scriptSee in the video what happened that the whole family was sitting in the scorching heat for two days. | वीडियो में देखिये....ऐसा क्या हो गया कि पूरा परिवार दो दिन से भीषण गर्मी में बैठा रहा | Patrika News

वीडियो में देखिये....ऐसा क्या हो गया कि पूरा परिवार दो दिन से भीषण गर्मी में बैठा रहा

Nagaur. वेतन एवं विभागीय रवैयों से परेशान पशुधन सहायक परिवार सहित सडक़ पर उतरा
-पशुधन सहायक पत्नी, बच्चों सहित मंगलवार को क्रमिक आमरण अनशन पर बैठा
-बकाया वेतन एवं वेतन रुकने की जांच सहित पांच सूत्री मांग को पूरी करने की मांग

नागौर

Updated: June 01, 2022 09:58:24 pm

नागौर. वन विभाग के गोगेलॉव कंजर्वेशन रेस्क्यू सेंटर में प्रतिनियुक्ति पर लगे पशुधन सहायक अमृतलाल सामरिया बकाया वेतन सहित अन्य मांगों को लेकर परिवार सहित क्रमिक आमरण अनशन पर बैठ गया है। पशुपालन विभाग कार्यालय परिसर के पास अनशन पर बैठे सामरिया पूरे दिन परिवार पत्नी मंजू सामरिया, पुत्री मेधा सामरिया एवं पुत्र नरेन्द्र सामरिया के साथ गर्मी में बैठै नजर आए। सामरिया का कहना है कि वेतन के अभाव में न केवल घर का बिजली का कनेक्शन कट गया था, बल्कि दूसरों से कर्ज लेकर पारिवारिक वहन करने में स्थिति विकट हो गई है। इस संबंध में पशुपालन विभाग के उपनिदेशक से संपर्क किया गया, लेकिन इस इस पूरे मामले में बात करने से बचते रहे। जबकि वन विभाग का कहना है कि मानवीय पहलुओं को ध्यान में रखते हुए फिलहाल छह माह के वेतन भुगतान कराने की तैयारियों में जुट गया है। तीन से चार दिन में वेतन भुगतान करा दिया जाएगा।
पशुधन सहायक अमृतलाल सामरिया की प्रतिनियुक्ति वर्ष 2021 में वन विभाग में कर दी गई थी। इसके बाद सामरिया को रेस्क्यू सेंटर में वन्य जीवों की देखभाल के लिए लगा दिया गया था। बताते हैं कि प्रतिनियुक्ति के बाद अगस्त व सितंबर का वेतन भुगतान संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग की ओर से आहरित कराया गया। इसके बाद वेतन मिलना बंद हो गया। पूछताछ करने पर पशुपालन विभाग की ओर से बताया गया कि दो माह का वेतन गलत तरीके से आहरित करवा दिया गया। जिसका पुन: समायोजन करवाया जाएगा। इसके उपरान्त अक्टूबर का वेतन नवंबर माह में मिलना था, लेकिन नहीं मिला। तभी से लगातार वेतन बकाया चल रहा है। इस संबंध में पशुपालन एवं वन विभाग दोनों को ही परिवेदनाएं पेश करने के साथ कलक्टर को भी दी गई। फिर भी समस्या का समाधान नहीं किया गया। सामरिया ने बताया कि गत 24 अगस्त को कार्यमुक्त कर वेतन रोकने के बाद 24 मार्च 2022 को विभागीय कार्यवाही पहली बार की गई थी। संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग की ओर से 24 मार्च को जरिये बकाया वेतन संबंधी पत्र लिखा गया। इसके पहले कई माह तक पूरे प्रकरण को पशुपालन विभाग की ओर से जानबूझकर दबाकर रखा गया। इससे साफ है कि उनको विभाग की ओर से पूर्वाग्रह से प्रेरित होकर परेशान किया गया। इसके चलते उनका पूरा परिवार न केवल आर्थिक संकट में घिर गया, बल्कि वह मानसिक रूप से भी प्रताडि़त होता रहा। इस आशय का पांच सूत्री मांगपत्र भी कलक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा गया था। तमाम बिंदुओं की जांच के साथ हर्जाने के पुर्नभुगतान आदि की मांग की गई।
इनका कहना है...
पशुधन सहायक अमृतलाल सामरिया की प्रतियुक्ति वन विभाग में की गई थी। इनके वेतन के संबंध में पशुपालन विभाग से कई बार पत्राचार किया गया वेतन को लेकर। इसके बाद भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। अब विभाग अपने रिस्क पर इनकी स्थिति को देखते हुए छह माह का वेतन देने की तैयारियों में लग गया है। जल्द ही वेतन दिला दिया जाएगा।
ज्ञानचंद मकवाना, उपवन संरक्षक नागौर

pashudhan.jpg

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.