यहां ट्रेन में चलती स्कूल, बच्चों को पढऩे में आता आनंद

नावां (Nawa) में बंवली गुढ़ा के राजकीय माध्यमिक विद्यालय को दिया ट्रेन (School in Train) का लुक, बच्चे भी यहां पढऩे के प्रति हो रहे हैं आकर्षित

By: Rudresh Sharma

Published: 30 Jan 2021, 12:55 PM IST

दीपक शर्मा . नावां शहर. स्कूल अगर दिखने में आकर्षक हो तो बच्चे का पढऩे के प्रति लगाव बढ़ जाता है। यदि स्कूल ट्रेन जैसी दिखे तो शिक्षा का सफर और भी मजेदार हो जाता है। कुछ ऐसा ही कर दिखाया है बंवली गुढ़ा गांव के राजकीय माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों व भामाशाहों ने मिलकर।


उन्होंने स्कूल का माहौल खुशनुमा बनाने और बच्चों को रोमांच का अनुभव करवाने के लिए स्कूल का लुक ही ट्रेन जैसा कर दिया है। स्कूल परिसर की रंगाई-पुताई रेल की तरह नजर आती है। गेट और खिड़कियां बाकायदा ट्रेन की तरह बनाई गई है। गांव की यह स्कूल अब आमजन के लिए आकर्षण का केंद्र बन गई है। विद्यालय में निरंन्तर विकास हो रहा है। वर्ष 2018 में नामांकन 100 था, जो बढक़र 215 तक पहुंच गया।


शाला विकास में यूं मिला जनसहयोग
वरिष्ठ अध्यापक मनोज कुमार तंवर ने बताया कि विद्यालय में दो लाख की लागत से जन सहयोग से कक्षा-कक्ष निर्माण कराया गया। वहीं दो लाख रुपए की लागत से छायादार मंच का निर्माण फूल सिंह व मनोहर सिंह की ओर से कराया। सम्पत्त सिंह राजावत ने ३० हजार रुपए का वाटरकूलर लगवाया। वहीं पचास लोहे की टेबल कुर्सी सेट, 14 कॉलम अलमारी स्टॉफ के लिए, बालिका शौचालय पर नल फिटिंग आदि जन सहयोग से हुआ।

विद्यालय में नई थीम ट्रेन वाला रंग रोशन मांगुराम मावता के ग्यारह हजार रुपए के सहयोग से कराया। मंगल सिंह ने तीन हजार रुपए विकास के लिए दिए। इसके साथ ही विद्यालय में हर्बल गार्डन, किचन गार्डन विकसित किया गया। प्रधानध्यापक शैतान सिंह मीणा ने बताया भामाशाह प्रेरक तंवर सहित विद्यालय स्टाफ व भामाशाहों का सहयोग लगातार मिलता रहा है।

Rudresh Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned