scriptMore than 2 thousand Anganwadi centers do not have their own buildings | दो हजार से अधिक आंगनबाड़ी केन्द्रों के पास नहीं खुद का भवन, सुनिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का बयान | Patrika News

दो हजार से अधिक आंगनबाड़ी केन्द्रों के पास नहीं खुद का भवन, सुनिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का बयान

locationनागौरPublished: Sep 16, 2023 11:36:53 am

Submitted by:

shyam choudhary

जिले में कुल 2873 आंगनबाड़ी केन्द्र, जिनमें मात्र 707 के पास ही है खुद का भवन, 1159 स्कूलों के भवन में तो 261 अन्य राजकीय भवनों में हो रहे संचालित
- 325 निजी भवनों में चल रहे आंगनबाड़ी केन्द्र, जबकि 429 चल रहे किराए के भवनों में, वो भी पूरा नहीं दे रहे

More than 2 thousand Anganwadi centers do not have their own buildings
More than 2 thousand Anganwadi centers do not have their own buildings

नागौर. जिले में आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पोषाहर, शिक्षण एवं अन्य योजनाओं के नाम पर हर महीने करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं, जबकि 75 फीसदी आंगनबाड़ी केन्द्रों के पास खुद का भवन नहीं है। नागौर (डीडवाना-कुचामन सहित) जिले के 429 केन्द्र तो किराए के भवन में संचालित हो रहे हैं। उनमें कुछ तो ऐसे हैं जो एक छोटे कमरे में, जहां पोषाहार व अन्य योजनाओं का सामान रखने के बाद बच्चों को बैठाने की भी जगह नहीं है।
पत्रिका पड़ताल में यह बात भी सामने आई है कि किराए के भवनों के लिए कार्यकर्ताओं को पूरा किराया भी नहीं दिया जा रहा है, जबकि शहरी क्षेत्र में तीन हजार तक किराया दिया जा सकता है।

Copyright © 2023 Patrika Group. All Rights Reserved.