हाई वे स्थित होटलों पर लगी मिली नागौर शहर से चोरी हुई लाइटें

हाई वे स्थित होटलों पर लगी मिली नागौर शहर से चोरी हुई लाइटें

Dharmendra Gaur | Publish: Sep, 08 2018 10:01:15 PM (IST) Nagaur, Rajasthan, India

-2017 में दर्ज करवाया था एलईडी चोरी का मामला
नागौर. शहरवासी स्ट्रीट लाइटों के अभाव में अंधेरे में रहने का मजूबर है वहीं कंपनी द्वारा शहर में लगाई एलईडी लाइटों अठियासन स्थित होटलें रोशन हो रही है। नगर परिषद के गश्ती दल ने अठियासन में होटलों पर स्ट्रीट लाइटें देखी तो पता चला कि शहर से चोरी हुई लाइटें ही है। नगर परिषद सभापति कृपाराम सोलंकी ने बताया कि राज्य सरकार के साथ हुए समझौते के तहत ईईएसएल कंपनी ने शहर में रोड लाइटें लगाई थी, जिनमें से कई वार्डों में लाइटें चोरी हो गई। इस संबंध में गत वर्ष कोतवाली में रिपोर्ट भी दी थी, पुलिस आज तक कोई कार्रवाई नहीं कर सकी।


पुलिस की मदद से उतारी लाइटें
शहर के वार्डों में फिर से रोड लाइट चोरी होने की बात सामने आने पर नगर परिषद ने कंपनी के कर्मचारी, ठेकेदार, नगर परिषद के ठेकेदार समेत एईएन कलीम व अन्य कर्मचारियों की एक पेट्रोलिंग टीम बनाई है, जो रात भर शहर में गश्त कर पता लगाएगी कि कहां लाइटें नहीं है। टीम ने शुक्रवार को अठियासन में होटलों पर लाइटें लगी देखी। इसके बाद कोतवाली पुलिस की मदद से अलग-अलग होटलों पर लगी 23 लाइटें उतारी गई। इस संबंध में पूछताछ के दौरान होटल संचालकों ने ये लाइटें चेनार निवासी एक व्यक्ति से 700 रुपए प्रति नग खरीदना बताया।


कंपनी लगाएगी नई लाइटेें
सभापति सोलंकी ने बताया कि शहरवासियों की पीड़ा को समझते हुए गत दिनों कंपनी की प्रतिनिधि को नागौर बुलाकर रोड लाइटों के संबंध में वस्तु स्थिति से अवगत कराया था। कंपनी प्रतिनिध ने शहर में भ्रमण के बाद माना कि स्ट्रीट लाइटों के अभाव में शहरवासियों को परेशानी हो रही है। इसलिए जहां लाइटें नहीं हैं, उन पॉइंट को चिह्नित कर नई एलईडी लाइटें लगाई जाएगी। सोलंकी ने बताया कि शहर में लाइटें नहीं है फिर भी डिस्कॉम हर माह लाखों रुपए का बिल भेज रहा है, जबकि नगर परिषद का बिल तीन-चार लाख से ज्यादा नहीं आना चाहिए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned