राजस्थान: ज़हरीला दाना खाने से 80 राष्ट्रीय पक्षियों की मौत, अज्ञात शिकारियों पर FIR

राजस्थान के नागौर ( Nagaur, Rajasthan ) में ज़हरीला दाना खाने ( Poisonous grain ) से बड़े पैमाने पर राष्ट्रीय पक्षी मोरों ( National Bird Peacock ) की मौत का मामला सामने आया है। सामने आया है कि ज़हरीला दाना खाने से 80 मोरों ने दम तोड़ दिया है।

By: nakul

Published: 18 Feb 2020, 10:38 AM IST

नागौर।

राजस्थान के नागौर ( Nagaur, Rajasthan ) में ज़हरीला दाना खाने ( Poisonous grain ) से बड़े पैमाने पर राष्ट्रीय पक्षी मोरों ( National Bird Peacock ) की मौत का मामला सामने आया है। सामने आया है कि ज़हरीला दाना खाने से 80 मोरों ने दम तोड़ दिया है। यही नहीं मोरों के अलावा बड़ी संख्या में अन्य पक्षियों भी इसके शिकार हुए हैं। अंदेशा जताया जा रहा है कि अज्ञात शिकारियों की गैंग ने राष्ट्रीय पक्षी और अन्य पक्षियों को योजनाबद्ध तरीके से मौत के घाट उतारा है।

जानकारी के अनुसार नागौर के गांव मिठडि़या के गुर्जरों की ढाणी के पास सोमवार को 80 मोरों के साथ ही कमेडिय़ा व अन्य पक्षी भी मृत पाए गए। ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग मेड़ता सिटी को दी। इसके बाद मेड़ता सिटी से वन विभाग और राजकीय पशु अस्पताल की टीम मौके पर पहुंची। इसी दौरान वन्यजीव प्रेमियों समेत ग्रामीण भी बड़ी संख्या में पहुंचे।

ग्रामीणों ने घायल मोरों को पिकअप गाड़ी में डालकर अस्पताल पहुंचाया। वहीं मृत मोरों और कमेडियों सहित अनेक पक्षियों को एकत्रित करके पोस्टमार्टम करवाया गया। ग्रामीणों ने मौके पर आक्रोश जताया।


शिकार करने की आशंका

ग्रामीणों ने इस घटनाक्रम को लेकर आक्रोश जताते हुए मुकदमा दर्ज कर शिकारियों को गिरफ्तार करने और पूरी जांच करवाने की मांग की। मौके पर पहुंचे वन विभाग मेड़ता सिटी के रेंजर मुकेश कुमार सलवान, वन विभाग के वनरक्षक छोटूराम, बुद्धाराम, लालसिंह सहित टीम ने मौके पर घायल मोरों का उपचार करवाया। वहीं मृत मोरों का पोस्टमार्टम पशु अस्पताल में करवा कर उन्हें दफनाया गया।


अज्ञात शिकारियों के खिलाफ एफआईआर

वन विभाग ने अज्ञात शिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस और वन विभाग की टीम पूरे मामले को लेकर सघन जांच में जुटी हुई है। जांच के बाद ही पूरे मामले का खुलासा होगा कि आखिर कैसे, शिकारियों ने जहरीला दाना डालकर और क्यों पक्षियों को शिकार बनाया है।


वहीं मौके पर पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. जगशेर खान ने बताया कि मृत मोरों का पोस्टमार्टम किया गया है और जो भी जांच में आएगा उसकी तुरंत रिपोर्ट तैयार की जाएगी।
पक्षियों व वन्यजीवों का शिकारग्रामीणों ने बताया कि डेगाना सहित आसपास के क्षेत्र में आए दिन पक्षियों को जहरीला दाना डाल कर शिकारी शिकार बनाते हैं। तो कई बार आसपास के क्षेत्र में वन्य जीव नीलगाय, खरगोश, तीतर सहित कई प्रकार के वन्यजीवों का भी शिकार की घटनाएं होती रहती है। इसको लेकर वन विभाग पुलिस प्रशासन को सक्रिय होने की जरूरत है।


ग्रामीणों ने कहा कि शिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो और उन्हें कानून के शिकंजे में लिया जाए। तब जाकर घटनाओं पर रोक लगेगी। इसको लेकर लोगों ने भी कड़ा आक्रोश जताते हुए खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned