scriptNagaur's labor department became a 'mine of corruption' | नागौर का श्रम विभाग बना 'भ्रष्टाचार की खान', रात के अंधेरे में थोक में स्वीकृतियां | Patrika News

नागौर का श्रम विभाग बना 'भ्रष्टाचार की खान', रात के अंधेरे में थोक में स्वीकृतियां

डेपुटेशन व संविदा पर लगे अधिकारी-कर्मचारी जमकर कर रहे फर्जीवाड़ा
फर्जी दस्तावेजों से कर रहे श्रमिकों का पंजीयन, कई मामले सामने आए

नागौर

Updated: June 21, 2022 11:14:52 am

श्यामलाल चौधरी

नागौर. श्रम विभाग में डेपुटेशन व संविदा पर लगे अधिकारी व कर्मचारी फर्जीवाड़े की हदें पार कर रहे हैं। विभाग में श्रमिकों का पंजीयन करने से लेकर मृत्यु सहायता योजना तक फर्जी दस्तावेजों से अपात्रों को लाभ देकर 'भ्रष्टाचार की खान' खोदी जा रही है। इससे सरकार का खजाना खाली हो रहा है और पात्र आवेदक सरकारी योजनाओं से वंचित हो रहे हैं। जयपुर मुख्यालय के अधिकारियों की अनदेखी के चलते स्थानीय अधिकारी एक के बाद एक फर्जीवाड़ा कर रहे हैं।
Nagaur's labor department became a 'mine of corruption'
Nagaur's labor department became a 'mine of corruption'
विभाग में फर्जीवाड़े व भ्रष्टाचार का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अधिकारियों ने श्रमिक पंजीयन के सैकड़ों आवेदन रात के समय कुछ ही मिनटों में अप्रूव कर दिए, जिनमें अधिकतर के पूरे दस्तावेज भी नहीं हैं। सूत्रों से के अनुसार श्रमिक पंजीयन के लिए ऑनलाइन आवेदन करने वाले श्रमिकों के आवेदन अधिकारी सीधे 'फरदर इंक्वायरी' में डाल देते हैं, इसके बाद दलालों के माध्यम से जिनकी सिफारिश की जाती है, उनके आवेदनों को रात के समय घर पर बैठकर अप्रूव किया जाता है। पत्रिका के पास ऐसे सैकड़ों मामले हैं, जिनको पहले 'फरदर इंक्वायरी' में डाला गया और फिर कार्यालय समय के बाद रात को एक साथ अप्रूव किया गया। अचरज की बात यह है कि कुछ आवेदन तो सैकंडों में अप्रूव हो गए, जबकि एक आवेदन को चैक करने के लिए कम से कम आठ से दस मिनट का समय लगता है।
फर्जीवाड़ा नहीं है तो और क्या
श्रम विभाग द्वारा गत दिनों श्रमिक पंजीयन के कई आवेदन कार्यालय बंद होने के बाद रात के समय अप्रूव किए गए। अधिकारियों का कहना है कि काम अधिक होता है तो रात को भी कर लेते हैं, लेकिन बड़ा सवाल यह है कि जिस स्पीड से एक ही रात में सहायक श्रम आयुक्त भवानीसिंह चारण की आईडी से आवेदन अप्रूव किए गए, उसके हिसाब से हजारों आवेदन कुछ ही समय में स्वीकृत किए जा सकते हैं, ऐसे में महीनों व वर्षों से आवेदन लम्बित पड़े क्यों रखे गए हैं। यूं तो पत्रिका के पास रात को अप्रूव होने वाले आवेदनों की लम्बी सूची है, लेकिन जिम्मेदार यदि 28 मई 2022 को स्वीकृत किए गए 51 आवेदनों पर ही नजर डाल लें तो फर्जीवाड़ा उजागर हो जाएगा।
एक मिनट में दो-दो आवेदन अप्रूव, वो भी बिना दस्तावेज

सहायक श्रम आयुक्त की आईडी से 28 मई को पहला आवेदन (22/0009947) शाम 7.16 बजे स्वीकृत किया गया। इसके बाद (22/0009406) शाम 7.18 बजे, 22/0009810 को 7.20 बजे, 22/0009591 को 7.21 बजे, 22/0010900 को 7.27 बजे, 22/0009339 को 9.04 बजे, 22/0007843 को 9.11 बजे, 22/0008543 को 9.12 बजे, 22/0006293 को 9.13 बजे, 22/0009101 को 9.15 बजे, फिर 22/0011814 को 9.15 बजे, 22/0011812 को 9.16 बजे अप्रूव किया गया। इसी प्रकार 22/00012242 व 22/0012244 को 9.23 बजे, 22/0006406 व 22/0011357 को 9.24 बजे, 22/0008949 व 22/0009371 को 9.26 बजे स्वीकृत किया गया। यानी एक आवेदन को चैक करने में आधा मिनट भी नहीं लगा।
नियोजक के प्रमाण पत्र तक नहीं
विभागीय अधिकारी पात्र श्रमिकों को भले ही महीनों तक चक्कर कटवाते हैं, लेकिन दलालों के माध्यम से आने वाले आवेदनों को नियोजक का प्रमाण नहीं होने पर भी उन्हें अप्रूव कर दिया गया। कइयों के आवेदन भी अधूरे भरे हुए हैं, इसके बावजूद नियमों के परे जाकर थोक के भाव स्वीकृतियां जारी की गई हैं।
सहायक श्रम आयुक्त भवानीसिंह चारण से पत्रिका की सीधी बात
पत्रिका
- श्रमिकों के आवेदन रात को भी अप्रूव कर सकते हैं क्या?
चारण - नहीं, आवेदन अपलोड कर सकते हैं। हमारे यहां ज्यादा पेंडेंसी होने पर रात को करते हैं। अभी जैसे भौतिक सत्यापन का चल रहा है तो पेंडेंसी होने पर करते हैं।
पत्रिका - आपके विभाग का कोई अधिकारी रात में स्वीकृतियां जारी कर सकता है क्या?
चारण - आठ बजे तक सभी करते हैं। रात को 12 बजे, 3 बजे या 4 बजे नहीं कर सकते।
पत्रिका - एक आवेदन को चैक करने में कितना समय लगता है।
चारण - एक आवेदन को देखने में 15 से 20 मिनट तो लगते ही हैं।
पत्रिका - कुछ आवेदन ऐसे हैं, जो एक-आधा मिनट के अंतराल से जारी किए गए हैं।चारण - कब के हैं, दस्तावेज पूरे हैं तो कर देते हैं।
पत्रिका - 28 मई के हैं और एक-एक मिनट के अंतराल से अप्रूव हुए हैं, दस्तावेज भी पूरे नहीं हैं।
चारण - ऐसा तो नहीं हो सकता।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

कलकत्ता हाईकोर्ट की कड़ी टिप्पणी, कहा - 'पश्चिम बंगाल में बिना पैसे दिए नहीं मिलती सरकारी नौकरी'Jammu-Kashmir News: शोपियां में फिर आतंकी हमला, CRPF के बंकर पर ग्रेनेड अटैकओडिशा के 10 जिलों में बाढ़ जैसे हालात, ODRAF और NDRF की टीमों को किया गया तैनातकैबिनेट विस्तार के बाद पहली बार नीतीश कैबिनेट की बैठक, इन एजेंडों पर लगी मुहरशिमला में सेवाओं की पहली 'गारंटी' देने पहुंचेगी AAP, भगवंत मान और मनीष सिसोदिया कल हिमाचल प्रदेश के दौरे परममता बनर्जी के ट्विटर प्रोफाइल में गायब जवाहर लाल नेहरू की तस्वीर, बरसी कांग्रेसमुंबई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, गुजरात के भरूच में पकड़ी ‘नशे’ की फैक्ट्री, 1026 करोड़ के ड्रग्स के साथ 7 गिरफ्तारकेंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह के मानहानि के बयान पर मंत्री जोशी का पलटवार, कहा-दम है तो करें मानहानि
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.