वीडियो : नागौर स्थापना दिवस समारोह - बंशीवाला में बरसा भक्तिरस, झूमे शहरवासी

Shyam Lal Choudhary | Publish: Apr, 17 2018 12:58:39 PM (IST) Nagaur, Rajasthan, India

गायक अनिल सैन ने बरसाया इन्दर राजा तो दिनेश माली ने सांवरा थारी माया रो पायो कोनी पार सुनाकर बांधा समां

नागौर. तीन दिवसीय नागौर स्थापना दिवस के पहले दिन बंशीवाला मंदिर में जमकर भक्तिरस बरसा। स्थापना दिवस उत्सव के आगाज पर रात्रि में स्थानीय फनकारों ने सुर और ताल की जुगलबंदी की तो दाद देने वाले भी पीछे नहीं रहे। उल्लास और उमंग भरे दिलों से जब प्रस्तुतियां दी गई तो माहौल में अलग ही छठा बिखेर गई। बंशीवाला मंदिर में रात आठ बजे भक्ति संध्या आरम्भ हुई, जो करीब चार घण्टे से अधिक समय तक चली। शहरवासियों ने भक्तिरस के साथ स्थापना दिवस का झूमकर आनन्द लिया।
कार्यक्रम में आकांक्षा दी गुरुकुल स्कूल के निदेशक ललित पाराशर का विशेष सहयोग रहा। बंशीवाला युवा मण्डल के सदस्यों ने व्यवस्थाएं संभाली। नागौर पत्रिका के संपादकीय प्रभारी रूद्रेश शर्मा ने आगंतुकों को धन्यवाद ज्ञापित किया। इस मौके पर कृषि मण्डी व्यापार मण्डल के अध्यक्ष भोजराज सारस्वत, मगनराज बोडा, नृत्यगोपाल मित्तल, रमेश सोनी, प्रभुदयाल जांगीड़, शारदा शर्मा, नितिन पुरोहित, मंदिर पुजारी नारायण पाराशर सहित काफी संख्या में लोगों ने शिरकत की।

हे री कोई मंगल गाओ री....
भक्ति संध्या में अनिल सैन ने अपनी बुलंद आवाज में ज्योंही ‘बरस-बरस म्हारा इंदर राजा, तूं बरस्या म्हारो काज सरै’ गाया तो पूरा परिसर तालियों की गडगड़ाहट से गूंज उठा। सैन ने करमा बाई की भक्ति से ओत प्रोत भजन थाळी भरकर ल्याई रै खीचड़ो ऊपर घी की बाटकी... सुनाकर माहौल को भक्तिमय बना दिया। युवा गायक दिनेश माली ने अपने मधुर स्वरों और हृदय की गहराइयों से मातृभूमि को नमन करता गीत जिसकी माटी में देह पली... सुनाया तो चारों और उल्लास भर गया। इसके बाद माली ने श्रोताओं की मांग पर सांवरा थारी माया रो पायो कोनी पार... सुनाकर लोगों को भक्तिभाव से झूमने पर मजबूर कर दिया। आकाशवाणी कलाकार कैलाश गौड़ ने अपने भजन के माध्यम से श्रोताओं को मीरां की भक्ति से जोड़ा, वहीं जैन समाज के युवा गायक श्रेयांस सिंघवी ने अपने जोशीले सुरों से आ तो सुरगां नै सरमावै इण पर देव रमण नै आवे...। सुनाकर कार्यक्रम को ऊंचाइयां प्रदान की। इस अवसर पर श्याम अटल, मुन्ना सोनी, सुनील शर्मा, शरद जोशी, भजन गायक गोपाल अटल तथा नरेन्द्र पारीक ने भी भजनों की प्रस्तुतियां देकर समारोह का यादगार बनाया। शुरुआत गजल गायक देवेन्द्र त्रिवेदी ने गणेश वंदना से की। कार्यक्रम में ऑर्गन पर छीनू सिसोदिया, ढोलक पर कैलाश गोरमात, ऑक्टोपेड पर दीलिप गोरमात तथा तबले पर अजय व्यास ने संगत की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned