नागौर जेएलएन अस्पताल में अब न ऑक्सीजन की कमी खलेगी और न वेंटिलेटर की

खुश खबर : कोविड-19 को देखते हुए जिला मुख्यालय के जेएलएन राजकीय अस्पताल को मिली बड़ी सौगात
- अस्पताल में स्थापित ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट में ही तैयार होगी ऑक्सीजन, प्रतिदिन 34 सिलेण्डर उत्पादन की क्षमता

By: shyam choudhary

Published: 15 Sep 2020, 04:07 PM IST

नागौर. जिला मुख्यालय के जेएलएन राजकीय अस्पताल में चिकित्सकों एवं मरीजों को अब ऑक्सीजन की कमी नहीं खलेगी। साथ ही अस्पताल में अब वेंटिलेटर की संख्या भी 35 हो गई है, जिसके चलते अस्पताल से रेफर किए जाने वाले मरीजों की संख्या में भी कमी आएगी। जेएलएन अस्पताल में स्थापित किए गए ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट ‘ऑक्सीएयर’ ने सोमवार को उत्पादन शुरू कर दिया। खास बात यह है कि यह प्लांट प्रतिदिन 34 से 36 सिलेण्डर ऑक्सीजन तैयार करने क्षमता रखता है, जबकि वर्तमान में अस्पताल में औसतन एक दर्जन सिलेण्डर की खपत हो रही है। ऐसे में खास बात यह है कि आने वाले दिनों में ऑक्सीजन की तीन गुनी खपत भी होगी तो प्लांट उसकी आपूर्ति कर देगा।

24 घंटे करेगा उत्पादन
कोविड-19 महामारी के चलते अस्पतालों में ऑक्सीजन की खपत बड़ी मात्रा में बढ़ी है, जिसके कारण ऑक्सीजन बेचने वालों ने इसकी कालाबाजारी करना भी शुरू कर दिया है। ऐसे में जेएलएन अस्पताल में लगाया गया प्लांट जिले के मरीजों के लिए बड़ी सौगात होगा। खास बात यह है कि यह प्लांट 24 घंटे आवश्यकतानुसार उत्पादन करेगा। प्लांट को पूरे अस्पताल से जोड़ दिया गया है, ताकि सभी वार्डों में जब चाहे ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा सके।

लागत नाम मात्र आएगी, अस्पताल का बड़ा खर्चा बचेगा
ऑक्सीजन प्लांट लगाने वाली ज्वाइंट वेंचर पार्टनर कम्पनी के फाउण्डर पीए जार्ज ने बताया कि इस प्लांट का निर्माण मेक इन इंडिया के तहत किया गया है और एक सिलेण्डर ऑक्सीजन की लागत मात्र 60 से 70 रुपए आएगी, जबकि अब तक अस्पताल प्रशासन प्रति सिलेण्डर पांच से छह गुना कीमत चुका रहा था और कोरोना के चलते पिछले काफी दिन से 12 से 15 सिलेण्डर की खपत हो रही है। ऐसे में अब जेएलएन अस्पताल की ऑक्सीजन सिलेण्डर पर खर्च होने वाली बड़ी राशि बच जाएगी। खास बात यह है प्लांट में ऑक्सीजन तैयार करने के लिए किसी प्रकार के रॉ-मेटेरियल की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

पहले 11 वेंटिलेटर, 24 नए मिले
जेएलएन अस्पताल को दूसरी बड़ी सौगात वेंटिलेटर के रूप में दी गई है। वर्तमान में अस्पताल में 11 वेंटिलेटर चालू हालत में हैं, जबकि ऑक्सीजन प्लांट शुरू होने के साथ ही 24 नए वेंटिलेटर मंगाए गए हैं। अस्पताल में अब कुल 35 वेंटिलेटर उपलब्ध रहेंगे। नए आए वेंटिलेटर आगामी दो-तीन दिन में इंस्टाल कर दिए जाएंगे। गौरतलब है कि जिले में जब कोरोना महामारी का पहला मरीज सामने आया था, उस समय पूरे जिले में मात्र 9 वेंटिलेटर थे, वहां अब कुल 31 वेंटिलेटर हैं, जिसमें 20 वेंटिलेटर व 11 पोर्टेबल वेंटिलेटर हैं।

Corona virus
Show More
shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned