वीडियो : नागौर में अचानक बढ़ गया कोरोना टीकाकरण, जानिए क्या रहे कारण

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर जागरुकता व प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित

By: shyam choudhary

Updated: 24 Jan 2021, 11:38 AM IST

नागौर. कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान के तहत शनिवार को जिले में 11 स्थानों पर टीकाकरण सत्र आयोजित किए, जहां पंजीकृत स्वास्थ्य कार्मिकों में से 91.27 प्रतिशत ने टीकाकरण करवाया।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मेहराम महिया ने बताया कि नागौर जिले में 11 जगह कोरोना टीकाकरण सत्र आयोजित किए गए। जिले में निर्धारित टीकाकरण केन्द्रों पर कुल रजिस्टर्ड 1100 स्वास्थ्य कार्मिकों में से 1004 ने कोविशील्ड टीका लगवाया। सभी टीकाकरण केन्द्रों में कोरोना गाइडलाइन की पूर्ण पालना की गई। जिला प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुश्ताक अहमद ने बताया कि जिला मुख्यालय स्थित जेएलएन राजकीय अस्पताल में 116 स्वास्थ्य कार्मिकों के कोरोना टीकाकरण किया गया। इसी प्रकार परबतसर में 73, गोटन में 117, बड़ू में 72, जायल में 109, कुचामन में 71, डीडवाना में 90, मीठड़ी में 85, ईडवा में 89, नावां में 98 तथा लाडनूं के राजकीय चिकित्सा संस्थान में लगाए गए टीकाकरण सत्र में 84 स्वास्थ्य कार्मिकों को कोविशील्ड लगाया गया। कोरोना टीकाकरण केन्द्रोंं का जिला एवं ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों ने निरीक्षण भी किया।

जिला से लेकर ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों ने किया हैल्थ वॉरियर्स को संबोधित
जिले में कोरोना वैक्सीनेशन को बढ़ावा देने के लिए जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी के निर्देशानुसार जिले भर में ब्लॉक स्तरीय कोरोना वैक्सीनेशन जागरुकता बैठकें आयोजित की गई, जिनमें जिला से लेकर ब्लॉक स्तर के अधिकारियों ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा सहयोगिनी व स्वास्थ्य मित्रों को कोरोना वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक किया।
नागौर पंचायत समिति सभागार में रखे गए कार्यक्रम में विकास अधिकारी सविता टी., बीसीएमओ डॉ. महेन्द्रसिंह मीणा व सीडीपीओ दुर्गासिंह उदावत ने शहरी क्षेत्र की आशाओं को कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्रेरित व प्रशिक्षित किया। इस मौके पर बीपीएम प्रेमप्रकाश, बीएनओ मनोज व्यास व ब्लॉक आशा फेसिलेटर प्रमिला चारण भी मौजूद रहे। इसी प्रकार जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जवाहर चौधरी ने खींवसर पंचायत समिति मुख्यालय पर कोरोना वैक्सीनेशन जागरुकता कार्यक्रम को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी को हराने के लिए वैक्सीनेशन बहुत जरूरी है। करीब दस माह से लड़ी जा रही इस लड़ाई में कोरोना योद्धा की भूमिका में रहे चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टॉफ, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी, स्वास्थ्य मित्रों को पहले चरण में टीकाकरण किया जा रहा है, जिसमें सभी रजिस्टर्ड हैल्थ वॉरियर्स शत-प्रतिशत टीकाकरण करवाएं। इस दौरान संबंधित ब्लॉक के विकास अधिकारी, बीसीएमओ व सीडीपीओ मौजूद रहे।
इसके अतिरिक्त जिले के सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर जागरुकता व प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए गए, जिनमें संबंधित विकास अधिकारी, खण्ड मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा सीडीपीओ ने संभागियों का आवश्यक मार्गदर्शन किया।

दिखा पत्रिका की खबर का असर
गौरतलब है कि जिले में शुरू के तीन दिन हुए कोरोना वैक्सीनेशन में मात्र 67 फीसदी हैल्थ वर्कर्स ने ही टीकाकरण करवाया था। इसको लेकर राजस्थान पत्रिका ने 22 जनवरी के अंक में ‘67 प्रतिशत ने लगया मंगल टीका, नहीं दिखा दुष्प्रभाव’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर एक ओर हैल्थ वर्कर्स को मोटिवेट करने का काम किया, वहीं अधिकारियों का भी ध्यान आकर्षित किया, जिस पर जिला कलक्टर ने अधिकारियों को निर्देशित कर रजिस्टर्ड कार्मिकों को प्रशिक्षण व प्रेरित करने के लिए कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए। शनिवार को इसका असर देखा गया और 91.27 प्रतिशत ने टीका लगवाया।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned