scriptSchool was running on the trust of Bhamashahs for 54 years, now govern | 54 साल से भामाशाहों के भरोसे चल रहा था स्कूल, अब मिलेगी सरकारी मदद | Patrika News

54 साल से भामाशाहों के भरोसे चल रहा था स्कूल, अब मिलेगी सरकारी मदद

रियांबड़ी सरकारी स्कूल को मिला पट्टा , सरकार की मदद से हो सकेंगे निर्माण

नागौर

Published: June 23, 2022 06:00:54 pm

रियांबड़ी (nagaur). कस्बे का राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय 54 साल से भामाशाहों के भरोसे चल रहा था, जिसे अब पटटा जारी हो गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार 23 सितंबर 1968 को तत्कालीन सरपंच मूलचंद लाहोटी ने निजी परिश्रम से स्कूल भवन का निर्माण करवाया था। तभी से स्कूल भामाशाहों व दानदाताओं के भरोसे पर निर्भर था। स्कूल के पास भूमि का स्वामित्व नहीं होने से सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा था। अब स्कूल को खातेदारी अधिकार मिलने के बाद विद्यालय में शिक्षा विभाग की रमसा योजना के तहत निर्माण, मरम्मत, खेल मैदान सहित अन्य गतिविधियों के लिए सरकारी राशि मिल सकेगी। वर्तमान में प्रमिलादेवी प्रधानाचार्य का दायित्व निभा रही। उपखण्ड अधिकारी गौरीशंकर शर्मा के विद्यालय को पट्टा जारी कराने पर सरपंच गिरधारीलाल माली, कस्बे के जनप्रतिनिधियों एवं भामाशाहों ने खुशी जाहिर की।यह रहा इतिहास
54 साल से भामाशाहों के भरोसे चल रहा था स्कूल, अब मिलेगी सरकारी मदद
रियांबड़ी. कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय को सरकारी पट्टा जारी करते हुए उपखंड अधिकारी।
आजादी के बाद रियांबड़ी कस्बे में बस स्टैंड के नजदीक प्राथमिक पाठशाला संचालित हो रही थी। पंचायतीराज की स्थापना के साथ ही रियांबड़ी के प्रथम सरपंच ठाकुर गणपतसिंह ने पंचायत समिति को भूमि दान करने के साथ ही प्राथमिक विद्यालय के लिए यहां चार कमरे बनवाए। इन चार कमरों में ही अध्ययन शुरू किया। शिक्षक रामस्वरूप जोशी ने बताया कि वर्ष 1965 तक विद्यालय राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय के रूप में संचालित होता रहा। इसके बाद माध्यमिक में क्रमोन्नत हुआ। 1968 में नए भवन में संचालित होने लगा। विद्यालय के लिए जगह एवं भवन निर्माण की आवश्यकता महसूस हुई। रियांबड़ी के रायका बाग स्थित जमीन पर सरपंच मूलचंद लाहोटी, ग्रामीणों एवं प्रवासियों की मदद से 5 कमरों का निर्माण करवाया गया। इसके बाद यह सिलसिला जारी रहा और करीब 45 कमरों का निर्माण हो गया। जिसमें अब उच्च माध्यमिक विद्यालय संचालित हो रहा।पट्टे की थी मांग
स्कूल को पटटा जारी कराने की लंबे समय से मांग थी। कभी स्थानीय तो कभी जिला स्तर पर फाइलें गुम होने व अटकने के कारण पट्टा मिलने में विलंब हुआ। ग्रामवासियों ने उपखण्ड अधिकारी गौरीशंकर शर्मा के सामने यह मांग रखी। अब विद्यालय, नजदीक कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय व सीबीइओ कार्यालय के लिए पट्टा जारी कर दिया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Britain के पीएम बोरिस जॉनसन ने दिया इस्तीफा, जानें वो 'एक फैसला' जिससे गई कुर्सीपीएम नरेंद्र मोदी ने अखिल भारतीय शैक्षिक समागम का किया उद्धाटन बोले नई शिक्षा नीति मातृभाषा में पढ़ाई के रास्ते खोल रहीलालू प्रसाद यादव की हालत नाजुक, तेजस्वी यादव बोले - '3 जगह फ्रैक्चर, दवा के ओवरडोज से तबीयत बेहद बिगड़ी'Jammu-Kashmir: उधमपुर के रामनगर में खाई में गिरी बरातियों से भरी बस, 3 की मौत, 21 घायलMumbai: देवनार में 2,500 किलोग्राम से अधिक गोमांस जब्त, पुलिस ने 10 लोगों को किया गिरफ्तारKarnataka: बागलकोट जिले के केरूर में हिंसा, चार घायल, तीन गिरफ्तारBhagwant Mann Marriage Live Updates: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को अरविंद केजरीवाल ने दी बधाईMumbai: कन्हैया लाल का समर्थन करने पर नाबालिग लड़की को मिली जान से मारने की धमकी, जानें पूरा मामला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.