क्या आप जानते हैं राजस्थान के इस किले में गजब का था जल प्रबंधन...

Dharmendra Gaur | Updated: 25 Jun 2018, 07:20:40 PM (IST) Nagaur, Rajasthan, India

राजस्थान के नागौर में ऐतिहासिक अहिछत्रगढ़ किला जल संरक्षण व जल प्रबंधन का उत्कृष्ट उदाहरण है...

नागौर. अहिछत्रगढ़ किला या NAGAUR किला जल संरक्षण का उत्कृष्ट उदाहरण है। बरसों पहले भी पूरे किले के पानी को एक स्थान पर संग्रहित कर रखे जाने की व्यवस्था थी। किले की मोटी-मोटी प्राचीरों के ऊपर इस प्रकार नालियों का निर्माण किया गया था कि सारा पानी बहकर एक के बाद एक कुएंनुमा खड्ढों से होता हुआ वाबडिय़ों में पहुंच जाता था। पूरे महल में जल प्रबंधन इस प्रकार था कि फाउण्टेन भी पानी से एक्टिवेट होतेे और उनका पानी भी बहकर वापस बावडिय़ों में चला जाता। इसी प्रकार महल के अलग-भागों में पानी की आपूर्ति भी इन्हींं बावडिय़ों से होती थी।निकटवर्ती चेनार गांव के शक्कर तालाब से पत्थर की नालियों से किले में पीने का पानी पहुंचाया जाता था। इसके अवशेष आज भी मौजूद है।
संरक्षित है सैनिकों की यादें
किले के भीतर चार सुंदर पैलेस हाड़ी रानी महल, अकबरी महल, आभा महल व बख्तसिंह पैलेस हैं, जो अपने सुंदर भित्ति चित्रों व स्थापत्य कला के कारण प्रसिद्ध हैं। इनके समीप ही एक शाहजहांनी मस्जिद है, जिसे मुगल शासक शाहजहां के समय में बनाया गया। इसके अलावा कुछ मजारे भी बनी हुई है। इसी के साथ ही किले के भीतर राजपूताना शैली में बनी हुई सैनिकों की सुंदर छतरियां भी हैं। किले में राधा कृष्ण, आराध्य देव गणेश, भैरवजी व नाहर माताजी का मंदिर है। गणेश मंदिर में हर बुधवार भक्तों की भीड़ रहती है। बड़ी तीज पर किले में राधा कृष्ण मंदिर में मेला भरता है व किले का शृंगार किया जाता है। राधा कृष्ण मंदिर के सामने विशाल मैदान में दरबार की ओर से खेलों व प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता था। यहां हाथियों को रखा जाता था।
विश्व भर में प्रसिद्ध है किला
नागौर किलों और महलों के कारण सदा से ही पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र रहा है। नागौर का किला दूर-दूर तक फैली रेत के बीच एक प्रकाश स्तंभ की तरह दिखाई देता है। चौथी शताब्दी में अस्तित्व में आया यह किला राजस्थान के अन्य किलों की तरह ही ऊंचाई पर स्थित है। यूनेस्को ने अहिछत्रगढ दुर्ग या नागौर किले को 2002 में एशिया पेसिफिक हेरिटेज अवार्ड ( अवार्ड ऑफ एक्सीलेंस) पुरस्कार से नवाजा है। पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहा नागौर किलों व महलों के रूप में नायाब खूबसूरती को समेटे हुए है। किले में तीन बारादरी स्थित है, जहां राज परिवार के लिए ेमनोरंजक कार्यक्रम आयोजित किए जाते थे।
अकबर की खिदमत में बनाया महल
अकबरी महल- अकबर के नागौर प्रवास के दौरान किले में उनके लिए एक महल का निर्माण करवाया गया, जिसे अकबरी महल भी कहा जाता है।
हमाम- इसके अलावा महल में रानियों के लिए विशाल स्नानागार व उनमें भित्तिचित्र भी देखते ही बनते हैं।
दीपक महल- राजा महाराजा के समय में होने वाले आयोजनों में रोशनी की व्यवस्था के लिए सैकड़ों दीपक जलाए जाते थे। दीपक जलाए जाने के सूबत आज भी महल में मौजूद है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned