तेल, गैस, ऊर्जा व भारी उद्योगों में स्थानीय लोगों को मिले रोजगार की प्राथमिकता - बेनीवाल

सांसद ने लोकसभा के शून्यकाल में उठाया मुद्दा, कहा - बाड़मेर की रिफाइनरी सहित प्रदेश में कार्यरत कंपनियां करती है स्थानीय लोगों की अवहेलना

 

 

By: shyam choudhary

Published: 03 Dec 2019, 10:08 PM IST

MP Hanuman Beniwal said - Priority of employment to local people in oil, gas, energy and heavy industries , नागौर. लोकसभा में मंगलवार को राजस्थान के नागौर से रालोपा सांसद हनुमान बेनीवाल ने स्थानीय लोगों को रोजगार में प्राथमिकता देने का मामला उठाया। उन्होंने सदन के शून्यकाल में बोलते हुए कहा कि राजस्थान के बाड़मेर जिले में स्थित रिफायनरी सहित जालोर, जैलसमेर, जोधपुर, जयपुर व अलवर आदि जिलों में तेल, गैस, ऊर्जा व भारी उद्योगों में कार्यरत कम्पनियां स्थानीय लोगों की मजदूरी को लेकर तकनीकी व प्रबंधन आदि क्षेत्रो में अवहेलना करती है। सांसद ने कहा राजस्थान सहित पूरे देश में ऐसा कानून बनाने की जरूरत है, जिसमे 80 प्रतिशत स्थानीय लोगों को रोजगार देना कम्पनियों के लिए अनिवार्य बने, क्योंकि कम्पनियों द्वारा किसानों व स्थानीय लोगों की जमीन अवाप्ति के बाद वे रोजगार के अभाव में पलायन करने को मजबूर हो जाते है।

सांसद ने सदन में मंगलवार को पेश हुए शिप रिनोवेशन से जुड़े बिल की चर्चा में भाग लेते हुए कहा कि यह बिल पर्यावरण संरक्षण की दिशा में एक महत्पूर्ण कदम होगा, क्योंकि इससे पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले कारक जो जहाज के रिनोवेशन में काम आते हैं, वे बंद हो जाएंगे। उन्होंने कहा बिल स्वागत योग्य है, परंतु देश के 4 राज्यो में जहां शिप रिनोवेशन का काम होता है, वहां कार्यरत 8 हजार मजदूरों के हितों का कुठारघात नहीं होना चाहिए। साथ ही समुद्र को दूषित करने वाले अन्य कारकों पर भी प्रतिबंध लगना चाहिए।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned