कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर जिले में विशेष अभियान

- जिला कलक्टर ने ली मैराथन बैठक, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में भी दिए आवश्यक दिशा-निर्देश, राज्य सरकार की ओर से निर्धारित गाइडलाइन की हर स्तर पर होगी अक्षरश: पालना
- जोइंट एनफोर्समेंट टीम और एंटी कोविड टीमें करेगी युद्ध स्तर पर काम

By: shyam choudhary

Updated: 06 Apr 2021, 09:31 AM IST

नागौर. कोविड-19 के संक्रमण की दूसरी लहर के प्रसार को रोकने के लिए राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन की पालना को और अधिक प्रभावी बनाने तथा कोरोना टीकाकरण के प्रति जनजागरण अभियान चलाया गया है। इसे लेकर जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने सोमवार सुबह जिला प्रशासन व चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग तथा शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मैराथन बैठक ली। बैठक के बाद अपराह्न 3 बजे कलक्टर ने राजीव गांधी आईटी सेंटर से प्रशासन एवं पुलिस सहित विभिन्न विभागों के ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

कलक्टर डॉ. सोनी ने बैठक और वीडियो कॉन्फ्रेंस में अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के प्रसार को रोकने के लिए राज्य सरकार की गाइडलाइन के अनुसार जिला प्रशासन, पुलिस विभाग तथा नगर निकाय के अधिकारियों को मिलाकर गठित संयुक्त प्रवर्तन दल यानी ज्वाइंट एनफोर्समेंट टीम के माध्यम से जिले के विभिन्न शहरों में विशेष अभियान चलाया जाएगा, ताकि कोविड-19 उपयुक्त व्यवहार जैसे फेस मास्क, सामाजिक दूरी एवं मानक संचालन प्रक्रिया आदि की सख्ती से अनुपालना हो सके। ज्वाइंट एनफोर्समेंट टीम माइक्रो कन्टेनमेंट जोन का निरीक्षण करने के साथ-साथ अपने निर्धारित क्षेत्र में कोरोना गाइडलाइन का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति, संस्था व व्यापारिक संस्थानों आदि के खिलाफ महामारी एक्ट के तहत चालान काटने की कार्रवाई करेगी।

कलक्टर के निर्देश दिए कि ज्वाइंट एनफोर्समेंट टीम रेलवे स्टेशन, बस स्टैण्ड आदि स्थानों पर यात्रियों की हैल्थ स्क्रीनिंग की कार्रवाई की मॉनिटरिंग भी करेगी। संयुक्त प्रवर्तन दलों के सहयोग के लिए विशेष दल एंटी कोविड टीम (एसीटी) काम करेगा, जिसमें शिक्षा, नगरीय निकाय व चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग सहित किसी भी विभाग के कर्मचारी को शामिल किया जा सकता है। एंटी कोविड टीम कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर की पालना के साथ-साथ टीकाकरण जन जागरण अभियान में भी सहयोग करेगी। डॉ. सोनी ने जिला परिवहन अधिकारी को निर्देश दिए कि वे जिला मुख्यालय सहित अपने अधीनस्थ कार्यालय क्षेत्र वाले शहरों में परिवहन संघ, संगठन यूनियन के सदस्य तथा वाहन चालक, परिचालक एवं अन्य श्रमिकों को प्रेरित कर सीएमएचओ से समन्वय स्थापित कर कोरोना टीकाकरण करवाएं। कलक्टर ने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के रोकथाम को लेकर जांच-पहचान-उपचार प्रोटोकॉल की सख्ती से क्रियान्विति करने के निर्देश दिए। डॉ. सोनी ने कहा कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की रोकथाम को लेकर चलाए जा रहे जनजागरण अभियान में इस बार बच्चों का विशेष रूप से ध्यान रखा जाए।

पीले चावल बांटकर देंगे आमजन को टीकाकरण का निमंत्रण
कलक्टर ने निर्देश दिए कि कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर बुधवार को टीकाकरण महाअभियान का आयोजन किया जाएगा। इस महाअभियान को सफल बनाने के लिए गांव-ढाणी व शहरों के वार्डों में घर-घर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व आशा सहयोगिनी के माध्यम से आमजन को पीले चावल बांटकर 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों का कोरोना टीकाकरण करवाने के प्रति प्रेरित करें। कलक्टर ने जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक को भी निर्देश दिए कि कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम व टीकाकरण महाअभियान को सफल बनाने में जिले के विभिन्न व्यापारिक संगठनों की सहभागिता सुनिश्चित की जाए।

रेलवे स्टेशन व बस स्टैण्ड पर सघन हैल्थ स्क्रीनिंग
कोविड-19 के संक्रमण की दूसरी लहर के प्रसार को रोकने के लिए जिला कलक्टर सोनी ने निर्देश दिए कि जिले में सभी प्रमुख रेलवे स्टेशनों तथा बस स्टैण्डों पर आने वाले यात्रियों की हैल्थ स्क्रीनिंग की जाए। रेलवे स्टेशन पर दूसरे राज्यों से आने वाली ट्रेनों के यात्रियों की हैल्थ स्क्रीनिंग में किसी भी प्रकार की कोताही न बरतें। इसके लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से निर्धारित संख्या में हैल्थ स्क्रीनिंग टीमों का गठन करते हुए उन्हें थर्मल स्केनर आदि आवश्यक उपकरण उपलब्ध करवाए जाएं। राज्य सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक राज्य में आगमन से पूर्व यात्रा प्रारंभ करने के 72 घंटे के अंदर करवाई गई आरटी-पीसीआर नेगेटिव जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा। यदि कोई यात्री आरटी-पीसीआर नेगेटिव जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने में असमर्थ रहता है तो गतंव्य पर पहुंचने पर 15 दिन के लिए क्वांरटीन किया जाएगा।

जिले में चार जगह तीन-तीन जेईटी गठित
नागौर एडीएम मनोज कुमार ने बताया कि मॉनिटरिंग और आमजन के सहयोग के लिए जिला मुख्यालय पर कोरोना वार रूम को अपडेट करते हुए सक्रिय कर दिया है। जिले में नागौर, कुचामन, मकराना व डीडवाना में तीन-तीन ज्वाइंट एनफोर्समेंट टीमों (जेईटी) का गठन किया गया है। रेलवे स्टेशन पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की हैल्थ स्क्रीनिंग टीमों के साथ आयुर्वेद विभाग का चिकित्साधिकारी या चिकित्साकर्मी नियुक्त रहेगा। जिला परिषद के सीईओ जवाहर चौधरी ने बताया कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की रोकथाम के लिए जनजागरण अभियान में पंचायतीराज जनप्रतिनिधियों की सहभागिता सुनिश्चित की जाएगी।

एक कोरोना पॉजिटिव की कांटेक्ट ट्रेसिंग में 30 लोग
जिले में अब जहां भी कोरोना पॉजिटिव मरीज पाया जाएगा, उसके आसपास के 30 लोगों की 72 घंटे के अंदर कांटेक्ट ट्रेसिंग सुनिश्चित की जाएगी। साथ ही संक्रमित व्यक्ति को होम आइसोलेशन से संबंधित गाइडलाइन की प्रतिलिपि उपलब्ध करवाई जाएगी। संक्रमित व्यक्ति द्वारा होम आइसोलेशन से संबंधित गाइडलाइन का उल्लंघन करने पर उसे तुरंत संस्थागत क्वांरटीन सेंटर में भेजा जाएगा। जिला कलक्टर ने कोरोना पॉजिटिव मरीजों के संस्थागत क्वांरटीन के लिए जिला मुख्यालय सहित प्रत्येक ब्लॉक मुख्यालय पर क्वांरटीन सेंटर विकसित करने के निर्देश दिए। सीईओ जवाहर चौधरी इसकी मॉनिटरिंग करेंगे।

पांच से अधिक संक्रमित व्यक्ति पाए जाने पर माइक्रो कंटेन्मेंट जोन
कलक्टर सोनी ने बैठक व वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में निर्देश दिए कि सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक किसी भी एरिया/अपार्टमेंट, जहां पांच से अधिक संक्रमित व्यक्तियों का समूह चिह्नित हो जाए तो उसे माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किया जाए। उन्होंने सीएमएचओ को निर्देश दिए कि संक्रमण की अधिकता वाले क्षेत्रों में पर्याप्त संख्या में आरटी-पीसीआर जांच सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए। संक्रमित व्यक्तियों की संबंधित थानाधिकारी द्वारा बीट कांस्टेबल के साथ दैनिक निगरानी एवं फोन द्वारा स्वास्थ्य संबंधी सूचना ली जानी सुनिश्चित की जाए।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned