परिवार की पंचायती काम आई, घर में रह गई सरपंचाई

किसी की पत्नी सरपंच बनी तो कहीं पति, कहीं बहू ने संभाली सास की कुर्सी

By: Rudresh Sharma

Updated: 17 Oct 2020, 09:54 PM IST

नागौर. राजनीति में परिवारवाद हमेशां से ही बहस का विषय रहा है। चाहे बड़े चुनाव हो या फिर ठेठ ग्रामीण सियासत से जुड़े पंच-सरपंच के छोटे चुनाव। इसे प्रत्याशियों की काबिलियत कहें या उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि का असर कि हाल ही में हुए पंचायतराज चुनाव के दूसरे, तीसरे और चौथे चरण में ऐसे कई प्रत्याशी सरपंचाई पाने में सफल रहे हैं, जिनके परिवार में पहले से कोई न कोई इस पद पर रह चुका है।

पंचायतीराज की सियासत से जुड़े कुछ परिवार लगातार सरपंच की सीट अपने ‘घर’ में रखने में कामयाब रहे हैं तो कई ग्राम पंचायतें ऐसी हैं, जहां कुछ कार्यकाल के बाद वापस यह सीट पिछले किसी सरपंच के परिवार के सदस्य को हासिल हुई है।

डालतें हैं परिवार की सियासत पर एक नजर...

केस -१
मेड़ता पंचायत समिति की मोररा ग्राम पंचायत में पहले पति सुखाराम हुडा सरपंच थे। इस बार के चुनाव में उनकी पत्नी ईमा देवी सरपंच चुनी गई है।

केस -२
परबतसर पंचायत समिति की ग्राम पंचायत बडू में पहले पत्नी रीना माली सरपंच थी। हाल ही हुए चुनाव में उनके पति सुरेश माली 802 वोटों से जीतकर सरपंच बने।

केस -३
भैरूंदा पंचायत समिति की ग्राम पंचायत मोड़ीकला में पहले पति शिवपाल मातवा सरपंच रह चुके। अब उनकी पत्नी पार्वती चुनी गई है।

केस -४
भैरूंदा पंचायत समिति की ग्राम पंचायत निम्बोला बिस्वा में पहले पत्नी सुमन कवर सरपंच थी तो अब पति रविन्द्र सिंह चुने गए हैं।

इन परिवारों को फिर मिला मौका

- रियाबड़ी पंचायत समिति की ग्राम पंचायत रोहिसा में कौशल्या देवी गौड़ पत्नी राजूराम गौड़ महिला सीट होने से एक कार्यकाल के बाद फिर से सरपंच चुनी गई। इससे पहले वे २०१० में सरपंच बनी थी।

- भैरूंदा पंचायत समिति की ग्राम पंचायत सूदवाड़ में 2010 में सास चुका देवी रिणवां सरपंच रह चुकी। अब दस साल बाद बहू चकु देवी सरपंच बनी है।

- भैरूंदा पंचायत समिति की ग्राम पंचायत पालड़ी कला में १९९५ में पति हरिराम सोनी निर्विरोध सरपंच रह चुके। उनकी मृत्यु के बाद अब पत्नी सीता देवी को सरपंच बनने का मौका मिला है।

- आलनियावसा में केदार शर्मा पंद्रह साल पहले सरपंच थे, अब उनकी पत्नी पुष्पा देवी सरपंच चुनी गई है।

- रियाबड़ी पंचायत समिति की ग्राम पंचायत अरनियाला में दो बार सरपंच रह चुके लक्ष्मण राम डिडेल की पत्नी शांति देवी इस बार सरपंच बनने में कामयाब हुई है।

Rudresh Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned