हाउसिंग बोर्ड की टंकी से दूसरों को पानी, आवंटियों को कनेक्शन देने में आनाकानी

अधिकारियों की अनदेखी से आवंटियों में व्याप्त हो रहा है रोष, क्षतिग्रस्त मकानों की मरम्मत सहित बिजली-पानी व सीवरेज लाइन की समस्या को लेकर चर्चा

By: shyam choudhary

Published: 29 Jun 2020, 10:23 AM IST

नागौर. शहर के बालवा रोड स्थित डॉ. भीमराव अम्बेडकर आवासीय कॉलोनी के आवास निर्माण में बरती गई लापरवाही एवं अनदेखी का फायदा उठाकर नगर परिषद के अधिकारी व कर्मचारी भी बहती गंगा में हाथ धो रहे हैं। आवासीय कॉलोनी में मकान खरीदने वाले लोग किराए का मकान छोडकऱ खुद के घर में जाना चाहते हैं, लेकिन उन्हें पानी का कनेक्शन नहीं मिलने के कारण उन्हें दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। एक तरफ मकान का किराया चुका रहे हैं और दूसरी तरफ मकान की किस्त दे रहे हैं।

आंवटियों का कहना है कि वे पिछले एक साल से मकान में पानी का कनेक्शन लेने के लिए हाउसिंग बोर्ड, नगर परिषद व जलदाय विभाग के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन अधिकारी व कर्मचारी कनेक्शन देना तो दूर फाइल भी जमा नहीं कर रहे हैं। उल्टा यह ताने दे रहे हैं कि कनेक्शन दे दिया तो पानी देना पड़ेगा, जो संभव नहीं है।

जिनका पैसा लगा वही वंचित
गौरतलब है कि हाउसिंग बोर्ड द्वारा आवंटियों से मकानों की रेट के रूप में वसूली गई कीमत में बिजली, पानी, सीवरेज आदि का भी चार्ज शामिल है। कॉलोनी में करीब 2000 मकान बनाए गए हैं, जिनमें पानी की आपूर्ति करने के लिए हाउसिंग बोर्ड ने कॉलोनी में पानी की टंकी भी बना दी, लेकिन अब उस टंकी से कॉलोनी में पानी सप्लाई देने की बजाए नगर परिषद द्वारा पॉलिटेक्नीक कॉलेज, मॉडल स्कूल, आबकारी विभाग, बाल संप्रेषण गृह आदि में पानी की सप्लाई कर रहा है। यानी जिनके लिए टंकी बनाई गई, वही लोग आज पानी के लिए अधिकारियों के चक्कर काट रहे हैं।

बिना जानकारी लगा रहे चार्ज
कुछ आवंटियों ने बताया कि नगर परिषद में जलापूर्ति की व्यवस्था देखने वाला एक कर्मचारी फाइल जमा कराने जाते हैं तो रोड कटिंग का चार्ज जमा कराने की बात करता है, जबकि हाउसिंग बोर्ड में मकान खरीदने के साथ ही बिजली, पानी व सीवरेज कनेक्शन के लिए रोड कटिंग का चार्ज वसूल लिया जाता है। इसके बावजूद जानकारी के अभाव में कर्मचारी आवंटियों को परेशान कर रहा है।

समाधान नहीं हुआ तो करेंगे प्रदर्शन
रविवार को बालवा रोड हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में आवंटियों की बैठक आयोजित हुई, जिसमें करीब 50 आवंटियों ने भाग लिया। सबने अपनी-अपनी समस्याएं बैठक में रखी और समाधान के लिए नियमित रूप से बैठक करने का निर्णय लिया। साथ ही पानी कनेक्शन नहीं देने वाले कर्मचारियों व अधिकारियों का घेराव करने व उच्च स्तर पर शिकायत करने का निर्णय लिया गया। इस दौरान हाउसिंग बोर्ड संघर्ष समिति का गठन किया गया, जिसमें रामप्रकाश बिशु को अध्यक्ष, तेजाराम प्रजापति को सचिव तथा सदस्य के रूप में चेनाराम भोबिया, नरेंद्र सिंह भाटी, मनीष भार्गव, छोटूराम मिस्त्री, तेजप्रकाश, अर्जुन, श्रवण, राजाराम वैष्णव, श्यामा राम भार्गव, मन्नाराम उदाराम, सत्यनारायण सहित अन्य को चुना गया।

बैठक में इन मुद्दों पर हुई चर्चा

  • क्षतिग्रस्त मकानों की मरम्मत करवाना।
  • कॉलोनी के उद्यानों का विकास करवाना।
  • कॉलोनी में रोड लाइट चालू करवाना।
  • कॉलोनी में पानी कनेक्शन की फाइल लगाने वाले आवंटियों को हाथों-हाथ कनेक्शन जारी कर पानी सप्लाई शुरू करवाना।
  • कॉलोनी में झाडिय़ां कटवाना व साफ सफाई करवाना।
  • सीवरेज लाइन की सफाई करवाना।
  • कॉलोनी के लिए बीकानेर हाईवे से सीधी रोड की व्यवस्था करवाना।

रोड कटिंग चार्ज वसूल चुके
बालवा रोड स्थित हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी नगर परिषद को हैण्डऑवर नहीं की है, इसलिए नगर परिषद पानी कनेक्शन के लिए आवंटियों से रोड कटिंग का चार्ज नहीं वसूल सकती। मैंने उन्हें लिखित में भी दे दिया कि है रोड कटिंग का चार्ज पहले ही वसूल चुके हैं। जहां तक मकानों की मरम्मत व सफाई का सवाल है तो जल्द ही इस समस्या का समाधान करवाएंगे।
- आरसी मेघवाल, एक्सईएन, हाउसिंग बोर्ड, नागौर

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned