रोकथाम में जुटा चिकित्सा विभाग
Medical department engaged in prevention of virus-borne diseases

Sharad Shukla | Publish: Sep, 24 2019 12:10:04 PM (IST) Nagaur, Nagaur, Rajasthan, India

Nagaur patrika latest news.प्रदेश के सभी जिलों को दिए निर्देश, अस्पतालों में तैयारियों के साथ ही सर्वे में तेजी लाने की हिदायतNagaur patrika latest news

Nagaur patrika latest news.नागौर. हवा से से फैलने वाले वायरस जनित बीमारियों से बचाव के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश के सभी जिलों के प्रभारी अधिकारियों को हिदायत जारी की है।

सुख-दुख का क्रम जारी रहता है

सर्वे करने के निर्देश

इस संबंध में सभी अस्पतालों एवं केन्द्रों में आवश्यक तैयारियों को करने के साथ ही विभागीय स्तर पर सर्वे करने के निर्देश दिए हैं। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार हवा से फैलने वाला वायरस बेहद खतनाक होता है। इसका संक्रमण के हवा के माध्यम से एक-दूसरे को मिलने के साथ कई लोग इसके संपर्क में आ जाते हैं। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की इस संबंध में 24 सितंबर को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री के साथ सभी जिला कलक्टर्स के साथ वीडियोकॉन्फ्रेेसिंग के माध्यम से इससे जुड़े बिंदुओं पर चर्चा की जाएगी, और बचाव करने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए जाएंगे।

बकाया भुगतान से हांफते शिक्षण संस्थानों को मिली राहत

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के हॉपिटल एडमिस्ट्रिेशन के निदेशक रविप्रकाश शर्मा ने से बातचीत हुई तो बताया कि सभी जिलों में अस्पतालों में आवश्यक व्यवस्थाओं करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही विभागीय स्तर पर सर्वे के काम में तेजी लाने के लिए कहा गया है। वायरस जनित बीमारियों में स्ववाइन फ्लू और कांगो फीवर को लेकर भी सख्त हिदायत दी गई है। इसके साथ ही सभी जिलों से इस संबंध में रिपोर्ट भी मांगी गई है।

बीएसएनएल ईयू बनी देश की नंबर वन यूनियन
ग्रामीण स्वास्थ्य के अतिरिक्त निदेशक ने जारी निर्देश में कहा कि
इसके नियंत्रण के लिए योजनाबद्ध तरीके से काम किया जाना चाहिए। इसमें वायरस जनित बीमारियों की जांच के लिए बिलकुल लापरवाही नहीं होनी चाहिए। स्वाइन फ्लू के संदर्भ में कहा है कि इसके लिए अलग से ओपीडी बनाकर जांच की जाए।

पढ़ाने वाले शिक्षक खुद ही नहीं समझ पाए कि क्या कर दिया यह...!

निगरानी रखे

संवेदनशील तत्वों या बीमारियों लक्षण मिलने पर विशेष स्क्रीनिंग की जाए। निर्देशो में कहा गया है कि गर्भवती महिलाएं, श्वास रोगी, हृदय रोगी, मधुमेह रोगी यकृत रोगी और मधुमेह रोगियों पर विशेष निगरानी रखे तथा इस समूह में से कोई भी मरीज़ सर्दी खाँसी जूख़ाम बुखार के लक्षणो के साथ अस्पताल में आए तो उन्हें तुरंत उपचारित किया जाना चाहिए।

्टेट नोडल आफिसर पहुंचे तो चमकता मिला जेएलएन

स्वाइन फ्लू के संदर्भ में कहा गया है कि सभी संस्थानो में एजीथ्रोमाइसिंन ओर डोक्सिसाइकलिंन दवा की उपलब्धता रखने हेतु कहा गया है। इसके साथ ही पशुपालन विभाग से समन्वय रखने को कहा गया है ।Nagaur patrika latest news

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned