वीडियो : शहर में माल प्रैक्टिस करने वाले चिकित्सकों को मिलेगा चेतावनी नोटिस

Shyam Lal Choudhary | Publish: Mar, 20 2019 09:15:00 AM (IST) Nagaur, Nagaur, Rajasthan, India

एनएचएम के मिशन निदेशक डॉ. शर्मा व कलक्टर के निर्देश पर गठित कमेटी ने जिला मुख्यालय पर संचालित सरकारी चिकित्सकों के क्लीनिक व अस्पतालों की जांच कर बनाई रिपोर्ट

नागौर. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के विशिष्ट शासन सचिव तथा एनएचएम के मिशन निदेशक डॉ. समित शर्मा व जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव के निर्देश पर सीएमएचओ डॉ. सुकुमार कश्यप की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने मंगलवार को जिला मुख्यालय पर संचालित सरकारी चिकित्सकों के क्लीनिक एवं अस्पतालों का निरीक्षण कर रिपोर्ट तैयार की है। सरकारी सेवा में रहने के बावजूद माल प्रैक्टिस कर रहे चिकित्सकों को एक बार चेतावनी नोटिस दिए जाएंगे। इसके बावजूद चिकित्सकों की कार्यशैली में सुधार नहीं होने पर सख्त कार्रवाई होगी।

गौरतलब है कि सोमवार को नागौर दौरे पर आए मिशन निदेशक डॉ. समित शर्मा ने बैठक में जेएलएन अस्पताल के चिकित्सकों को चेताते हुए माल प्रैक्टिस नहीं करने की हिदायत दी थी, जिसके बाद मंगलवार को सीएमएचओ डॉ. कश्यप के साथ जेएलएन अस्पताल के पीएमओ डॉ. वीके खत्री, आईएएस प्रशिक्षु अवधेश मीणा, डॉ. सुनीता आर्य एवं डॉ. एसएस कालवी की टीम ने शहर में सरकारी चिकित्सकों द्वारा संचालित क्लीनिक एवं अस्पतालों की जांच कर रिपोर्ट तैयार की है। सीएमएचओ डॉ. कश्यप ने बताया कि टीम ने आधा दर्जन से अधिक चिकित्सकों के खिलाफ रिपोर्ट तैयार कर नोटिस देना प्रस्तावित किया है। इसकी जानकारी मिशन निदेशक डॉ. शर्मा व कलक्टर यादव को भी दी गई है। सीएमएचओ ने बताया कि सोमवार को कुचामन सिटी में की गई जांच के बाद डॉ. विजय खीचड़, डॉ. चैनाराम, डॉ. जगदीश महला को नोटिस जारी किए गए हैं। इसके साथ डॉ. प्रहलाद बाजिया को नोटिस देने की अनुशंषा की गई है।

बिना बताए अनुपस्थित रहे, पीएमओ ने काटा आकस्मिक अवकाश
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के विशिष्ट शासन सचिव डॉ. समित शर्मा द्वारा सोमवार को जेएलएन राजकीय अस्पताल में निरीक्षण के दौरान दिए दिशा-निर्देशों की पालना में अस्पताल प्रशासन ने दूसरे दिन मंगलवार को कार्रवाई करते हुए देरी से आने वाले डॉक्टर व अस्पताल स्टाफ की छुट्टियां काट ली है। पीएमओ डॉ. वीके खत्री ने बतााय कि उच्चाधिकारियों से मिले निर्देश के अनुसार बिना बताए अनुपस्थित रहने वाले चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टॉफ व अन्य कार्मिकों के विरूद्ध नियमानुसार अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है। डॉ. खत्री ने बताया कि विशिष्ट शासन सचिव के निर्देशों पर फरवरी माह में बॉयोमैट्रिक हाजिरी का रिकॉर्ड निकाला गया। रिकॉर्ड के मुताबिक जो भी चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टॉफ व कार्मिक बिना बताए अनुपस्थित रहे, उनकी नियमानुसार उक्त अवधि को आकस्मिक अवकाश मानते हुए सीएल काट ली गई है। पीएमओ डॉ. खत्री ने बताया कि वर्ष 2019 के फरवरी माह के दौरान छह चिकित्सकों सहित कुल 57 पैरामेडिकल स्टॉफ व कार्मिक अलग-अलग तिथियों में बिना बताए अनुपस्थित रहे, जिनकी उक्त अवधि की सीएल काटने के साथ-साथ उनसे लिखित में स्पष्टीकरण भी मांगा गया है।

मावा भंडार से लिए नमूने
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के विशिष्ट शासन सचिव डॉ. शर्मा के सख्त निर्देश मिलने के बाद चिकित्सा विभाग के अधिकारी भी सतर्क हो गए हैं। होली के त्योहार में सुस्त बैठे खाद्य सुरक्षा अधिकारी राजेश जांगीड़ भी मंगलवार को शहर में फलौदी बस स्टैण्ड के पास स्थित मावा भंडार पर कार्रवाई करने पहुंचे। इस दौरान उनकी टीम ने मावा भंडार से नमूने लिए। कार्रवाई के दौरान सीएमएचओ डॉ. सुकुमार कश्यप सहित अन्य चिकित्सक भी मौके पर पहुंचे तथा कार्रवाई की जानकारी ली।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned