तो बारिश में किसी काम के नहीं रहेंगे एक दर्जन अण्डरब्रिज

संदीप पाण्डेय

नागौर. कवायद सिरे नहीं चढ़ी तो अबकी बारिश जिले के तकरीबन एक दर्जन रेलवे अण्डर ब्रिज (आरयूबी) पर भारी पड़ सकती है। बारिश औसत से मामूली भी ज्यादा हुई तो खतरे के निशान तक पहुंचे ये आरयूबी 'मानसूनÓ में किसी काम के नहीं रहेंगे। पानी भरने से राहगीर गुजर नहीं पाएंगे यानी सीधी सड़क से इनका संपर्क भी टूट जाएगा।

By: Sandeep Pandey

Published: 19 Mar 2020, 10:15 PM IST

संदीप पाण्डेय

नागौर. कवायद सिरे नहीं चढ़ी तो अबकी बारिश जिले के तकरीबन एक दर्जन रेलवे अण्डर ब्रिज (आरयूबी) पर भारी पड़ सकती है। बारिश औसत से मामूली भी ज्यादा हुई तो खतरे के निशान तक पहुंचे ये आरयूबी 'मानसूनÓ में किसी काम के नहीं रहेंगे। पानी भरने से राहगीर गुजर नहीं पाएंगे यानी सीधी सड़क से इनका संपर्क भी टूट जाएगा। रेलवे ने इसके लिए 'युद्धस्तरÓ पर अभियान तो छेड़ दिया पर 'पग-पगÓ मिल रही मुश्किल से भी दो-चार होना पड़ रहा है। मेड़ता रोड व डेगाना जंक्शन से जुड़े आरयूबी की हालत ज्यादा 'पतलीÓ है।जानकार सूत्रों का कहना है कि जिलेभर में तकरीबन पचास फीसदी आयूबी की हालत 'दयनीयÓ हो चुकी है। सुधार की कोशिश को अंजाम तक पहुंचाने के लिए यह कवायद की जा रही है। बताया जा रहा है कि इस बार अगर इनके हालात नहीं सुधरे तो कुछ आरयूबी 'दमÓ तोड़ देंगे। इस बाबत वास्तविक स्थिति की एक रिपोर्ट रेलवे प्रशासन को पहले ही दे दी गई थी।

रिपोर्ट में बताए हालात

बारिश में राहगीरों के लिए ये अण्डरब्रिज बड़ी मुसीबत साबित हो रहे हैं। अण्डरब्रिज के पानी से लबालब भर जाने के चलते गांव अथवा शहर का संपर्क इस सीधी सड़क से टूट जाता है। लोगों को चक्कर लगाने पड़ते हैं। तकनीकी खामियों का उल्लेख भी किया गया जिसमें कहा गया कि पानी भर जाने के चलते कई अण्डरब्रिज तो बरसात में काम में ही नहीं आते। कुछ अंडरब्रिज की सड़क बेहद संकरी है। उसमें पैदल चलने वालों के लिए भी ठीक व्यवस्था नहीं है। अंडरब्रिज होने के कारण गहरा ढाल है। ऐसे में समय पर सुधार नहीं हुआ तो परेशानी बढ़ेगी।ग्रामीणों ने रोका कामअलाय स्टेशन के आगे अण्डरब्रिज (8-ए) पर काम शुरू होते ही 'व्यवधानÓ आ गया। कुछ दिन पहले पानी की समुचित निकासी अथवा रोकने को लेकर यहां काम शुरू होते ही ग्रामीण आ धमके। उनका कहना था कि इसकी चौड़ाई और ऊंचाई बढ़ाओ। यह तर्कसंगत नहीं था, ऐसा कहने पर लोगों ने काम रुकवा दिया। तब से यहां काम बंद पड़ा है। तकनीकी रूप से यह संभव नहीं है। इस बाबत नागौर विधायक मोहनराम चौधरी व जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव को भी अवगत कराया जा चुका है पर बात नहीं बन रही। ऐेसे में रेलवे के लिए यहां का काम मुसीबत बन गया है।

रोडवर्क के साथ दीवारें

मेड़ता रोड जंक्शन से अलाय तक चार और अलाय से सुरपुरा तक पांच आरयूबी यानी कुल नौ अण्डरब्रिज में काम होना है। इसके लिए करीब पांच करोड़ रुपए का बजट है। यहां पानी के एकत्र होने की समस्या के चलते रोड वर्क किया जाएगा। साथ ही दीवार भी बढ़ाई जाएगी। ढाल को बेहतर करने के साथ पानी के निकास के अन्य इंतजाम होंगे। फरवरी में पांच अण्डरब्रिज पर काम शुरू हुआ, जिसमें एक पर फिलहाल काम बंद है, जबकि चार पर शीघ्र ही शुरू होगा। वाटर पंप मांगेडेेगाना जंक्शन के अधीन आने वाले अण्डरब्रिज सुधारने पर कोई बजट पारित नहीं हुआ। यहां के मण्डल सहायक अभियंता शैलेश कुमार का कहना है कि अण्डरब्रिज पर पानी भरने की समस्या लगभग सभी में है। पानी निकालने के लिए बीस वाटर पंप मांगे गए हैं। इसके लिए करीब एक पखवाड़े पहले ही प्रपोजल भेज दिया गया है। इनकी स्थिति बहुत अच्छी तो नहीं है फिर भी सुधारने की कोशिश की जा रही है।

इनका कहना है

मेड़ता रोड जंक्शन के अधीन नौ अण्डरब्रिज पर कार्य होगा। इसके लिए चार-पांच करोड़ की राशि खर्च होगी। बारिश में होने वाले जल भराव की समस्या को दूर करने के लिए रोड व दीवार पर काम होगा। इसमें रुकावट आई तो अबकी बारिश में लोगों को काफी मुश्किल आएगी। अलाय के आगे काम रोकना पब्लिक के लिए ही तकलीफदेह होगा। इसके लिए कलक्टर व विधायक को अवगत करा दिया है।

-विवेक गोयल, मण्डल सहायक अभियंता, मेड़ता रोड जंक्शन

Sandeep Pandey Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned