प्रजा को रोता छोड़ अयोध्या से चले राम

Nagaur. रामपोल में चल रही रामलीला के पांचवे दिन हुआ राम वनवास दशरथ मरण व भरत मिलाप

By: Sharad Shukla

Updated: 11 Oct 2021, 10:35 PM IST

नागौर. कैकयी की कुटिल चालों से विवश महाराज दशरथ ने भगवान श्रीराम को चौदह वर्ष का वनवास दिया। श्रीराम, सीता एवं लक्ष्मण के वल्कल वस्त्र धारण कर वन की ओर गमन करते देख दशरथ के प्राण निकल गए। यह मर्मस्पर्शीय मंचन रामपोल में चल रही रामलीला में होते देखकर श्रद्धालुओं की आंखें नम हो गई। वन की ओर गमन करते रुदन भरे स्वर में दशरथ का राम-राम कहना श्रद्धालुओं को रोमांचित करता रहा। बजरंग मंडल के कलाकारों की ओर से रामायण कालीन प्रसंगों में हो रहे जीवंत अभिनय से पूरा वातावरण भगवान श्रीराम के रंग में रंगा नजर आया। अयोध्या छोडकऱ चले राम तो श्रद्धालू भी दृश्यों के साथ मंचित भावना में बहते नजर आए। रामलीला में मंचन के दौरान भगवान श्रीराम के अयोध्या छोडकऱ जाने की खबर मिली तो पैदल ही अपने भाई श्रीराम को मनाने निकले भरत और साथ में चल रही उनकी प्रजा के दृश्य श्रद्धालुओं की आंखों को नम करते नजर आए। दशरथ एवं भगवान श्रीराम के संवादों के साथ ही भरत के आने की खबर मिलने के बाद गुहराज एवं लक्ष्मण का नाराज होना, और श्रीराम का लक्ष्मण को समझाना, बाद में भरत का प्रेम जानकर लक्ष्मण का पश्चताप करने सरीखे संवादों की शानदार प्रस्तुति से श्रद्धालू पूरे समय तक बंधे रहे। कलाकारों में राम की भूमिका में श्यामसुंदर, लक्ष्मण की भूमिका में विजय, दशरथ की भूमिका में महिपाल, सीता की भूमिका में संस्कृति श्रीमाली की संवाद अदायगी के साथ ही किया गया जीवंत अभिनय ने रामायणकालीन दृश्य को साकार करता नजर आया। व्यास पीठ पर अशोक आर्य ने भजन की प्रस्तुति की तो आर्गन पर अमृत परिहार तबला पर एलके झा ने संगत की। संचालन मांगीलाल देवड़ा ने किया। इसमें कार्यक्रम प्रभारी स्वरूप देहरा, लायंस क्लब के अध्यक्ष ईश्वर सोनी ,जोन चेयरमैन कृपाराम भाटी, बाल संत रामगोपाल व लायंस क्लब के रीजन चेयरमैन मुरली मनोहर सोलंकी आदि मौजूद थे। यह कार्यक्रम ईश्वर लोहिया वह संस्कार एकेडमी के प्रदीप ग्वाला के सौजन्य से था।
राज्य, जिला एवं विद्यालयी स्तर की प्रतियोगिताओं के कार्यक्रम घोषित
-माध्यमिक शिक्षा निदेशक सोमवार को घोषित किया खेल प्रतियोगिताओं का टाइम टेबल
नागौर. शिक्षा विभाग की 65वीं राज्य एवं जिला स्तरीय माध्यमिक-उच्च माध्यमिक विद्यालयी छात्र-छात्रा प्रतियोगिताओं का कार्यक्रम घोषित कर दिया गया है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी की ओर से जारी कार्यक्रम में कहा गया है कि प्रतियोगिताएं कोविड-19 गाइडलाइन के दायरे में कराई जाएंगी। इसमें छात्राओं में 17-19 आयुवर्ग को प्रथम समूह में शामिल किया गया है। इसमें फुटबाल, जिम्नास्टिक, हैण्डबाल, हाकी, जूडो, सॉफ्बाल, तैराकी, वालीबॉल, कुश्ती, कराटे, टेनिस क्रिकेट, बॉल बैडमिंटन, स्पीड बॉल, नेटबॉल, ताईक्वाण्डो, टग ऑफ वार, बॉक्सिंग, टेनिस वॉलीबॉल, मलखम्भ शामिल हैं। इसी तरह से द्वितीय समूह 17-19 आयु के छात्र वर्ग को शामिल किया गया। इसमें होने वाली प्रतियोगिताओं में तीरंदाजी-इंडियन, राउण्ड व फीटा-राउण्ड, बेडमिंटन, बॉस्केटबॉल, क्रिकेट, खो-खो, लॉन टेनिस, टेबल टेनिस, कबड्डी, सुपर सेवन क्रिकेट, रोलबॉल, थ्रोबॉल, कुडो, आस्थे-द-अखाड़ा, सेपक टकरा, शतरंज, साइकिलिंग एवं वुशु आदि खेल शामिल हंै। तृतीय समूह में 17-19 वर्ष के छात्र-छात्रा वर्ग में एथलेक्टस को रखा गया है। यह प्रतियोगिताएं विद्यालय, जिला एवं राज्य स्तर पर होंगी। इसमें विद्यालय स्तर की प्रतियोगिताएं प्रथम समूह, द्वितीय एवं तृतीय स्तर की 19 अक्टूबर से पूर्व आयोजित होंगी। जिला स्तर पर प्रथम समूह की प्रतिोगिताएं 20 अक्टूबर से 24 अक्टूबर तक होगी। द्वितीय समूह की 25 अक्टूबर से 29 अक्टूबर के मध्य होगी। तृतीय समूह की 30 अक्टूबर से दो नवंबर के मध्य तक होगी। इसी क्रम में राज्य स्तर की प्रतियोगिताएं प्रथम समूह की आठ नवंबर से 13 नवंबर, द्वितीय समूह की 15 नवंबर से 20 नवंबर एवं तृतीय समूह की 22 नवंबर से 27 नवंबर के मध्यम होंगी।

Sharad Shukla Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned