नागौर में श्रम की बूंदों से निखरा बख्त सागर तालाब का सौंदर्य

neha soni

Updated: 19 May 2019, 01:06:29 PM (IST)

Nagaur, Nagaur, Rajasthan, India

नागौर।
‘मैं तो अकेला ही चला था जानिब ए मंजिल, मगर लोग जुड़ते गए कारवां बनता गया।’ कुछ इन्हीं पंक्तियों को सार्थक करती नजर आ रही है राजस्थान पत्रिका की छोटी सी मुहिम। सामाजिक सरोकार के तहत पत्रिका ने शहर के झड़ा, गिनाणी व बख्तसागर तालाब के सौन्दर्यकरण के बाद प्रताप सागर तालाब का वैभव लौटाने के लिए मुहिम शुरू की थी। पत्रिका के अमृतम जलं अभियान के तहत प्रदेश भर में एक साथ चलाए जा रहे अभियान के तहत रविवार को नगर परिषद के सहयोग से करवाए जा रहे श्रमदान कार्य में लोग जुड़ते गए और कारवां बनता गया।

बड़ी संख्या में शहरवासियों ने तालाब के सौन्दर्यकरण को लेकर पसीना बहाया। . सुबह सात बजे ही लोग तालाब पहुंचे और साथी हाथ बढाना साथी रे..की तर्ज पर तालाब की सफाई में जुट गए। कोई झाडिय़ां काटने तो कोई घाट से मिट्टी हटाकर तगारियों में भरकर दूर ले जाने में व्यस्त नजर आया। नगर परिषद के सहयोग से किए जा रहे श्रमदान में बुजुर्ग, युवा, बच्चों व महिला शक्ति ने भी अपनी भागीदारी निभाई। तालाब के तीन तरफ बने घाटों की सफाई कर झाडिय़ां हटाने के बाद पूरा तालाब साफ दिखने लगा है।

इनकी रही उपस्थिति
श्रमदान कार्यक्रम में सभापति कृपाराम सोलंकी, कॉलेज व्याख्याता शंकर लाल जाखड़, पार्षद कैलाश पंवार, कमल सोनी, कृष्ण गोपाल गो सेवा समिति के कार्यकर्ता, नगर परिषद की टीम समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। बच्चे भी नहीं रहे पीछे श्रमदान में महिलाओं व बड़ों के साथ बच्चे भी पीछे नहीं रहे। उन्होंने भी श्रमदान किया। श्रमदान के बाद अल्पाहार की व्यवस्था की गई। आगामी रविवार को भी श्रमदान के तहत बख्तसागर तालाब में साफ-सफाई की जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned