Nagaur patrika news. निजी विद्यालयों को देना पड़ेगा ऑनलाइन कक्षाओं का हिसाब

Nagaur patrika news. शिक्षा विभाग को मिले निजी शिक्षण संस्थानों की ऑनलाइन कक्षाओं की जांच के निर्देश, निजी विद्यालयों का ऑनलाइन पढ़ाई का विषयवार, बच्चों के नामवार रखना पड़ेगा तथ्यात्मक रिकार्ड किस दिन, कितने बच्चे हुए ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल

By: Sharad Shukla

Published: 15 Nov 2020, 09:05 PM IST

नागौर. दौरान-ए-कोरोना ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन करने वाले निजी स्कूल संचालकों को इसका पूरा ब्योरा रखना पड़ेगा। इससे संबंधित सभी रिकार्ड को सुव्यवस्थित तरीके से रखना पड़ेगा, अन्यथा विभाग की ओर से इसकी कभी भी जांच की जा सकती है। जांच के दौरान इसमें किंतु-परन्तु की स्थिति हुई तो फिर इनको कार्रवाई का सामना भी करना पड़ सकता है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों को इस संबंध में उच्च स्तर पर दिशा-निर्देश आएं है। अधिकारियों को भी अपने-अपने क्षेत्रों के निजी विद्यालयों की शैक्षणिक गतिविधियों की पूरी तथ्यात्मक जानकारी रखनी पड़ेगी। शिक्षा विभाग के अधिकारियों के अनुसार निजी शिक्षण संस्थानों को भी ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल होने वाले बच्चों के अभिभावकों से बाकायदा सहमति लेनी पड़ेगी। बिना सहमति यह निजी विद्यालय किसी भी बच्चे को ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल होने के लिए दबाव नहीं बना सकते हैं। अधिकारियों का कहना है कि यह निजी विद्यालय ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन किए बिना अभिभावकों से फीस की मांग भी नहीं कर सकते हैं। ऐसा करते पाए गए तो फिर यह कार्रवाई के दायरे में आ जाएंगे। स्कूलों के पुन: संचालन शुरू होने की स्थिति में राज्य सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन के अनुसार विद्यालयों को बच्चों का पाठ्यक्रम का कोर्स पूरा कराना होगा। इस संबंध में अभिभावकों का कहना है कि पीडीएफ फाइल या वीडियो आदि भेजकर ऑनलाइन कक्षाओं का नाम नहीं दिया जा सकता है। इसमें बच्चों को कुछ समझ में आता ही नहीं है। ऐसा करने वाले विद्यालय शुल्क के हकदार नहीं हो सकते हैं। इसकी व्यवस्था भी विद्यालय स्तर पर करनी होगी। इस संबंध में अभिभावकों से शिकायतें मिली तो फिर निजी विद्यालयों के खिलाफ कार्रवाई भी हो सकती है। हालांकि फिलहाल जिले के निजी स्कूल एसोसिएशन के अनुसार फिलहाल दीपावली के चलते ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन स्थगित हो रखा है।
इनका कहना है...
निजी शिक्षण संस्थानों को ऑनलाइन कक्षाओं का पूरा रिकार्ड रखना पड़ेगा। इनके पास ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल बच्चों आदि की नामवार पूरी जानकारी कक्षाओं के हिसाब से रखनी पड़ेगी। विभाग की ओर से आवश्यकतानुसार इसकी कभी भी जांच की जा सकती है।
संपतराम, सीडीईओ, समसा, नागौर

Sharad Shukla Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned